पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

स्टाफ के इंकार पर बढ़ी तकरार:शव के आभूषण नहीं मिलने की जानकारी के बाद मेडिकल कॉलेज में परिजन का 5 घंटे चला हंगामा

रतलाम11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बाद में शव के पास मिले आभूषण, जिम्मेदार नहीं मिले तो हुए नाराज

मेडिकल कॉलेज में बुधवार को एक शव से आभूषण व स्मार्टफोन गायब होने का मामला सामने आया। इसे लेकर परिजन भड़क गए और कॉलेज में खूब हंगामा किया। हालांकि, करीब 5 घंटे बाद परिजन को शव दिखाया गया, उसमें आभूषण थे। परिजन का कहना है कि स्मार्टफोन के बारे में पता नहीं चल सका। मंदसौर निवासी ओमप्रकाश तेनगरिया (68) की कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव थी। ऐसे में उन्हें मंगलवार सुबह मेडिकल कॉलेज में भर्ती कर दिया था। शाम करीब 7.30 बजे मौत हो गई। ओमप्रकाश के बेटे शैलेंद्र ने बताया कि मौत के बाद जब हम कॉलेज पहुंचे तो हमने आभूषण देने का भी कहा। इसे लेकर स्टाफ ने मना कर दिया कि उनके पास कोई भी सामान और आभूषण नहीं थे। जबकि, पिताजी के हाथ में चांदी व सोने की अंगूठी, गले में सोने में जड़ा रुद्राक्ष था। जब पिताजी को अस्पताल लाया जा रहा था, तब एम्बुलेंस की वीडियाे क्लिप में भी ये सामान दिख रहा है।

परिजन भड़के बोले- सीसीटीवी फुटेज चेक कर लो
स्टाफ परिजन की बात मानने को तैयार नहीं हुआ तो परिजन भड़क गए। उनका कहना था कि आप सीसीटीवी फुटेज देख लो। हम स्मार्टफोन भी देकर गए थे। हालांकि, परिजन को सीसीटीवी फुटेज नहीं दिखाए।
बेटा बोला- हमें अभी नहीं मिले आभूषण, स्मार्टफोन का नहीं पता
इधर, बेटे शैलेंद्र ने बताया विधायक के हस्तक्षेप के बाद पिता का शव दिखाया गया। शव के साथ ही आभूषण भी मिल गए। यदि सामान वहीं था तो हमें पहले ही कह देना था, जोकि शंकास्पद है। स्मार्टफोन के बारे में अभी हमें जानकारी नहीं दी है।

विधायक से बोले परिजन- आभूषण के बारे में हम झूठ नहीं बोल रहे

इसी दौरान जावरा विधायक डॉ. राजेंद्र पांडेय भी मेडिकल कॉलेज पहुंचे। परिजन ने विधायक को कहा कि हम प्रतिष्ठित घराने से हैं। झूठ नहीं बोल रहे हैं। वे हमारे पिताजी की आखिरी निशानी थी। परिजन की बात सुनने के बाद विधायक डॉ. राजेंद्र पांडेय अस्पताल में गए। हालांकि जवाब देने वाला कोई नहीं मिला, इसे लेकर वे नाराज भी हुए। फिर कॉलेज के डीन डॉ. संजय दीक्षित पहुंचे।

इधर... रात में हुई बैठक, बोले-जान से मारने की दी थी धमकी

मेडिकल कॉलेज में दिनभर हुए घटनाक्रम के बाद बुधवार शाम मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन एकजुट हो गया। एसोसिएशन ने डीन डॉ. संजय दीक्षित को ज्ञापन देकर संबंधितों पर शासकीय कार्य में बाधा सहित अन्य मामलों में प्रकरण दर्ज करवाने की मांग की। अध्यक्ष डॉ. प्रवीण सिंह बघेल ने बताया जो आरोप लगाए गए, वो निराधार निकले। ऐसा कोई मामला हुआ ही नहीं था। उन्होंने ड्यूटी डॉक्टर को जान से मारने की धमकी दी। झूमाझटकी भी की। शासकीय कार्य में बाधा डालने सहित अन्य धारा में प्रकरण दर्ज होना चाहिए। यदि ऐसा नहीं होता है तो एसोसिएशन के माध्यम से प्रदेशव्यापी आंदोलन किया जाएगा। सचिव डॉ. अनिल मीणा, डॉ. एसके लिखार, डॉ. नीलम आर, चार्ल्स, डॉ. शैलेंद्र डावर, सोहन मंडलाेई, डॉ. महेंद्र चौहान सहित अन्य मौजूद थे।

कब-क्या हुआ

मंगलवार दोपहर 3 बजे- ओमप्रकाश तेनगरिया को कॉलेज में लेकर आए। शाम 7.30 बजे- उन्होंने दम तोड़ दिया।

बुधवार सुबह 10 बजे - परिजन कॉलेज में शव लेने के लिए पहुंचे। दोपहर 10.30 बजे- कॉलेज में विवाद होने लगा। दोपहर 1.45 बजे- विधायक डॉ. पांडेय कॉलेज में पहुंचे। दोपहर 3.00 बजे- परिजन को शव दिखाया गया। शाम 5.30 बजे- भक्तन की बावड़ी में अंतिम संस्कार किया।

^सामान कहीं नहीं गया था। पैकेजिंग के दौरान प्रोटोकॉल के मुताबिक सामान अलग रखा था, जोकि शव के साथ ही परिवारजन को बता दिया। आरोप गलत हैं। डॉ. संजय दीक्षित, मेडिकल कॉलेज, रतलाम ​​​​​​​

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन परिवार व बच्चों के साथ समय व्यतीत करने का है। साथ ही शॉपिंग और मनोरंजन संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत होगा। आपके व्यक्तित्व संबंधी कुछ सकारात्मक बातें लोगों के सामने आएंगी। जिसके ...

और पढ़ें