पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Rewa
  • Bhoomipujan Of Oxygen Plant In Maihar Civil Hospital, MLA Narayan Tripathi Realized The Dream Of Life With Public Cooperation

भाजपा विधायक का आत्मनिर्भर अभियान:मैहर सिविल अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट का भूमिपूजन, जन सहयोग से विधायक नारायण त्रिपाठी ने साकार किया प्राणवायु का सपना

सतना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भूमिपूजन के बाद ऑक्सीजन प्लांट पर लगा स्वास्तिक चिन्ह। - Dainik Bhaskar
भूमिपूजन के बाद ऑक्सीजन प्लांट पर लगा स्वास्तिक चिन्ह।
  • रंग लाई मैहर भाजपा विधायक की मुहिम,भूमिपूजन के समय एसडीएम सुरेश अग्रवाल और सीएमएचओ डॉ. आशोक अवधिया सहित अन्य समाजसेवी रहे मौजूद

जन सहयोग से मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी ने प्राणवायु का सपना साकार कर दिया है। यहां भाजपा विधायक की मुहिम के कारण ही रविवार की दोपहर ऑक्सीजन प्लांट का भूमिपूजन कर दिया गया। बताया गया कि मैहर इन दिनों प्राणवायु के मामले में आत्मनिर्भर हो गया। सही मायने में विधायक नारायण त्रिपाठी ने आत्मनिर्भर की परिभाषा बताई है। भूमि पूजन के समय विधायक के साथ एसडीएम सुरेश अग्रवाल, सीएमएचो डॉ अशोक अवधिया, दिलीप त्रिपाठी, डॉ प्रदीप निगम, विश्वनाथ चौरसिया, गुड्डू भैया, पार्षद प्रमोद सिंह सहित अन्य समाजसेवी मौजूद रहे।

बता दें कि जिला अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट का काम अभी पूरा भी नहीं हो पाया कि सिविल अस्पताल मैहर में आक्सीजन प्लांट शुरू करने की तमाम तैयारियां पूरी होकर रविवार भूमिपूजन कर दिया गया। इसके पहले मैहर प्लांट के उपकरण शनिवार की देर रात पहुंच गए थे। अब सोमवार को इंजीनियरों की टीम मैहर पहुंचकर ऑक्सीजन प्लांट को इंस्टॉल करेगी।

वैदिक मंत्रों के साथ भूमिपूजन कराते पुरोहित।
वैदिक मंत्रों के साथ भूमिपूजन कराते पुरोहित।

विधायक की पहल पर 45 लाख में प्लांट लगाएगी कंपनी
सिविल अस्पताल मैहर में एटोम्स पावर प्राइवेट लिमिटेड अहमदाबाद गुजरात की कंपनी द्वारा ऑक्सीजन प्लांट लगाया जा रहा है। प्रदेश के सभी सरकारी अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट इसी कंपनी द्वारा लगाए जा रहे है। जहां पर प्लांट की लागत 90 लाख रुपए बताई जा रही है। विधायक नारायण त्रिपाठी के आग्रह पर कंपनी 45 लाख रुपए में प्लांट लगाने को तैयार हो गई है।

प्रति मिनट 300 लीटर उत्पादन क्षमता
बताया कि प्लांट में प्रति मिनट 300 लीटर ऑक्सीजन उत्पादन की क्षमता होगी। कोरोना काल में जब अस्पताल के सभी बेड फुल थे। तब प्रति मिनट 250 लीटर ऑक्सीजन की जरूरत पड़ रही थी। प्लांट शुरु होने के बाद दूसरी ईकाइयों पर निर्भरता खत्म हो जाएगी। ऑक्सीजन सिलेंडर की मारामारी भी नहीं रहेगी।

खबरें और भी हैं...