पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सामूहिक बहिष्कार:गोपालपुरा में हत्या के आरोपियों से संबंधित परिवारों का बहिष्कार, दहशत से नहीं आ रहे

रतलाम13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मार्च से रावटी में आए आरोपियों के रिश्तेदार अब तक गांव में वापस नहीं जा पाए हैं। - Dainik Bhaskar
मार्च से रावटी में आए आरोपियों के रिश्तेदार अब तक गांव में वापस नहीं जा पाए हैं।
  • 11 मार्च को जमीन विवाद के चलते की थी युवक की हत्या

सरवन के पास ग्राम गोपालपुरा में युवक की हत्या के बाद गांव के लोगों ने आरोपियों के रिश्तेदारों का सामूहिक बहिष्कार कर दिया है। 11 मार्च को हुई हत्या के बाद 23 मार्च को मौसर कार्यक्रम में आए रिश्तेदारों ने आरोपियों के रिश्तेदारों के घरों में तोड़फोड़ की। तोड़फोड़ करने वालों के आतंक के कारण आरोपियों के रिश्तेदार गांव में नहीं आ पा रहे हैं। यही स्थिति रावटी के पास गुंदीपाड़ा में तिहरे हत्याकांड के बाद बनी थी। मार्च से रावटी में आए आरोपियों के रिश्तेदार अब तक गांव में वापस नहीं जा पाए हैं।

जानकारी के अनुसार जमीन विवाद के कारण गोपालपुरा निवासी हरीश पिता प्रहलाद डिंडोर की हत्या 11 मार्च को पत्थर से सिर कुचलकर उसके काका विश्राम डिंडोर, उसके बेटे साधूलाल व मुकेश तथा बेटी कन्या ने कर दी थी। हत्या के बाद पुलिस ने चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। मृतक परिवार के रिश्तेदारों से डरकर आरोपियों के रिश्तेदार गांव छोड़कर चले गए।

23 मार्च को मौसर कार्यक्रम में आए रिश्तेदारों ने आरोपियों और उनके रिश्तेदारों के मकानों में तोड़फोड़ की। गोपालपुरा निवासी रकमा पिता जीवा डिंडोर ने सरवन थाने में दस आरोपी पंकज डिंडोर, प्रेम पिता कैलाश, देवुड़ा पिता रामा, कालू पिता देवुड़ा, पिता रामा, राजेश पिता हीरा, मगन पिता वीरजी, देवीलाल पिता वीरजी, कालूराम पिता सुखराम, वरसिंह पिता गौतम डिंडोर सभी निवासी गोपालपुरा के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवाई।

रोकने वालों पर कार्रवाई की जाएगी : एसपी गौरव तिवारी ने बताया कि गांव में रहने से रोकना गैर-कानूनी है। ऐसे लोगों की पहचान कर कार्रवाई की जाएगी।

चार मकानों में की तोड़फोड़

गोपालपुरा निवासी रकमा ने बताया उसके तथा विश्राम के भाई नारायण के बेटे आशू, पूनमचंद और लालू के मकानों में तोड़फोड़ हुई है। सभी परिवार सहित गांव छोड़कर चले गए हैं। मृतक के रिश्तेदार वापस गांव में आने नहीं दे रहे हैं। तोड़फोड़ की जानकारी मिलने पर सरवन थाने में रिपोर्ट लिखवाई है।

पटेल था हरीश

जानकारी के अनुसार गोपालपुरा में 30 मकान हैं। इनमें 12 परिवार डिंडोर समाज के तथा 8-8 मकान खराड़ी और मईड़ा परिवार के हैं। मृतक हरीश के पिता प्रहलाद डिंडोर गांव के पटेल थे। उनके निधन के बाद पटेली का काम हरीश संभालता था।

हरीश की हत्या के बाद विश्राम, उसके दो बेटे साधूलाल और मुकेश तथा बेटी कन्या जेल में हैं। बेटों की पत्नियां व नाती-पोते सहित 6 परिवार गांव से चले गए हैं। गांव वालों का कहना है कि भांजगड़े की बैठक में दूसरा पटेल निर्धारित होगा व मुख्य आरोपी विश्राम पर दंड आरोपित होने के बाद ही सुलह हो पाएगी।

गुंदीपाड़ा (रावटी) में भी यही स्थिति

जमीन विवाद के चलते रावटी के पास गुंदीपाड़ा में 5 जून 2020 को कटारा समाज के तीन युवकों की हत्या भाभर समाज के आरोपियों ने कर दी थी। पुलिस ने सभी 14 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। घटना के बाद भाभर समाज के लोग गांव छोड़कर चले गए। मार्च 2021 में गांव में रहने वापस आए लोग अब तक गांव में नहीं जा पाए हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

    और पढ़ें