पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

खाली हाथ लौटे:एटीएस की दबिश के पहले खबर मिली, बाबू शूटर का दाहिना हाथ अकरम फरार

रतलामएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • दोपहर में किसी ने फोटो लेकर पूछताछ की तो आरोपी हो गया सतर्क

गौतमपुरा के हथियार तस्कर बाबू शूटर का दाहिने हाथ अकरम उर्फ वसीम को पकड़ने भोपाल से आई एटीएस ने शनिवार रात जवाहरनगर सी कॉलोनी स्थित उसके घर दबिश दी। दोपहर को मोहल्ले में किसी ने अकरम के बारे में पूछताछ की। भनक लगने पर दबिश से पहले वह गायब हो गया। आसपास के लोगों और रिश्तेदारों के यहां पूछताछ करने और घर की तलाशी लेने के बाद दबिश के लिए भोपाल से आई टीम खाली हाथ लौट गई। जानकारी के अनुसार सज्जनमिल रोड पर टेलर की दुकान वाले अब्दुल मजीद शाह और उनके पांच भाइयों का संयुक्त परिवार जवाहर नगर सी काॅलोनी के मकान नंबर 286 में रहता है। मकान ऊपरी मंजिल पर बने पतरे की छत के तीन कमरों में से बीच वाला कमरा अकरम उर्फ वसीम का है। हथियारों का जखीरा मिलने की सूचना पर अकरम को पकड़ने भोपाल से एटीएस के एसआई पीएस रावत टीम के साथ रतलाम आए थे। शाम करीब 7:30 बजे स्टेशन रोड टीआई किशोर पाटनवाला और आईए थाना प्रभारी दीपक मंडलोई के साथ 20 सशस्त्र जवान और वज्र वाहन लेकर जवाहर नगर सी कॉलोनी स्थित मकान पर दबिश दी। मकान को जवानों ने आगे-पीछे से घेर लिया। सब इंस्पेक्टर रावत, थाना प्रभारी पाटनवाला और मंडलोई जवानों के साथ ऊपर के कमरे में पहुंचे जहां अकरम की पत्नी निदा और उसके तीन बच्चे मिले। मकान में सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। पुलिस दल ने जवाहरनगर स्थित मकान और सज्जन मिल रोड स्थित दुकान की तलाशी ली और सीसीटीवी फुटेज देखे। दो घंटे तलाशी के बाद 9:30 बजे पुलिस दल लौट गया।

राजस्थान और मध्यप्रदेश में अकरम के खिलाफ हत्या, हत्या का प्रयास, फिरौती और डकैती की योजना बनाने के मामले दर्ज हैं। तत्कालीन एसपी रमनसिंह सिकरवार के कार्यकाल में भाजपा नेता जितेंद्र हिंगड़ की हत्या के लिए रतलाम आए 4 शूटरों को एसपी स्क्वॉड ने 29 अगस्त 2012 को गिरफ्तार कर एक पिस्टल, दो कट्‌टे और दो रिवाॅल्वर जब्त किए थे। गिरफ्तार आरोपियों में अकरम भी था। इसके बाद अकरम ने प्रतापगढ़ नपा अध्यक्ष कमलेश डोसी के सुदामा नगर स्थित मकान पर 17 अप्रैल 2014 को गोली चलाई थी। अकरम पर कोटा के गुमानपुरा थाने में भी हत्या का तथा मंदसौर के कोतवाली थाने में हत्या के प्रयास तथा डकैती की योजना बनाते गिरफ्तार करने का मामला दर्ज है।

कब आता है कब चला जाता है पता नहीं
परिजन के अनुसार दो भाई और एक बहन में अकरम सबसे बड़ा है। चचेरे भाई अरबाज ने बताया वह घर कब आता है और कब चला जाता है पता नहीं। अकरम को पकड़ने पुलिस आती रहती है। कभी मिल जाता है कभी भाग जाता है। तीन दिन से वह घर पर था। सुबह किसी ने फोटो दिखाकर अकरम के बारे में पूछा था। इसके बाद से वह गायब हो गया।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें