पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ratlam
  • Dengue Cases Being Found Two Months Ago This Year, 5 Patients Were Found In July Last Year, This Time 21 So Far

झमाझम न होने का असर:इस साल दो माह पहले मिल रहे डेंगू के केस, पिछले साल जुलाई में 5 मरीज मिले थे, इस बार अब तक 21

रतलाम11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डेंगू के केस - Dainik Bhaskar
डेंगू के केस
  • कंस्ट्रक्शन साइट, मैरिज गार्डन में अगर लार्वा मिला तो चालान कटेगा
  • पीएचई को लिखा - जिले में पानी की सप्लाई लगातार हो ताकि लोगों को इसका स्टोरेज ना करना पड़े

बारिश की खेंच का निगेटिव इफेक्ट सामने आना शुरू हो चुका है। फसलें प्रभावित है, शहरवासियों के स्वास्थ्य पर असर पड़ रहा है। इस साल शहर में दो महीने पहले डेंगू की दस्तक हो गई है, आए दिन मामले सामने आ रहे हैं। सिर्फ जुलाई में एलाइजा और एंटीजन को मिलाकर 21 केस मिल चुके हैं। जबकि, पिछले साल 5 मामले ही सामने आए थे।
जिले में कोरोना थमने के बाद डेंगू के केस मिलने शुरू हो गए हैं। जुलाई के 21 दिन में अब तक 21 मामले सामने आ चुके हैं। इनमें एलाइजा टेस्ट कंफर्म 9 है। वहीं, 12 केस किट टेस्ट मंे पॉजिटिव निकले हैं। एलाइजा टेस्ट ज्यादातर उन लोगों का लिया जाता है, जिनके प्लेटलेट्स 50 हजार से कम होते हैं। डेंगू का यह आंकड़ा चौंकाने वाला है, ऐसा इसलिए क्योंकि 2020 में सितंबर तक सिर्फ 5 पॉजिटिव सामने आए थे। 28 सितंबर को इंद्रलोक नगर में डेंगू के दो मामले मिले थे, इसके बाद संख्या तेजी से बढ़ना शुरू हो गई थी। अक्टूबर और नवंबर तक मामले मिले थे। 2020 में कुल 42 मामले सामने आए थे।
ज्यादा केस क्योंकि... जुलाई में उमस रही जो मच्छरों के लिए बेहतर है
जिले में इस साल केस बढ़ने का एक कारण रुक-रुककर हो रही बारिश है। जुलाई में बारिश ने खूब परेशान किया है, अब तक तेज बारिश का इंतजार है। जुलाई के शुरुआती दिनों में बारिश हो रही थी। लेकिन, एकसाथ बारिश नहीं हुई। गड्ढों में पानी जमा रहा। बारिश के सिर्फ 6 दिन ही रहे। मलेरिया अधिकारी डॉ. प्रमोद प्रजापति ने बताया बारिश तेज नहीं होने के साथ उमस खूब रही, जो कि मच्छरों के पनपने के लिए उपयुक्त मौसम है।

2018 में ठंड से बढ़ा डेंगू... सालभर में मिले थे 242 केस
डेंगू को लेकर अब तक का सबसे खराब साल 2018 रहा है। इस दौरान सालभर में 242 केस सामने आए थे। 2019 में 150 से ज्यादा मामले थे। दोनों सालों में डेंगू के मामले ठंड में बढ़े थे, इस बार बारिश की शुरुआत में एक साथ इतने मामले चौंका रहे हैं।

अब नगर निगम के साथ कार्रवाई करेगी टीम
मलेरिया अधिकारी डॉ. प्रमोद प्रजापति ने पीएचई को पानी की सप्लाई लगातार बनाए रखने का कहा है। ताकि लोगों को स्टोरेज ना करना पड़े। किसी भी कंस्ट्रक्शन साइट, मैरिज गार्डन, प्याऊ सेंटर में डेंगू का लार्वा मिलने पर चालानी कार्रवाई की जाएगी। नगर निगम और मलेरिया विभाग की टीम साथ काम करेंगी।

घरों के आसपास पानी जमा न होने दें

  • तेज बारिश में लार्वा फ्लश आउट हो जाता है। इस बार ऐसा नहीं हुआ, मौसम मच्छरों के लिए अनुकूल है। सावधानी रखना होगी। पानी जमा ना होने दें। घरों के आसपास गड्ढ़े में पानी है, तो तेल डाल दें। कूलर में ज्यादा दिन पानी ना रखें। तबीयत बिगड़ने पर डॉक्टर से संपर्क करें। -डॉ. प्रमोद प्रजापति, मलेरिया अधिकारी, रतलाम
खबरें और भी हैं...