पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नीमच अफीम फैक्टरी के जीएम यादव निलंबित:स्टाफ के बयान लिए, जब्त किए दस्तावेज , कोटा एसीबी टीम ने 16.32 लाख रुपए के साथ किया था गिरफ्तार

नीमच/मंदसौर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

अफीम किसानों से वसूली करके गाजीपुर जा रहे अफीम फैक्टरी के जीएम शशांक यादव को चार दिन पहले कोटा एसीबी टीम ने 16.32 लाख रुपए के साथ गिरफ्तार किया था। प्रकरण दर्ज करने के बाद कोर्ट ने चार दिन की रिमांड पर सौंप दिया। इधर, गाजीपुर व नीमच फैक्टरी के चीफ कंट्रोलर (सीसीएफ) अनिल रामटेके ने निलंबित जीएम शशांक के स्थान पर नीमच का अतिरिक्त प्रभार ज्वाइंट कमिश्नर डॉ. चितरंजन माझी को सौंप दिया है।

नीमच जांच करने पहुंची एसीबी टीम ने दूसरे दिन मंगलवार को सुबह 10 से शाम 7 बजे तक फैक्टरी में स्टाफ के प्रत्येक कर्मचारी से पूछताछ कर बयान दर्ज कर दस्तावेज भी जब्त किए हैं। कोटा एसीबी एएसपी चंद्रशील ने इस मामले की जांच एएसपी धर्मवीर को सौंपी है।

यादव ने जिन्हें हटाया उनके भी बयान लिए- कोटा एसीबी टीम के इंस्पेक्टर अजीत बगडोलिया ने मंगलवार को फैक्टरी में सभी विभागों के अधिकारियों, कर्मचारियों से चर्चा कर बयान लिए। इसमें जीएम यादव ने प्रभार लेने के बाद कई विभागों में बदलाव किया था। यादव ने जिन अधिकारी, कर्मचारियों की बदली की थी उनके भी बयान दर्ज किए गए। जनवरी से अब तक हुई सैंपलों की जांच का रिकॉर्ड व अन्य दस्तावेज भी जब्त किए। इन सभी की कोटा एसीबी में जांच के बाद विस्तार से खुलासा हो सकेगा।

सिंह व यादव को हटाया- चीफ कंट्रोलर अनिल रामटेके ने फैक्टरी का प्रभार डॉ. माझी को सौंपने के साथ ही लैब व कोडिंग विभाग में यादव के साथ मिलकर किसानों से वसूली करने वाले अजीतसिंह व दीपक यादव को सैंपलों की जांच प्रक्रिया से तत्काल हटा दिया है। डॉ. माझी को संपूर्ण जांच व इसमें जो दोषी मिल रहे हैं उनकी भूमिका की जांच करने की जिम्मेदारी दी गई है। इसमें जो भी अधिकारी व कर्मचारी दोषी होगा उसके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...