पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

महारुद्र यज्ञ:महाआरती के बाद यज्ञशाला की परिक्रमा

रतलाम2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • त्रिवेणी तट पर 21 भूदेवों के सान्निध्य में यज्ञ-हवन व पूजन जारी

श्री सनातन धर्मसभा व महारुद्र यज्ञ समिति द्वारा 67वें महारुद्र यज्ञ में यज्ञाचार्य पंडित दुर्गाशंकर ओझा व 21 भूदेवों के सान्निध्य में यजमान वीना कुंदन सोनी द्वारा यज्ञशाला में देवताओं के पूजन के साथ हवन कुंड में आहुतियां दी जा रही हैं। महाआरती में सर्वब्राह्मण महिला सभा शामिल थी। महाआरती के बाद यज्ञशाला की परिक्रमा की। श्री नित्यानंद मेकल ग्रुप के कार्यकर्ताओं ने सेवाएं दीं। संरक्षक कोमल सिंह राठौर, रमेश व्यास, लालचंद टांक, गोपाल जवेरी, हरसहाय शर्मा, गोपाल घुघंरूवाल, नवनीत सोनी, प्रेमजी उपाध्याय, मनोहर पोरवाल, मनोज शर्मा, सत्यनारायण पालीवाल, रामचंद्र पण्ड्या आदि मौजूद थे।

जलाधारी का पूजन कर परोसा भोजन - पुरुषोत्तम जौहरी की स्मृति में उनके बेटे-बहू प्रतिभा राजेश जोहरी, शांतिलाल उपाध्याय की स्मृति में उनके बेटे मुकेश उपाध्याय ने और राजेंद्र माहेश्वरी, जया माहेश्वरी, सोनल भंसाली व शीतल भंसाली ने महाआरती कर भोग लगाया। यहां जरूरतमंदों को भोजन करवाया। ट्रस्ट अध्यक्ष डॉ. राजेंद्र शर्मा, कन्हैयालाल मौर्य, नवनीत सोनी, मनोहर पोरवाल, विष्णु दलाल, पुष्पेंद्र जोशी, ब्रजेन्द्रनंदन मेहता, अशोक लाठी, सतीश भारतीय, हरीश सुरोलिया, मनोज शर्मा, महेश बाहेती, कैलाश भईड़ा, चेतन शर्मा, राजा राठौड़, सूरजमल टांक सहित अन्य मौजूद रहे।

महादेव की जलाधारी की रथयात्रा कल निकाली जाएगी समिति अध्यक्ष कन्हैयालाल मौर्य ने बताया कि 12 जनवरी को दोपहर 3 बजे यज्ञशाला से महादेव की जलाधारी की रथयात्रा निकाली जाएगी। जो मेला परिसर होते हुए भैरवनाथ मंदिर पहुंचेगी। यहां भैरुजी का पूजन किया जाएगा। 13 जनवरी को अमावस्या पर दोपहर 2 बजे गंगाजल कलश यात्रा का आयोजन कर आद्यगुरु शंकराचार्य प्रतिमा का जलाभिषेक किया जाएगा। साथ ही 68वें महारुद्र यज्ञ के यजमान का नाम ड्राॅ द्वारा निर्धारित किया जाएगा। 14 जनवरी गुरुवार को दोपहर 3 बजे यज्ञ की पूर्णाहुति व महाआरती होगी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

    और पढ़ें