पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लॉकडाउन में लोकल फॉर वोकल भी लॉक:ई कॉमर्स कंपनियों को होम डिलीवरी की छूट, लोकल कारोबारियों को इजाजत नहीं

रतलामएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राजस्व काॅलोनी में डिलीवरी बॉय। - Dainik Bhaskar
राजस्व काॅलोनी में डिलीवरी बॉय।
  • शहर के कारोबार पर असर, ऑटोमोबाइल सेक्टर की नवरात्रि बिगड़ी, इलेक्ट्राॅनिक शोरूम संचालकों का गर्मी का सीजन भी बेकार गया

एक तरफ तो सरकार लोकल फॉर वोकल की बात कर रही है और लोकल व्यवसाय को बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं। वहीं दूसरी और कोरोना कर्फ्यू की वजह से हमारे शहर में लोकल कारोबारियों की दुकानें तो बंद हैं और तो और उन्हें होम डिलीवरी की भी छूट नहीं दी जा रही है। जबकि दूसरी ओर ई काॅमर्स कंपनियों को इसकी पूरी तरह छूट है।

ई कॉमर्स कंपनियां ऑनलाइन ही गारमेंट्स के साथ ही इलेक्ट्राॅनिक वस्तुएं तो बेच रही हैं व साथ ही घर पहुंचकर बाकायदा होम डिलीवरी भी कर रही हैं। कोरियर कंपनी के 100 से ज्यादा कर्मचारी कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच एक हजार से ज्यादा घरों पर पहुंच लोगों को अपने पसंदीदा सामान की होम डिलीवरी दे रहे हैं। इसमें इलेक्ट्राॅनिक सामान तक शामिल है।

यही नहीं 60 फीसदी से ज्यादा कैश ऑन डिलीवरी दे रहे हैं। यानी लोगों के घरों में पहुंचकर उनसे रुपए भी ले रहे हैं। इसके बाद भी उन्हें छूट है। जबकि शहर में कोरोना ना बढ़ जाए इसके लिए लोकल व्यापारियों की होम डिलीवरी पर रोक लगा रखी है। जिला प्रशासन का यह दोहरा रवैया व्यापारियों के भी गले नहीं उतर रहा है।

पहले कार नहीं ले पाए, अब कूलर और एसी

13 अप्रैल से नवरात्रि शुरू होने वाली थी। इससे एक अप्रैल से ही लोगों ने पसंद की कारों की बुकिंग शुरू कर दी थी। इससे 100 से ज्यादा कारों की बुकिंग नवरात्रि के लिए हो चुकी थी तभी 9 अप्रैल से लॉकडाउन लग गया। इसके बाद जिन्होंने शुभ मुहूर्त में कारें बुकिंग करा रखी थीं। कम से कम कारें उनके घरों तक पहुंच जाएं। ऑटोमोबाइल सेक्टर ने जिला प्रशासन से होम डिलीवरी की मांग की थी। ये अलग बात है कि यह अनुमति उन्हें आज तक नहीं मिल पाई है।

इलेक्ट्राॅनिक सामान की बिक्री भी चैत्र नवरात्रि में खूब होती है। इसी दरम्यान गर्मी भी रहती है और नवरात्रि भी। इससे कई लोग एसी, कूलर के साथ ही इलेक्ट्राॅनिक सामान नवरात्रि के दरम्यान ही खरीदते हैं। चूंकि गर्मी रहती है। इससे इलेक्ट्राॅनिक बाजार पूरी गर्मी चलता है और कूलर, एसी के साथ ही अन्य इलेक्ट्राॅनिक सामान भी खूब बिकते हैं लेकिन इस बाजार की नवरात्रि तो बिगड़ी ही साथ ही अभी गर्मी चल रही है।

पिछले साल थी होम डिलीवरी की छूट

पिछले साल लगे लॉकडाउन में किराना व्यापारी, दूध कारोबारियों के साथ ही इलेक्ट्रॉनिक कारोबारियों व ऑटोमोबाइल सेक्टर को भी होम डिलीवरी की छूट दी थी। इससे कारोबारियों ने घरों तक फ्रीज, वॉशिंग मशीन पहुंचाई थी। वहीं ऑटोमोबाइल शोरूम संचालकों ने कारें घर तक पहुंचाई थी लेकिन इस बार छूट नहीं दी है। इससे होम डिलीवरी भी नहीं कर पा रहे हैं।

नियम सबके लिए एक समान होना चाहिए

इलेक्ट्राॅनिक सामान के विक्रेता मनीष जैन ने बताया कोरोना कर्फ्यू में जो भी नियम बनना चाहिए। वो सभी के लिए समान बनना चाहिए। पिछले साल इलेक्ट्राॅनिक सामान की होम डिलीवरी की छूट दी थी। इस बार तो कोई छूट नहीं है। सीजन चल रहा है। होम डिलीवरी की तो छूट मिलना चाहिए। ऑटोमोबाइल सेक्टर के विष्णु सविता ने बताया पिछले साल लॉकडाउन में हमें होम डिलीवरी की छूट दी थी।

खबरें और भी हैं...