• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ratlam
  • Alishan Had Attempted Suicide Two Years Ago By Slitting Her Arm Vein, SIT Will Go To Odisha Khandwa And Hyderabad

स्कूल परिसर में ट्रेनी नन द्वारा आत्महत्या करने का मामला:दो साल पहले भी हाथ की नस को काटकर आत्महत्या का प्रयास कर चुकी थी अलीशान, एसआईटी ओडिशा खंडवा और हैदराबाद जाएगी

रतलामएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो

सेंट जोसफ कॉन्वेंट स्कूल में उड़ीसा निवासी ट्रेनी नन अलीशान लोम्गा द्वारा आत्महत्या करने के मामले में पुलिस को परिजन से पुलिस को जानकारी मिली है कि दो साल पहले भी अलीशान हाथ की नस काटकर आत्महत्या का प्रयास कर चुकी है। रतलाम आने से पहले वह खंडवा और हैदराबाद रही है। एसपी गौरव तिवारी ने बताया परिजन के बयान की पुष्टि और आत्महत्या करने का कारण पता करने के लिए एसआईटी टीम खंडवा, हैदराबाद और सुंदरगढ़ (ओडिशा) जाएगी। शनिवार को हुए पोस्टमार्टम की रिपोर्ट पुलिस को मंगलवार तक नहीं मिल पाई है।

गुरुवार रात कॉन्वेंट स्कूल में ट्रेनी नन और 11वीं कक्षा की छात्रा अलीशान पिता लेब्रियल लोम्गा ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। परिजन के आने के बाद शनिवार को जिला अस्पताल में पोस्टमार्टम हुआ। रतलाम पहुंचने के बाद परिजन कॉन्वेंट स्कूल प्रबंधन के घेरे में रहे। प्रबंधन के लोगों ने परिजन को मीडिया से बात नहीं करने दी। इतना ही नहीं कब्रिस्तान के दरवाजे पर ताला लगवाकर अंतिम संस्कार की प्रक्रिया पूरी की।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अलीशान के पिता लेब्रियल लोम्गा सुंदरगढ़ (ओडिशा) में एलआईसी एजेंट हैं। बड़ा भाई अखिलेश सुंदरगढ़ में ही कॉलेज में पढ़ता है। झारखंड निवासी बुआ की लड़की नन बन चुकी है। वर्तमान में वह खंडवा में है। ट्रेनी नन द्वारा आत्महत्या करने के कारणों की जांच के लिए एसपी ने सोमवार को एसआईटी गठित की है।

परिजन की शंका : पढ़ने में पिछड़ जाने से की आत्महत्या

परिजन ने पुलिस को बताया अलीशान पढ़ने में तेज थी। क्लास में हमेशा फर्स्ट आती थी। नवीं क्लास में चौथे स्थान पर रहने के कारण उसने हाथ की नस काटकर आत्महत्या का प्रयास किया था। दसवीं में पढ़ती थी तब ल़ॉकडाउन लग गया था। स्कूल की छुटि्टयां होने के कारण अंग्रेजी सीखने के लिए हैदराबाद गई थी। सुंदरगढ़ में ऑफलाइन पढ़ाई नहीं हो रही थी इसलिए खंडवा के कॉन्वेंट स्कूल में 11वीं में एडमीशन के लिए मई में आई थी। मई-जून में फुफेरी बहन के साथ खंडवा स्कूल में ही रही। वहां एडमीशन नहीं हुआ। परिजन ने बताया रतलाम के स्कूल में सीट खाली थी तो उसे भेज यहां दिया।

गांव की एक और लड़की साथ पढ़ती है- जानकारी के अनुसार संुंदरगढ़ (उड़ीसा) निवासी एक और लड़की रतलाम कॉन्वेंट स्कूल में अलीशान के साथ पढ़ाई कर रही है। पुलिस को उसने बताया कि नवंबर अंतिम सप्ताह में खत्म हुई परीक्षा में अलीशान को नंबर कम मिले थे। रिजल्ट मिलने के बाद उसने कहा था कि यहां की पढ़ाई काफी कठिन है।

परिजन को स्कूल से अलग ठहराया है- एसपी गौरव तिवारी ने बताया अलीशान के परिजन स्कूल प्रबंधन के दबाव में न रहें इसलिए उनके ठहरने की व्यवस्था स्कूल से अलग की गई है। एसआईटी की जांच पूरी होने तक उन्हें रतलाम में ही रुकने को कहा है। एसपी ने बताया सिर में चोट के कारण घटना का रिक्रिएशन करवाकर परीक्षण किया है। हत्या की शंका नहीं है।

खबरें और भी हैं...