• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ratlam
  • Electricity Consumption Increased 10 Percent In December Compared To November Due To Increased Demand In Irrigation And Industries

बिजली की डिमांड बढ़ी:सिंचाई और उद्योगों में मांग बढ़ने से बिजली की खपत नवंबर की तुलना में दिसंबर में 10 प्रतिशत बढ़ी

रतलाम10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अभी कहां-कितनी खपत - Dainik Bhaskar
अभी कहां-कितनी खपत
  • राेज 73 लाख यूनिट की मांग, पिछले माह 65 लाख यूनिट ही थी डिमांड

मौसम ठंडा होने के बावजूद हर दिन बिजली की डिमांड में इजाफा हो रहा है। एक माह में बिजली की डिमांड दस फीसदी बढ़कर 73 लाख यूनिट के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है। डिमांड बढ़ने से आपूर्ति प्रभावित ना हो इसलिए बिजली कंपनी टीम जुटी है ताकि लोगों को भरपूर बिजली मिले।

बिजली की डिमांड में तेजी की वजह घरेलू और औद्योगिक डिमांड के साथ जिले में बड़े पैमाने पर सिंचाई होना है। सिंचाई बढ़ने से बिजली की डिमांड बढ़ रही है डिमांड नए रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है। रतलाम के साथ मंदसौर, नीमच सहित पूरे कंपनी क्षेत्र में बिजली की डिमांड में इजाफा हुआ है। पिछले महीने तक पूरे कंपनी क्षेत्र में 5400 मेगावॉट बिजली की डिमांड थी। अब डिमांड 6108 मेगावॉट पर पहुंच गई है। चूंकि सिंचाई का सीजन चल रहा है। इससे डिमांड आगे भी जोरदार बनी रहने की संभावना है।

बिजली की डिमांड पिछले माह की तुलना में ज्यादा है
मप्रपक्षेविविकं के प्रबंध निदेशक अमित तोमर ने बताया कि एक माह में बिजली मांग में 700 मेगावाॅट की बढ़ाेतरी हुई है। नवंबर के तीसरे सप्ताह में बिजली की मांग 5400 मेगावाट दर्ज की थी, यह अब 6108 मेगावाट हो गई है। गैर घरेलू उपभोक्ता मांग में इजाफा हुआ है। गैर घरेलू श्रेणी के तीनों वर्ग के उपभोक्ताओं औद्योगिक, कृषि एवं दुकान, माल्स में खपत बढ़ी है। आपूर्ति प्रभावित ना हो इसका ध्यान रख रहे हैं। आपूर्ति को लेकर पर्यवेक्षण हो रहा है, जहां भी समस्या आती है उसका सुधार किया जा रहा है।

पंचायत, पानी और स्ट्रीट लाइट के 9 करोड़ बाकी
रतलाम |
पंचायत भवन, वॉटर वर्क और स्ट्रीट लाइट का 9 करोड़ रुपए का बिजली का बिल बकाया है। राशि एक से तीन साल की है। मुख्यालय से जानकारी मांगने पर बिजली कंपनी ने पंचायतों की जानकारी भेजी है। बिजली कंपनी के डीई ग्रामीण जयपाल ठाकुर ने बताया बिजली कंपनी बकाया बिल जमा नहीं कराने पर 65 से ज्यादा पंचायतों के कनेक्शन काट चुकी है। पंचायत भवनों पर बिजली कंपनी का दो से तीन साल का बकाया है वॉटर वर्क और स्ट्रीट लाइट का एक से डेढ़ साल का बकाया है।

खबरें और भी हैं...