पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ratlam
  • The Five year old Ascension Went To Nani's House In Badnagar, Cries Daily To Come, The Baby's Heart Is Pierced, Parents Are Worried About Fear Of Deteriorating Health

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लॉकडाउन का असर:नानी के घर बड़नगर गई थी पांच साल की आरोही, आने के लिए रोज रोती है, बच्ची के दिल में है छेद, तबीयत बिगड़ने की शंका में घबरा रहे माता-पिता

रतलाम10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पिता काट रहे दफ्तरों के चक्कर ऑनलाइन अनुमति के फेर में हो रहे हैं परेशान

5 साल की मासूम आरोही जिद कर मौसी के साथ नानी के घर बड़नगर गई थी। लॉकडाउन में वहीं फंस गई है। उस मासूम के दिल में छेद है और रोज मम्मी-पापा को याद कर रोती है। वीडियो कॉल पर मासूम को रोता देख उसके मम्मी-पापा का कलेजा मुंह को आ जाता है।  पिता टाटा नगर निवासी ज्वैलरी बनाने वाले सतीश सोनी बताते हैं कि उनकी बेटी आरोही की मौसी शिवानी 18 मार्च को रतलाम आई थीं। बच्ची जिद कर चली गई। हमने सोचा हफ्तेभर में ले आएंगे लेकिन यहां 22 मार्च के जनता कर्फ्यू के बाद से ही लॉकडाउन हो गया। उसकी मम्मी शीतल वीडियो कॉल करती हैं तो आरोही बात करने के बजाय रोने लगती है। उसका रोना देख दिल भर आता है। क्योंकि दिल में छेद होने से वह बहुत कमजोर है। ज्यादा रोने से वह बीमार हो गई तो क्या होगा। उसे लाने की अनुमति लेने के प्रयास कर रहे हैं। नाना राजेश सोनी बताते हैं आरोही दिनभर बच्चों के साथ खेलती रहती है लेकिन रात होते ही उसे मम्मी-पापा याद आते हैं और रोना शुरू कर देती है। मम्मी-पापा से बात कराते हैं इसके बावजूद भी वह रोते-रोते ही सोती है। बच्ची के रोने से रतलाम में उसके मम्मी-पापा और यहां हम परेशान हैं।

बच्ची की बीमारी की बात तो सुनी ही नहीं रहे
 लॉकडाउन के पहले फेज में बात की तो अफसरों ने 20 अप्रैल के बाद बात करने के लिए कहा था।अब कलेक्टोरेट पहुंचा तो वहां के कर्मचारी-अफसर बीमारी की बात तो सुन ही नहीं रहे हैं।
सतीश सोनी, आरोही के पापा

कड़ी व्यवस्था : ई-पास होने के बावजूद तीन जगह रोका, रुनिजा में डेढ़ घंटे हुए परेशान, हालांकि शहर की सुरक्षा के लिए ये जरूरी 
ठेकेदार मुकेश कुमावत बताते हैं पत्नी, बेटा-बेटी देवास में फंस गए थे। ई-पास लेकर वहां से सोमवार को लौटे तो रुनिजा में जांच के नाम पर डेढ़ घंटे तक परेशान होना पड़ा। फिर बिलपांक टोल नांके पर पौन घंटे और इतनी देर सालाखेड़ी फंटे पर रोके रखा।
ई-पास के लिए 1663 ऑनलाइन आवेदन, अब तक अनुमति 211 ही : हमारे जिले में और दूसरे जिलों में फंसे 1663 लोगों ने आने-जाने के लिए ई-पास के लिए ऑनलाइन आवेदन किया है। इसमें से अब तक 211 अनुमति जारी हुई है।

मेडिकल बेस पर ऑनलाइन आवेदन करें

भास्कर-अनुमति देने का काम धीमा क्यों है?
एडीएम- 10 कर्मचारी लगे हैं, नेटवर्क की दिक्कत है।
भास्कर –अनुमति के बाद भी क्यों रोका जा रहा है?
एडीएम- स्वास्थ्य की जांच के लिए नाकों पर रोक रहे हैं।
भास्कर – ऑनलाइन फॉर्म भरवाने में प्रशासन कोई मदद हो सकती है क्या?
एडीएम- जिला पंचायत व जनपद पंचायत रतलाम में दो-दो कर्मी हैं।
भास्कर- ग्रामीण क्षेत्र के लिए क्या?
एडीएम- इस बारे में चर्चा चल रही है।
भास्कर- आरोही को लाने में कोई मदद हो सकती है क्या ?
एडीएम- बच्ची के दिल में छेद है तो मेडिकल बेस पर ऑनलाइन आवेदन करें, ई-पास देंगे। बच्ची के अभिभावक मुझसे मिले पूरी मदद करेंगे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व खुलकर लोगों के सामने आएंगे और आप अपने कार्यों को बेहतरीन तरीके से संपन्न करेंगे। आपके विरोधी आपके समक्ष टिक नहीं पाएंगे। समाज में भी मान-सम्मान बना रहेगा। नेग...

    और पढ़ें