• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ratlam
  • Both Oxygen Plants Closed At 6.30 Pm, 100 Cylinders Collected From Nagda At 10 Pm, 54 Arrived At Night Only

अटकी सांसें:शाम 6.30 बजे ऑक्सीजन के दोनों प्लांट बंद, रात 10 बजे नागदा से जुटाए 100 सिलेंडर, 54 रात को ही पहुंचे

रतलाम6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीएम को स्थिति बताई तब मिली ऑक्सीजन(प्रतिकात्मक फोेटो) - Dainik Bhaskar
सीएम को स्थिति बताई तब मिली ऑक्सीजन(प्रतिकात्मक फोेटो)
  • सीएम को स्थिति बताई तब मिली ऑक्सीजन

बुधवार रात कोविड अस्पतालों में भर्ती 95 से ज्यादा संक्रमितों की सांस अटकते-अटकते बची। दरअसल मालवा ऑक्सीजन के बाद शाम 6.30 बजे महावीर प्लांट भी लिक्विड ऑक्सीजन नहीं होने से बंद हो गया। उस समय 100 से ज्यादा सिलेंडर रिफिलिंग के लिए पड़े थे।

प्लांट के बंद होने की जानकारी लगते ही निजी अस्पताल संचालकों के होश फाख्ता हो गए क्योंकि उनके पास एक या दो घंटे की ऑक्सीजन ही बची थी। जानकारी लगने पर विधायक चेतन्य काश्यप और कलेक्टर गोपालचंद्र डाड भी सकते में आ गए।

आखिर में कोविड प्रभारी मंत्री जगदीश देवड़ा और विधायक काश्यप ने सीधे मुख्यमंत्री को सारी स्थिति बताई। इसके बाद रात साढ़े 10 बजे उज्जैन से 5 एमटी आक्सीजन की व्यवस्था हुई। नागदा प्लांट से 100 में से 54 सिलेंडर देर रात यहां पहुंच गए। हालांकि इस बीच आयुष ग्राम कोविड अस्पताल को 15, जबकि कुछ सिलेंडर सीएचएल को दिए गए।

सिर्फ चार घंटे की ऑक्सीजन बची मेडिकल कॉलेज में

सबसे बड़े कोविड अस्पताल मेडिकल कॉलेज में भी बुधवार रात 11 बजे तक सिर्फ चार घंटे की ऑक्सीजन ही बची थी। डीन डॉ. जितेंद्र गुप्ता ने बताया हर 45 सेकंड में एक सिलेंडर खत्म हो रहा है। कल रात एक टैंकर 10 एमटी ऑक्सीजन लेकर आया था। वह भी तीन से चार घंटे में खत्म हो जाएगी। कुछ समझ नहीं आ रहा क्या हो रहा है।

आयुष ग्राम कोविड हॉस्पिटल के डॉ. राजेश शर्मा ने बताया आईसीयू में हर 20 मिनट में एक सिलेंडर खत्म हो रहा है। रात को सिर्फ 15 ही मिले हैं। मरीजों को दूसरे अस्पताल में ले जाने की सलाह भी दे रहे हैं। स्थिति बहुत खराब है।

उज्जैन और नागदा से ऑक्सीजन सिलेंडर मिले हैं। पहले निजी अस्पतालों की पूर्ति की जाएगी। मेडिकल कॉलेज को कल टैंकर देंगे
- चेतन्य काश्यप, शहर विधायक

बमुश्किल इंतजाम हो गया है। कुछ घंटे में सिलेंडर शहर में पहुंच जाएंगे। लगातार सप्लाई बनी रहे इसकी कोशिश में लगे हुए हैं।
- गोपालचंद्र डाड, कलेक्टर-रतलाम

खबरें और भी हैं...