• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ratlam
  • Suspected Constable Sacked By SP, Constable Dharmendra Giri Is Absent Since February 11, 2021

खाल तस्करी मामला:संदिग्ध आरक्षक को एसपी ने बर्खास्त किया, 11 फरवरी 2021 से अनुपस्थित है आरक्षक धर्मेंद्र गिरि

रतलाम2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बाघ (टाइगर) की खाल तस्करी के मामले में संदिग्ध पुलिस आरक्षक को एसपी गौरव तिवारी ने बर्खास्त कर दिया है। उज्जैन पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर तीन खाल जब्त की थी। पूछताछ के बाद सारंगपुर के तस्कर को भी गिरफ्तार किया था। तस्कर ने खाल तस्करी में आरक्षक धर्मेंद्र गिरि का नाम लिया था।

जानकारी के अनुसार उज्जैन के मालीपुरा में होटल में दबिश देकर पुलिस ने 21 जनवरी 2021 को उज्जैन के जिवाजी गंज निवासी शब्बीर और सेठी नगर निवासी राजेश ज्ञानचंदानी को गिरफ्तार किया था। आरोपियों से पूछताछ के बाद सारंगपुर के खाल तस्कर तौसिफ को भी गिरफ्तार किया। पूछताछ में तौसिफ ने पुलिस आरक्षक धर्मेंद्र गिरि का नाम लिया।

आरक्षक धर्मेंद्र गिरि तब जावरा के औद्योगिक क्षेत्र थाने में पदस्थ था। एसपी ने उसे लाइन अटैच कर तत्कालीन एसडीओपी रवींद्र बिलवाल को जांच के आदेश दिए। जांच में रतलाम में उसके खिलाफ कोई आरोप नहीं मिला। सबूत नहीं मिलने पर खाल तस्करी के मामले में उज्जैन पुलिस ने उसे आरोपी नहीं बनाया।

दस साल उज्जैन रहने के बाद रतलाम ट्रांसफर हुआ था
जानकारी के अनुसार आरक्षक धर्मेंद्र गिरि 1 अक्टूबर 2004 को पुलिस सेवा में आरक्षक नियुक्त हुआ था। 20 जून 2011 को उसका स्थानांतरण उज्जैन हो गया था। उज्जैन में 10 साल रहने के बाद 24 जून 2020 को उज्जैन से रतलाम ट्रांसफर हुआ। रतलाम में वह पहले माणकचौक थाने फिर जावरा शहर और जावरा औद्योगिक क्षेत्र थाने पदस्थ रहा। खाल तस्करी में उसका नाम आया तब वह जावरा औद्योगिक क्षेत्र थाने में पदस्थ था। लाइन अटैच करने के बाद उसकी ड्यूटी पुलिस कंट्रोल रूम में लगा दी थी। 11 फरवरी 2021 से वह ड्यूटी से अनुपस्थित था। एसपी ने मामले की जांच एएसपी एसके पाटीदार को सौंपी। स्वैच्छाचारिता के आरोप में एसपी ने उसे बर्खास्त कर दिया।

खबरें और भी हैं...