पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ratlam
  • On Getting Out Of Negative, Sent From Medical College To District Hospital, Did Not Put Ventilator On Breathing Problems, Had To Be Forced Into Indore

इलाज में हुई देर:निगेटिव निकलने पर मेडिकल कॉलेज से जिला अस्पताल भेजा, सांस लेने में तकलीफ होने पर नहीं लगाया वेंटिलेटर, मजबूरी में ले जाना पड़ा इंदौर

रतलाम2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • निगेटिव रिपोर्ट का सर्टिफिकेट नहीं देने से इंदौर में फिर करवाना पड़ी कोराेना जांच

जिला अस्पताल प्रबंधन की बड़ी लापरवाही सामने आई है। एक बुजुर्ग जो कि कोरोना निगेटिव थे। उन्हें ना तो अस्पताल में ऑक्सीजन मिली, ना ही वेंटिलेटर। जबकि, उनका ऑक्सीजन लेवल 70 से कम हो गया था। मजबूर परिवारजन अन्य अस्पताल में ले जाने लगे तो अस्पताल से जांच रिपोर्ट नहीं दी। बुजुर्ग की इंदौर में दोबारा कोरोना जांच हुई है। कलेक्टर की दखलअंदाजी के बाद भी जिला अस्पताल प्रबंधन की मनमानी जारी है। चांदनीचौक निवासी इकबाल हुसैन हवेलीवाला (70) को तीन दिन पहले सांस लेने में परेशानी थी। उनका कोरोना का सैंपल लेकर मेडिकल कॉलेज भेजा। मेडिकल कॉलेज में दो दिन रहने के बाद रिपोर्ट निगेटिव आई तो बुधवार को जिला अस्पताल में भेज दिया। इकबाल के बेटे मुस्तफा हवेलीवाला ने बताया जिला अस्पताल में आईसीयू में भर्ती करने से मना कर दिया। वे बोले सीसीयू में ले जाओं, सीसीयू वार्ड में बोले जगह नहीं है। सामान्य वार्ड में भर्ती कर दिया, वहां ऑक्सीजन भी नहीं दी।

स्टाफ बोला - कोरोना की रिपोर्ट नहीं मिलती

मुस्तफा ने बताया पिताजी का ऑक्सीजन लेवल कम हो रहा था। जो कि 70 के भी नीचे पहुंच चुका था। मजबूरन इंदौर के अस्पताल में बात की। वे केस लेने को तैयार हो गए। उन्हें कोरोना की रिपोर्ट दिखाना थी। इधर, अस्पताल से कोरोना की रिपोर्ट देने से ही मना कर दिया। बोले ऐसी कोई रिपेार्ट नहीं दी जाती। बुजुर्ग को डिस्चार्ज पेपर भी नहीं दिया।

इंदौर में इलाज शुरू करने में रिपोर्ट से हुई देर
परिवारजन ने बुजुर्ग की जान बचाने के लिए इंदौर जाने का फैसला लिया। एम्बुलेंस में ऑक्सीजन मिली। इसके सहारे वे इंदौर तक पहुंचे। रात 12.30 बजे इंदौर के लिए रवाना हुए, 3.30 बजे अरिहंत अस्पताल में पहुंचे। उनके पास रिपोर्ट नहीं होने से उन्हें मजबूरन इंदौर में कोरोना की दोबारा से जांच करवानी पड़ी।

रिपोर्ट नहीं देते, लिखकर दे देते हैं निगेटिव है

  • क्या यह मामला आपकी जानकारी में आया? हां, रात में हमारी जानकारी में आया था। वे मरीज को बाहर ले जाना चाह रहे थे।
  • मरीज को ऑक्सीजन नहीं मिली, उन्हें आईसीयू में भी भर्ती नहीं किया। हमारे पास आईसीयू के वार्ड में जगह ही नहीं थी, इलाज किया जा रहा था।
  • क्या आप कोरोना की रिपोर्ट नहीं देते, मरीज को दोबारा जांच करवानी पड़ी। हम रिपोर्ट नहीं देते हैं, लेकिन उन्हें लिख कर दे देते हैं कि वे निगेटिव है।

मौत की सूचना नहीं दी, मानवाधिकार आयोग में शिकायत की

मेडिकल कॉलेज में मरीज की स्थिति परिजन को नहीं बताने के मामले सामने आ रहे हैं। गुरुवार को एक परिवार ने मानवाधिकार आयोग को शिकायत की है। रेलवे से सेवानिवृत्त पीएंडटी कॉलोनी निवासी अशोकसिंह चौहान की पत्नी राधा चौहान ने बताया पति को 18 जुलाई की दोपहर में खांसी चलने के साथ तबीयत खराब हुई। निजी अस्पताल से कहा जिला अस्पताल ले जाओ। वहां गए तो सैंपल लेकर मेडिकल कॉलेज भेज दिया। मेडिकल कॉलेज से कहा पति की तबीयत ठीक है, घर जाओ, हम फोनकर बुलवा लेंगे। फोन नहीं आया तो पुत्र वैभवसिंह मेडिकल कॉलेज खबर लेने गया, डॉक्टरों के आईसीयू में होने की बात की। 19 जुलाई को परिवार का कोरोना का टेस्ट कर, क्वारेंटाइन कर दिया। क्वारेंटाइन सेंटर में हम मरीज से बात करवाने की गुहार लगाते रहे, किसी ने ध्यान नहीं दिया। 20 जुलाई को सूचना मिली कि पति की मौत हो गई। रिपोर्ट निगेटिव थी। वे बीमार नहीं थे तो अचानक मौत कैसे हो गई। मौत के संबंध में जानकारी भी नहीं दी जा रही है। हमें सूचना देना थी, ये गंभीर लापरवाही है।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय पूर्णतः आपके पक्ष में है। वर्तमान में की गई मेहनत का पूरा फल मिलेगा। साथ ही आप अपने अंदर अद्भुत आत्मविश्वास और आत्म बल महसूस करेंगे। शांति की चाह में किसी धार्मिक स्थल में भी समय व्यतीत ह...

और पढ़ें