पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ratlam
  • Jugaad Was Messing With The Lives Of Patients By Making An Oxiflometer, The Garage Operator, The Police Hid Information From The Media

जिन्दगी से खिलवाड़:जुगाड़ का ऑक्सीफ्लोमीटर बनाकर मरीजों की जान से खिलवाड़ कर रहा था गैरेज संचालक, पुलिस ने छिपाई मीडिया से जानकारी

रतलामएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो।
  • अलकापुरी के रहवासियों ने आरोपी गैरेज संचालक को घूमते देख मीडियाकर्मी को बताया तब जाकर पुलिस ने पकड़ा

जुगाड़ का ऑक्सीफ्लोमीटर बनाकर अलकापुरी निवासी गैरेज संचालक मरीजों की जान से खिलवाड़ कर रहा था। दो हजार रुपए में हैंडमेड उपकरण बेचने की सूचना पर पुलिस ने 13 मई को कार्रवाई तो की परंतु गैरेज संचालक की करतूत मीडिया में सार्वजनिक नहीं की। शनिवार को लोगों ने आरोपी गैरेज संचालक को घूमते देखा तो पत्रकारों को बताया इसे तो गुरुवार को पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

ऑक्सीफ्लो सिलेंडर की कालाबाजारी की सूचना पर एसआई जितेंद्र कनेश, प्रधान आरक्षक मृदंग सातपुते, आरक्षक लोकेंद्र सोनी, वीरेंद्र बारोड, महिला आरक्षक रेखा गरासिया की टीम दोपहर 2:15 बजे अलकापुरी गई थी। अलकापुरी में शनि मंदिर के पास ऑटो गैरेज में ऑक्सीजन सिलेंडर में लगने वाला ऑक्सीफ्लो मीटर बना रहे व्यक्ति को रंगे हाथों पकड़ा। उसके पास गैरेज में रेग्युलेटर, प्रेशर वाॅल्व, प्रेशर कंट्रोल वाल्व आदि ऑक्सीफ्लोमीटर के उपकरण मिले। पूछताछ में आरोपी ने अपना नाम प्रवीण पिता नारायणसिंह राठौड़ (40) निवासी अलकापुरी बताया। उसने बताया 2000 रुपए कीमत में वह ऑक्सीफ्लो मीटर बेच रहा है। पुलिस ने गैरेज से एक रेग्युलेटर प्रेशर वाॅल्व, चार प्रेशर कंट्रोल वाॅल्व, चार नोजल, चार नट बिना बोल्ट के, 9 फैरुल छोटी रिंग वाली, एक जाॅइंट जब्त किया।

पुलिस वालों के वाहन सुधारता है आरोपी इसीलिए बचाने की कोशिश
क्षेत्र के लोगों ने बताया कि थाने के कई पुलिसकर्मी अपने दो पहिया वाहन सुधरवाने यहीं आते हैं। सात साल से कम सजा वाले अपराध में आरोपी को नोटिस देने के आदेश की आड़ लेकर आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार तो किया परंतु चालान पेश करने पर अदालत में उपस्थित होने का नोटिस देकर छोड़ दिया।

ब्रांडेड 2250 में और हैंडमेड 750 रुपए में मिलता है
बाजार में ब्रांडेड ऑक्सीमीटर की कीमत 2250 रुपए है जबकि हैंडमेड उपकरण की लागत 750 रुपए आती है। कोरोना संक्रमण की महामारी में अधिक मांग होने के कारण ब्रांडेड उपकरण नहीं मिलने के कारण मशीनिस्ट और गैरेज संचालक हैंडमेड उपकरण बनाकर लोगों को बेच रहे हैं।

पूछताछ करेंगे मीडिया से क्यों छिपाई जानकारी : एसपी गौरव तिवारी ने बताया कि सात साल से कम सजा वाले अपराध में नोटिस देकर छोड़ना नियमविरुद्ध नहीं है। घटना की जानकारी मीडिया को क्यों नहीं दी, इस संबंध में पूछताछ की जाएगी।

सक्षम इंजीनियर से उपकरण प्रमाणित करवा लेना चाहिए
एमडी डॉ. अभय ओहरी ने बताया हैंडमेड ऑक्सीफ्लोमीटर के कारण मरीज को ऑक्सीजन नहीं मिले तो रिकवरी पर असर होगा। ऑक्सीजन का फ्लो नर्सिंग स्टाफ और डॉक्टर देखते हैं इसलिए खतरे की शंका नहीं है। ब्रांडेड ऑक्सीफ्लोमीटर की प्रमाणिकता रहती है। वर्तमान में उपकरणों की शाॅर्टेज है। यदि मैकेनिक उपकरण बनाने में सक्षम है तो उसे सक्षम इंजीनियर से प्रमाणित करवाना चाहिए। सिर्फ लाभ के लिए त्रुटिपूर्ण उपकरण बनाना गलत है।

खबरें और भी हैं...