साड़ी कॉम्प्लेक्स:शहर के बीच 200 दुकानों का बनेगा

रतलाम6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
साड़ी कॉम्प्लेक्स पर चर्चा करते दी न्यू सुपर क्लॉथ मर्चेंट्स एसोसिएशन के पदाधिकारी व सदस्य। - Dainik Bhaskar
साड़ी कॉम्प्लेक्स पर चर्चा करते दी न्यू सुपर क्लॉथ मर्चेंट्स एसोसिएशन के पदाधिकारी व सदस्य।

सेंव और सोने के बाद अब शहर में साड़ी कॉम्प्लेक्स को जमीन पर उतारने की तैयारी है। यह शहर के बीच बनेगा। तीन से चार लोकेशन पर विचार चल रहा है। रविवार को दी न्यू सुपर क्लॉथ मर्चेंट्स एसोसिएशन ने विधायक चेतन्य काश्यप के सुझाव पर साड़ी कॉम्प्लेक्स का प्रारंभिक खाका खींच लिया है। इसके मुताबिक कॉम्प्लेक्स लगभग 200 दुकानों का बनेगा। इसमें साड़ी के साथ सूट और शर्टिंग की दुकानें भी खोली जा सकेंगी। पार्किंग एरिया, एटीएम और रेस्टोरेंट के साथ व्यापारियों और खरीदारों की सुविधा के लिए तमाम इंतजाम रहेंगे।

रविवार को हुई मीटिंग में एसोसिएशन के 300 सदस्यों में से 110 से ज्यादा ने कॉम्प्लेक्स में दुकानें खोलने की सहमति दे दी है। एसोसिएशन विधायक काश्यप से मिलकर योजना बता देगा। उसके अनुसार योजना को आगे बढ़ाया जाएगा। मीटिंग में चंदनमल दख, सुरेशचंद बरमेचा, विकास चरपोटा, संजय भंडारी, रामलाल कांसवा, रोहित रूनवाल, अल्पेश नागौरी, सचिन कांसवा, राजेंद्र, अरुण चपरोट, अनिल कोठारी, श्रीपाल भंडारी, हेमंत दख मौजूद रहे।

ये है साड़ी कॉम्प्लेक्स की प्रारंभिक योजना

  • तीन से चार मंजिला बनेगा, मेट्रो सिटी की तरह सुविधाएं उपलब्ध होंगी।
  • शहर के बीच बनेगा, इसमें भी दो बत्ती क्षेत्र, करमदी रोड, सैलाना बस स्टैंड, महू रोड, सागोद रोड सबसे उपयुक्त रहेंगे।
  • 20 बाय 50 या 30 बाय 50 की स्पेस प्रत्येक व्यापारी को मिलेगी। इसमें दुकानें और शोरूम खुलेंगे।
  • सबसे ऊपरी मंजिल पर गोदाम के लिए अलग से स्पेस रहेगा।
  • सुरक्षा के लिए गार्ड, सीसीटीवी कैमरे की भी व्यवस्था होगी।

हर साल 120 करोड़ से ज्यादा का कारोबार :

  • मध्यप्रदेश के साथ सीमावर्ती राजस्थान, गुजरात के जिलो में रतलाम को साड़ी, सूट व शर्टिंग के कारोबार के लिए छोटा सूरज कहा जाने लगा है।
  • शहर में लगभग 320 से ज्यादा रिटेल और होलसेल व्यापारी हैं। 100 बड़े व्यापारी हैं। सालाना 120 करोड़ से ज्यादा का कारोबार होता है।
  • वर्तमान में पोरवाड़ों का वास, चौमुखीपुल, नौलाईपुरा, आदि क्षेत्रों में साड़ियों की दुकानें और शोरूम हैं।
खबरें और भी हैं...