पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ratlam
  • Children Should Be Called By Odd even Formula, State Ministers Will Ask For Suggestions To Open Schools

स्कूल खोलने की तैयारी:ऑड-ईवन फॉर्मूले से बच्चों को बुलाया जाए, प्रदेश के मंत्री स्कूल खोलने के लिए मांगेंगे सुझाव

रतलाम24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना संक्रमण के बीच नए शैक्षणिक सत्र से स्कूल खोलने की तैयारी की जा रही है। इसके लिए मंत्री समूह का गठन किया है जो सुझाव लेंगे। इसके लिए 6 मंत्री समूह का गठन किया है। इसमें विशेषज्ञों का सुझाव है कि ऑड-ईवन के आधार पर बच्चों को एक दिन छोड़कर जा सकता है।
शर्तों के साथ खुलेंगे स्कूल :

समिति बनाई है। उसमें डिसाइड कब से स्कूल खोलने की तैयारी है। किन शर्तों के आधार पर खोले जाए। खुलना चाहिए। शासकीय एवं निजी विद्यालयों अन्य शिक्षा प्रशिक्षण गतविधियों को संचालन कोविड गाइड लाइन के अनुसार होना चाहिए। शासकीय स्कूल कापी किताबों का वितरण किया जाएगा।
मंत्री समूह में इन्हें शामिल किया
इसमें तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं रोजगार विभाग मंत्री यशोधराराजे सिंधिया, जनजातीय कार्य अनुसूचित जाति कल्याण विभाग मंत्री मीनासिंह मांडवे, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग, उच्च शिक्षा विभाग डॉ. मोहन यादव, स्कूल शिक्षा विभाग मंत्री इंदरसिंह परमार, आयुष, जलसंसाधन विभाग मंत्री राम किशोर कावरे को लिया है।

वहीं प्रमुख सचिव मप्र शासन, स्कूल शिक्षा विभाग इस समूह के समन्वयक होगी। समूह अपने सुझावों का अंतिम रूप देने से पूर्व देने से पूर्व जिला, विकासखंड, ग्राम एवं नगर स्तर पर कार्यशील क्राइसिस मैनेजमेंट समितियों एवं विषय विशेषज्ञों से भी विचार विमर्श कर सकेगा।

सवा साल से स्कूल बंद हैं, अब तो खुलना चाहिए
मप्र प्रांतीय अशासकीय शिक्षण संस्था संघ के प्रदेश अध्यक्ष दीपेश ओझा ने बताया सवा साल से स्कूल बंद है। कई छोटे स्कूल तो बंद ही हो गए हैं। वहीं बच्चों का भी भविष्य खराब हो रहा है। हम सभी स्कूल संचालकों की तो मंत्रियों के समूहों की एक ही राय है कि स्कूल खोले जाएं ताकि बच्चों का भविष्य सुधर सके।

इसके लिए हमारा तो यही सुझाव है कि धीरे-धीरे स्कूल खोले जाएं। पहले 9 से 12वीं तक फिर मिडिल और फिर प्राइमरी स्कूल खोले जाएं। वहीं एक दिन छोड़कर एक दिन ऑड ईवन के हिसाब से बुलाया जाए। ताकि सोशल डिस्टेसिंग का पालन भी होगा और पढ़ाई भी हो सकेगी।

खबरें और भी हैं...