विंध्य में डेंगू का कहर:रीवा में डेंगू के आंकड़े ने लगाया शतक, अब तक 104 लोगों को मार चुका है डंक, सबसे ज्यादा 35 शहरी क्षेत्र में

रीवा25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • रीवा शहरी क्षेत्र में सबसे ज्यादा मिले केस

विंध्य क्षेत्र के रीवा जिले में शहर से लेकर गांव तक डेंगू का कहर जारी है। आलम है कि अब तक 104 लोगों को डेंगू डंक मार चुका है। हालांकि सबसे ज्यादा केस रीवा शहरी क्षेत्र में मिले है। वहीं रीवा से लगे गोविंदगढ़, सिरमौर व रायपुर कर्चुलियान में भी डेंगू का डंक तेज है।

बता दें कि बीते साल जहां डेंगू के सिर्फ 2 केस मिले थे। वहीं इस वर्ष यह संख्या एक सैकड़ा से उपर पहुंच चुकी है। जबकि डेंगू से मौत की अधिकारिक पुष्टि एक है।

35 से ज्यादा केस आए
स्वास्थ्य अधिकारियों की मानें तो रीवा शहरी क्षेत्र में 35 से ज्यादा केस सामने आ चुके हैं। इसी तरह गोविंदगढ़ और रायपुर कर्चुलियान ब्लॉक में 20-20 से ज्यादा लोग डेंगू की चपेट में आ चुके हैं। वहीं सिरमौर में भी 15 से ज्यादा केस आए हैं। जबकि अन्य ब्लॉकों में भी इक्का-दुक्का केस मिल रहे है। सूत्रों का दावा है कि लगातार केस बढ़ रहे हैं, लेकिन विभागीय सक्रियता नहीं नजर आ रही।

दवाओं का नहीं हो रहा छिड़काव
डेंगू का अटैक रोकने के लिए दवाओं का छिड़काव आवश्यक है। लेकिन कहीं नजर नहीं आ रहा है। फागिंग मशीन भी नहीं निकल रही है। जगह-जगह पानी जमा है। गंदगी बजबजा रही है। जिससे मच्छर पनप रहे हैं। जबकि चिकित्सक यह भी कहते हैं कि खानपान पर ध्यान देना होगा। फास्ट फूड से भी सबकों दूरी बनानी चाहिए। ऐसे खाने-पीने की चीजों का ज्यादा से ज्यादा उपयोग करें। जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सहायक हो।

11 माह के भीतर आए 104 पीड़ित
बता दें कि रीवा जिले में चालू वर्ष 2021 में अब तक डेंगू के 104 मरीज मिल चुके है। ये संख्या जनवरी से लेकर नवंबर तक की है। वहीं तीन लोगों की मौत की बात भी सामने आ रही है। हालांकि डेंगू से अधिकृत मौत की जानकारी प्रशासन नहीं दे रहा है। ऐसा बताते है कि रीवा में अभी तक जो डेंगू के मरीज मिले है। उनमे ज्यादातर बाहर से बीमार होकर आए है।

10 दिन पहले मनगवां बस्ती की महिला ने तोड़ा था दम
दस दिन पहले सविता गुप्ता पति काशीनाथ गुप्ता (50) निवासी मनगवां की अचानक तबियत बिगड़ गई थी। हालत गंभीर होने पर परिजन एसजीएमएच में भर्ती कराने पहुंचे। यहां दूसरे दिन की शाम इलाज के दौरान महिला ने दम तोड़ दिया। परिजनों का दावा है कि जांच में प्लेटलेट सिर्फ 40 हजार थी। ऐसे में डेंगू के कारण अचानक प्लेटलेट तेजी से डाउन हुई और महिला की मौत हो गई।

खबरें और भी हैं...