• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Ratlam
  • Transactions Stopped Due To Closure Of Transactions In Banks, No Profit Was Received Even If A New Order Was Issued

व्यापारीयों को परेशानी:बैंकों में लेन-देन बंद करने से ट्रांजेक्शन रुका, नया ऑर्डर जारी हुआ तो भी नहीं मिला लाभ

रतलाम6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मित्र निवास रोड स्थित स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की मुख्य ब्रांच पर लगी लेन-देन नहीं होने की सूचना। - Dainik Bhaskar
मित्र निवास रोड स्थित स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की मुख्य ब्रांच पर लगी लेन-देन नहीं होने की सूचना।
  • मेडिकल स्टोर्स, किराना, पेट्रोल पंप, गैस एजेंसियां, दूध डेयरी सहित अन्य व्यापारी हुए परेशान
  • व्यापारी वर्ग को आदेश से झेलना पड़ी परेशानी

जिला प्रशासन ने लॉकडाउन 7 मई की सुबह 6 बजे तक बढ़ा दिया है। इसका ऑर्डर बुधवार रात को जारी किया। इसमें बैंकों में लेन देन बंद रहने के भी आदेश थे। इससे गुरुवार सुबह जब व्यापारी बैंकों में रुपए जमा कराने पहुंचे तो उन्हें अंदर नहीं आने दिया। पूछा तो जवाब मिला जिला प्रशासन के आदेश हैं। इससे 7 मई तक लेन देन बंद रहेगा। इस पर व्यापारी लौट गए।

इसके बाद शहर सहित आसपास के कस्बों में इस आदेश का विरोध शुरू हो गया। विरोध इसलिए भी क्योंकि मेडिकल स्टोर्स, किराना, पेट्रोल पंप, गैस एजेंसियां, दूध डेयरियां खुल रही हैं और ये लोगों को रोजमर्रा के जरूरी सामाना मुहैया करा रहे हैं। राशि जमा कराने के बाद भी नया माल आता है लेकिन बैंकें बंद होने से नए माल के ऑर्डर के लिए व्यापारी राशि जमा नहीं करा पाए।

इससे दिक्कत शुरू हो गई। इसके बाद व्यापारियों ने लीड बैंक और जिला प्रशासन को इसकी जानकारी दी। इस आधार पर दोपहर में रिवाइज ऑर्डर जारी हुए। लेकिन जब तक बैंकों तक आदेश पहुंचे तब तक बैंकें बंद हो गई थीं। इससे व्यापारी राशि जमा नहीं करा पाए और रूटीन काम में दिक्कत आई।

जिला प्रशासन के आदेश के बाद रुपए जमा कराने पहुंचे लोगों को वापस लौटना पड़ा

व्यापारियों के फोन आए थे तो जिला प्रशासन से हमने चर्चा की

थोक किराना व्यापारी संघ के अध्यक्ष मनोज झालानी ने बताया कि समस्या को लेकर मेरे पास व्यापारियों के फोन आने लगे थे। व्यापारियों ने बताया कि इस आदेश से व्यापारिक लेन-देन का संकट खड़ा हो गया है। जावरा के अध्यक्ष भरत मनसुखानी सहित सैलाना सहित अन्य व्यापारिक संगठनों के फोन आए। इस पर पुलिस प्रशासन और जिला प्रशासन से चर्चा की। इस पर उन्होंने समस्या का निराकरण किया। इसके लिए जिला प्रशासन का आभार माना है। बहरहाल, अब व्यापारियों को नए माल के लिए शुक्रवार को ही बैंकों में राशि जमा कराना पड़ेगी।

जिला प्रशासन बचकाना फैसले ना ले, नया सामान मंगवाने में आएगी दिक्कत

इलेक्ट्राॅनिक सामान के विक्रेता मनीष जैन ने बताया जिला प्रशासन बचकाना फैसले ले रहे हैं क्योंकि बैंकों में लेन-देन नहीं होगा तो व्यापारी नया सामान कैसे मगाएंगे। वहीं जिन व्यापारियों को चेक लगाना है उनका क्या होगा। यदि राशि जमा नहीं हुई और चेक बाउंस हो गया तो दिक्कत आएगी। पिछले साल तो सरकार ने लोन सहित अन्य किस्त जमा करने से राहत दी थी और आदेश जारी कर दिए थे लेकिन इस बार तो कोई आदेश जारी नहीं हुआ है। सैनिटाइजर निर्माण कंपनी के वंदना मेटल इंडस्ट्रीज के संचालक जयंत दरवानी ने बताया जो जरूरी सेवाओं का कारोबार कर रहे हैं उन्हें तो लेन देने की छूट मिले।

बैंकें बंद होने से इधर ये भी परेशानी बढ़ी

बैंकों में सिर्फ अति आवश्यक सेवाओं के लिए लेन-देन होगा। लेकिन कई लोगों की होम लोन, ऑटो लोन सहित अन्य लोन की किस्तें कटना है। इससे उन्हें बैंकों में राशि जमा कराना है। लेकिन इसको लेकर कोई आदेश जारी नहीं हुआ है कि उनका क्या होगा। यदि किस्त जमा नहीं करा पाए तो पेनल्टी तो लगेगी। साथ ही सिविल स्कोर भी खराब होगा।

कई लोगों ने एटीएम कार्ड के लिए आवेदन कर रखा है। पता नहीं मिलने पर एटीएम कार्ड घर नहीं पहुंच पाए तो वापस बैंकों में पहुंच गए हैं। उन्हें एटीएम कार्ड लेना है। ऐसे लोगों को के लिए भी कोई आदेश नहीं है। यदि कार्ड नहीं मिलेगा तो वे रुपए नहीं निकाल सकेंगे। इससे उन्हें आर्थिक परेशानी होगी।

ऑर्डर रिवाइज कर दिया है - लीड बैंक मैनेजर राकेश गर्ग ने बताया ऑर्डर रिवाइज कर दिया है। अति आवश्यक सेवाओं का लेन-देन जारी रहेगा। वहीं मैनेजर के ऊपर भी निर्भर रहेगा कि उन्हें लगता है कि सेवा जरूरी है तो लेन देन की अनुमति दे सकते हैं।

खबरें और भी हैं...