• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ratlam
  • The Roads Of 5 Years Guarantee Were Opened Within 3 Months, The Roads Of Salakhedi Bhatpachalana And Barbodna Bangrod Were Shabby In The First Rain

करोड़ों रुपयों की पीएमजीएसवाय सड़कों में भ्रष्टाचार:5 साल की गारंटी वाली सड़कों की 3 महीने में ही खुल गई पोल , सालाखेड़ी- भाटपचलाना और बरबोदना- बांगरोद की सड़कें पहली बारिश में हुई जर्जर

रतलाम2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रतलाम जिले में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत करोड़ों रुपए की लागत से बनाई गई दो सड़कों के निर्माण में भ्रष्टाचार की पोल 3 महीने में ही खुल गई है। रतलाम को उज्जैन जिले से जोड़ने वाली सालाखेड़ी-भाटपचलाना 27 किमी और बरबोदना- बांगरोद 13 किमी की सड़कें प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत 15 करोड़ और 5 करोड रुपए की लागत से बनाई गई है। जिसमें जयपुर की पारुल कंस्ट्रक्शन कंपनी द्वारा इन दोनों सड़कों का निर्माण बारिश के पूर्व ही पूरा किया गया है। लेकिन पहली ही बारिश में इन सड़कों के शोल्डर और छोटी पुल पुलिया क्षतिग्रस्त हो गए हैं। वही सड़कों पर जगह जगह दरारें भी पड़ गई है। स्थानीय ग्रामीणों के अनुसार लॉकडाउन के दौरान कंस्ट्रक्शन ठेकेदार द्वारा मनमाने तरीके से इन सड़कों में घटिया निर्माण सामग्री का उपयोग किया गया जिसकी वजह से मात्र 3 महीने में ही यह सड़कें के क्षतिग्रस्त होने लगी है।

स्थानीय ग्रामीणों और विधायक ने उठाया घटिया निर्माण का मुद्दा, कलेक्टर ने जांच के लिए गठित की समिति

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत लगभग 20 करोड रुपए की लागत से बनी इन दोनों प्रमुख सड़कों का निर्माण कार्य बारिश के पहले ही पूर्ण हुआ है। लेकिन महज दो से 3 महीने में ही सड़क के शोल्डर और पुलिया क्षतिग्रस्त होने लगी है। वहीं जगह-जगह सड़क का डामर भी उखड़ने लगा है। ग्रामीणों के अनुसार कई जगह सड़क की चौड़ाई भी पीएमजीएसवाई के मानकों के अनुसार नहीं बनाई गई है। रतलाम ग्रामीण विधायक दिलीप मकवाना द्वारा इस मुद्दे को प्रभारी मंत्री की बैठक में उठाया गया है। इसके बाद रतलाम कलेक्टर ने घटिया निर्माण और उसमें हुए भ्रष्टाचार की जांच के लिए 3 सदस्यों की समिति का गठन किया है। जो 10 दिनों में सड़क के घटिया निर्माण कार्य कि जांच रिपोर्ट देगी।

गौरतलब है कि लंबे समय के इंतजार के बाद रतलाम ग्रामीण क्षेत्र के सालाखेड़ी से भाटपचलाना और बरबोदना से बांगरोद सड़कों का निर्माण प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत स्वीकृत हुआ था। जिसका लोकार्पण हाल ही में किया गया था लेकिन शुरुआती दौर की बारिश में ही इन सड़कों के निर्माण में हुए भ्रष्टाचार की पोल खुल गई है।