पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

उज्जवला योजना:गैस टंकी के दाम बढ़े, 60 फीसदी भी नहीं करवा रहे हैं रिफििलंग

नीमच10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

महिलाओं को चूल्हे के धुंए में परेशान होकर भोजन बनाना न पड़े। इसके लिए केंद्र सरकार द्वारा प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत एलपीजी गैस कनेक्शन दिए थे। विशेषकर ग्रामीण क्षेत्र और गरीब परिवार की महिलाओं को ध्यान में रखकर यह योजना बनाई लेकिन सिलेंडर के रेट इतने बढ़ गए कि परिवार के लोगों ने गैस सिलेंडर एक तरफ रखकर चूल्हे पर भोजन बनाना शुरू कर दिया। जिले में करीब 70 हजार गैस कनेक्शन योजना के तहत दिए गए थे। अब स्थिति यह है कि 60 फीसदी लोग भी गैस सिलेंडर रिफिलिंग नहीं करवा रहे है।

सरकार ने ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को राहत देने के लिए 2016 में उज्जवला योजना प्रारंभ की थी। क्योंकि ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाएं जंगल से लकडियां बिनकर लाती है और मिट्टी के चूल्हे पर ही रोटी बनाने से लेकर पानी गर्म करने तक का काम करती है। ऐसे में उन्हें धुंए से परेशान होना पड़ता था। यहीं स्थिति शहरी क्षेत्र में गरीब परिवारों मेंं थी। जब योजना प्रारंभ हुई तब 2016 में सब्सिडी वाला सिलेंडर 484.74 रुपए में मिल रहा था, लेकिन पांच साल में यह 306.45 रुपए बढ़कर वर्तमान में 791.19 रुपए में मिल रहा है, जबकि बिना सब्सिडी वाला 846 रुपए को हो गया है।

ऐसे में महिलाएं जंगल से लड़की लाकर चूल्हे के धुंए में फिर से परेशान होने लगी है। यह स्थिति बनने से जिले में मात्र करीब 60 फीसदी ही सिलेंडर रिफिलिंग करवा रहे है। यदि शहरी क्षेत्र व ग्रामीण क्षेत्र की बात करें तो शहरी क्षेत्र में लोग कुछ ज्यादा रिफिलिंग करवा रहे है, जबकि ग्रामीण क्षेत्र में तो 40 फीसदी लोग भी रिफिल नहीं करवा रहे है। कुछ परिवार तो ऐसे है, जिन्होनें सालभर में एक बार भी रिफिलिंग नहीं करवाया है।

महंगा हुआ तो चूल्हे पर बनाने लगे खाना : ग्राम रहवार निवासी नीतू जाट ने बताया कि दो साल पहले गैस सिलेंडर लिया था। तब से अब तक तीन बार ही सिलेंडर खरीदा था। लगातार भाव बढ़ रहे है, कैसे पूर्ति करें। अंतिम बार कोरोना संक्रमण के दौरान मई में लाए थे, तब भी 600 रुपए का आया था, अब तो बहुत ज्यादा हो गए। इसलिए लकड़ी का ही उपयोग करते है।

2016 से अब तक ऐसे बढ़े भाव व कम होती गई सब्सिडी
वर्ष भाव सब्सिडी सब्सिडी वाले

2016 779.00 294.26 484.74
2017 700.50 211.75 488.75
2018 792.50 300.13 492.37
2019 763.00 254.48 508.52
2020 786.00 210.24 575.76
2021 846.00 54.81 791.19

अब विभाग क्या कर सकता
प्रधानमंत्री उज्जवला योजना पिछले साल बंद हो गई है। योजना के कनेक्शन भी नहीं हो रहे हैं। गैस सिलेंडर लेने के बाद अगर ग्रामीण रिफिलिंग नहीं करा रहे हैं, तो इसमें विभाग कुछ नहीं कर सकता। यह ग्रामीणों के स्वयं का काम है।- आरसी जांगडे, खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी नीमच

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज जीवन में कोई अप्रत्याशित बदलाव आएगा। उसे स्वीकारना आपके लिए भाग्योदय दायक रहेगा। परिवार से संबंधित किसी महत्वपूर्ण मुद्दे पर विचार विमर्श में आपकी सलाह को विशेष सहमति दी जाएगी। नेगेटिव-...

    और पढ़ें