पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बिना अनुमति 7 दिन में बेचा 1740 लीटर बायो डीजल:बिना सुरक्षा व्यवस्था के कानका फंटे पर चल रहा पंप प्रशासन ने किया सील

नीमच9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बायो डीजल मशीन की सील करते खाद्य विभाग के अधिकारी। - Dainik Bhaskar
बायो डीजल मशीन की सील करते खाद्य विभाग के अधिकारी।

प्रशासन ने बुधवार को बगैर अनुमति के हाईवे पर कानका फंटे पर चल रहा बायो डीजल पंप सील कर दिया है। यहां सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं थे और दो कर्मचारी वाहन में बायो डीजल भर रहे थे। कलेक्टर के निर्देश पर टीम ने यह कार्रवाई की।

हाईवे स्थित कानका फंटे के पास अवैध तरीके से बायो डीजल पेट्रोल पंप का संचालन हो रहा था। कलेक्टर को इसकी शिकायत मिलने पर उन्होंने खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति जिला अधिकारी राजीव वर्मा को कार्रवाई के निर्देश दिए। बुधवार शाम 4 बजे जिला अधिकारी वर्मा ने टीम के साथ दबिश दी। जहां दो कर्मचारी बायो डीजल बेचते मिले। वर्मा ने कर्मचारियों से नापतौल विभाग व खाद्य विभाग की अनुमति मांगी तो इनके पास नहीं मिली। कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी विजय निनामा, जितेंद्र नागर ने पंचनामे की कार्रवाई की।

इसके बाद तीनों अधिकारी ने बायो डीजल बेचने की मशीन, टैंक को सील कर दिया। वर्मा ने बताया कि पंप का प्रोपराइटर नरेंद्रसिंह चुंडावत भदेसर जिला चित्तौड़गढ़, संचालक मनीष सोलंकी है। पंप चुंडावत व निंबाहेड़ा देवकरण सोमानी मिलकर चला रहे थे। पंप सील कर दिया है।

संचालक व प्रोपराइटर बोले अभी पंप शुरू नहीं किया
जिला आपूर्ति अधिकारी ने बताया कि पंप के कर्मचारियों के अनुसार करीब 2 हजार लीटर बायो डीजल टेस्टिंग के लिए मंगवाया था। एक सप्ताह पहले पंप शुरू किया। अब तक 1740 लीटर बायो डीजल 78 रुपए लीटर के हिसाब से बेचा गया है। इस संबंध में संचालक देवकरण सोमानी से बात की तो उन्होंने बताया कि मुझे कार्रवाई की जानकारी नहीं है। अभी पंप शुरू ही नहीं किया। कर्मचारियों ने बायो डीजल कैसे बेच दिया इसकी जानकारी लेता हूं। प्रोपराइटर नरेंद्रसिंह चुंडावत ने कहा कि पंप अभी शुरू नहीं किया। कार्रवाई की जानकारी नहीं है।

पंप सील करवाया-

  • कानका फंटे पर अवैध तरीके से बायो डीजल पंप संचालन की जानकारी मिली थी। जिसकी जांच करवाई। इसमें लापरवाही सामने आई है। पंप को सील कर दिया है। इस पंप का संचालन किसने शुरू किया। इसमें कौन-कौन लोग शामिल है। इसकी जांच रिपोर्ट मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। - मयंक अग्रवाल, कलेक्टर- नीमच
खबरें और भी हैं...