पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना के कारण इस बार 100 फीसदी रहा रिजल्ट:11वीं में प्रवेश लेने के बाद आया रिजल्ट, 34.74% ज्यादा रहा नतीजा, पिछले साल वर्ष 2020 में जिले का दसवीं का परीक्षा परिणाम 65.26 फीसदी रहा था

रतलाम19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नीति जोशी - Dainik Bhaskar
नीति जोशी
  • कोरोना के कारण इस बार 100 फीसदी, स्कूल वाइज ही रिजल्ट खुल पाया

माध्यमिक शिक्षा मंडल ने कोरोना को देखते हुए दसवीं बोर्ड की परीक्षा नहीं ली और सभी बच्चों को 11वीं में प्रवेश देने का फैसला लिया था। बच्चों ने 11वीं में दाखिला भी ले लिया। अब माध्यमिक शिक्षा मंडल ने दसवीं का परीक्षा परिणाम जारी किया।

कोरोना के कारण इस बार परीक्षा परिणाम 100 फीसदी रहा है। जबकि पिछले साल की बात करें तो पिछले साल दसवीं का परीक्षा परिणाम 65.26 फीसदी रहा था। जो पिछले साल से 34.74 फीसदी ज्यादा है।

परिणाम शाम चार बजे घोषित हुआ। जब रिजल्ट खुला तो स्कूल वाइज ही रिजल्ट खुल पाया। जिला स्तर का रिजल्ट नहीं खुल पाया। पिछले पांच साल की बात करें तो कोरोना के कारण पांच साल में इस बार का रिजल्ट सबसे अच्छा रहा है। दसवीं परीक्षा के लिए जिले के 16,660 बच्चों ने आवेदन किया था। इसमें 14,400 बच्चे नियमित और 2260 स्टूडेंट ने प्राइवेट परीक्षार्थी के तौर पर आवेदन किया था। ये सभी बच्चे पास हो गए।

जिला लेवल का परीक्षा परिणाम नहीं पता चल पाया
डीईओ केसी शर्मा ने बताया दसवीं का परीक्षा परिणाम जारी हो गया है। कोरोना का कारण इस बार जिले का परिणाम 100 फीसदी रहा है। लेकिन जिला स्तर का रिजल्ट अभी नहीं खुल पा रहा है। इससे ज्यादा जानकारी नहीं बता सकते हैं।

बच्चों में नहीं रहा उत्साह : कोरोना को देखते हुए माशिमं ने पहले ही सभी बच्चों को 11वीं में दाखिला देने का फैसला ले लिया था। इससे सभी बच्चों को पहले ही रिजल्ट की जानकारी थी। इससे रिजल्ट को लेकर भी बच्चों में जरा भी उत्साह नहीं रहा। जबकि हर बार बच्चों के साथ ही अभिभावकों में भी उत्साह रहता था। लेकिन रिजल्ट को लेकर उत्साह नहीं रहा।

11 एवं 12वीं की क्लास 26 जुलाई से शुरू
सीएम ने स्कूलों में 11 एवं 12वीं की कक्षाएं भी संचालित करने के आदेश जारी किए है। 26 जुलाई से ये कक्षाएं शुरू होगी। 50 फीसदी क्षमता के साथ स्कूलों का संचालन आरंभ किया जाएगा। स्कूल सप्ताह में चार दिन लगेंगे। दो दिन 50 प्रतिशत क्षमता का एक बैच आएगा, अगले दो दिन शेष 50 प्रतिशत विद्यार्थियों का दूसरा बैच शाला आएगा।

एक सप्ताह तक स्थिति को देख कर आगे निर्णय लिया जाएगा। यदि स्थिति सामान्य रही तो 15 अगस्त से क्रमबद्ध 9वीं, 10वीं और उसके बाद माध्यमिक और प्राथमिक शालाओं का संचालन आरंभ करने का निर्णय राज्य शासन द्वारा लिया जाएगा। मप्र प्रांतीय अशासकीय शिक्षण संस्था संघ के दीपेश ओझा ने बताया हमारा संगठन लंबे समय से मांग कर रहा था। आखिरकार सीएम ने मांगें मानी।

उत्कृष्ट स्कूल के 226 में से 222 बच्चे प्रथम
सागोद रोड स्थित उत्कृष्ट स्कूल के 226 बच्चे परीक्षा में शामिल हुए थे। इसमें से 222 बच्चे फर्स्ट डिविजन पास हुए हैं। वहीं 4 सेकंड डिवीजन पास हुए हैं। उत्कृष्ट स्कूल प्राचार्य सुभाष कुमावत ने बताया अधिकतर बच्चे फर्स्ट डिविजन आए हैं।

दसवीं में 500 में से 500 अंक आए
बेस्ट फाइव पद्धति से जारी दसवीं के रिजल्ट में नीति जोशी ने 500 में से 500 अंक हासिल किए है। नीति को सभी विषयों में 100 में से 100 अंक मिले हैं। 80 फीट पर रहने वाली नीति के पिता तरुण कुमार जोशी और मां हेमा जोशी दोनों ही शिक्षक हैं।

खबरें और भी हैं...