विरोध तेज:बिना गार्ड के गुड्स ट्रेनें चलवाने के विरोध में उतरा मजदूर संघ

रतलामएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रेलवे द्वारा रतलाम से उज्जैन, चित्तौड़गढ़, वड़ोदरा और गोधरा के लिए बिना गार्ड के चलवाई जा रही मालगाड़ियों को लेकर विरोध तेज हो गया है। लॉबी द्वारा नियमों के विपरीत गार्ड की ड्यूटी नहीं लगाई जा रही है। वहीं बिना गार्ड के ही मालगाड़ियों को विभिन्न स्टेशनों के लिए चलाया जा रहा है। वह भी पर्याप्त मात्रा में गार्ड उपलब्ध होने के बावजूद।

सोमवार को ऐसा दूसरी बार होने के बाद वेस्टर्न रेलवे मजदूर संघ विरोध में उतर आया है। मंगलवार को रतलाम मुख्यालय पर पदस्थ गार्ड्स वेरेमसं मंडल मंत्री अभिलाष नागर से मिले। उन्होंने बताया चार दिन पहले भी परिचालन प्रबंधन के आदेश से तीन गुड्स ट्रेन बिना गार्ड की चली थी। इस पर बात करने पर मंडल रेल प्रबंधक ने ऐसा दोबारा नहीं होने का आश्वासन दिया था। मंडल प्रवक्ता गौरव दुबे ने बताया इसके बावजूद 13 दिसंबर को 6 मालगाड़ियों को बिना गार्ड के चलाया गया।

जनवरी में होंगे रेलवे इंस्टिट्यूट के चुनाव

रेलवे के जूनियर और सीनियर इंस्टिट्यूट के चुनाव जनवरी में हो सकते हैं। मंगलवार को वेस्टर्न रेलवे एम्पलाइज यूनियन के मंडल मंत्री मनोहर सिंह बारठ कर्मचारियों की विभिन्न समस्याओं के लेकर वरिष्ठ मंडल कार्मिक अधिकारी एचके वणिया से मिले। बैठकों में मान्यता प्राप्त संगठन एवं एसोसिएशन के पदाधिकारियों को भी नहीं बुलाया जा रहा है।

मंडल मंत्री बारठ ने तुरंत कमेटी को भंग करते हुए चुनाव प्रक्रिया शुरू करने को कहा। इस पर वरिष्ठ मंडल कार्मिक अधिकारी ने जनवरी 2022 में चुनाव कराने को कहा है। इसके अलावा कर्मचारियों के प्रमोशन पर भी बात हुई। सहायक मंडल कार्मिक अधिकारी अमरसिंह सागर, मंडल कोषाध्यक्ष शैलेश तिवारी, मंडल कार्यालय शाखा सचिव एवं मंडल प्रवक्ता अशोक तिवारी भी साथ थे।

खबरें और भी हैं...