लंपी वायरस को लेकर अलर्ट:रीवा जिले में 5 हजार वैक्सीन का दिया गया आर्डर, लंपी वाले गांवों में कंटेनमेंट जोन बनाकर लगाया जाएगा टीका

रीवा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • आज दिनांक तक नहीं मिला कोई केस, पशु अनुसांधान केन्द्र से एहतियातन मांगी वैक्सीन

देशभर के गोवंशों में कहर बरपा रही लंपी वायरस को लेकर प्रदेश सरकार अलर्ट हो गई है। पशु चिकित्सा विभाग के उप संचालक डॉ. राजेश मिश्रा ने बताया कि एहतियातन पशु अनुसांधान केन्द्र से 5 हजार वैक्सीन मांगी गई है। हालांकि आज दिनांक तक अभी रीवा जिले में कोई केस नहीं मिला है। लेकिन राज्य पशु चिकित्सा विभाग ने पूरी तैयारी की है।

दावा किया जा रहा है कि अगर लंपी का प्रकोप रीवा जिले में पहुंचेगा तो तुरंत संबंधित गांवों को कंटेनमेंट जोन बनाकर टीका लगाया जाएगा। पशु चिकित्सा विभाग द्वारा सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया गया है। साथ ही गांव के पशु पालकों से लगातार संपर्क किया जा रहा है। जिससे तुरंत एहतियाती कदम उठाए जा सके।

लंपी वायरस के लक्षण
- लंपी स्किन डिजीज के प्रमुख लक्षण पशु को बुखार आना।
- वजन में कमी।
- आंखों से पानी टपकना।
- लार बहना।
- शरीर पर दाने निकलना।
- दूध कम देना और भूख नहीं लगाना है।
- इसके साथ ही उसका शरीर दिन प्रतिदिन और खराब होते जाना।

लंपी से बचाव
- लंपी रोग से प्रभावित पशुओं को अलग रखें।
- मक्खी, मच्छर, जूं आदि को मार दें।
- पशु की मृत्यु होने पर शव को खुला न छोड़ें।
- पूरे क्षेत्र में कीटाणुनाशक दवाओं का छिड़काव करें।
- इस वायरस के आक्रमण से ज्यादातर पशुओं की मौत हो जाती है।
- गाय के संक्रमित होने पर दूसरे पशुओं को उससे अलग रखें।

खबरें और भी हैं...