जेल विभाग का नवाचार:रीवा केंद्रीय जेल में 1 अक्टूबर से होगा कैंटीन का संचालन, कैदी भी खरीद सकेंगे जरूरत का समान, परिजनों को भी नहीं लगानी होगी बाहर की दौड़

रीवा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • केंद्रीय जेल प्रबंधन ने पूर्ण की तैयारी

विंध्य क्षेत्र के रीवा केंद्रीय जेल में अब कैदियों के लिए 1 अक्टूबर से कैंटीन खुलने जा रही है। जेल अधिकारियों ने बताया कि जेल में बंद कैदी भी इसी कैंटीन से अपने जरूरत का सामान खरीद सकते है। साथ ही बंदियों से मिलने वाले परिजनों को बाहर की दौड़ नहीं लगानी होगी, क्योंकि एक ही छत के नीचे दोनों कार्य हो जाएंगे। सूत्रों की मानें तो जेल में परिरूद्ध बंदियों के निजी स्रोतों से खाद्य एवं आवश्यक सामग्री प्रदान करने कैंटीन का संचालन किया जा रहा है, जिसका शुभारंभ एक अक्टूबर से होगा।

कैदियों के लिए महीने में एक हजार रुपए खर्च सीमा
जेल अधीक्षक सतीश उपाध्याय ने कहा कि परिरूद्ध बंदियों के परिजन या बंदी प्रतिमाह अधिकतम एक हजार रुपए जमा कर सकेंगे। साथ ही बंदी द्वारा एक बार में 250 रुपए का समान खरीद सकते है। वहीं माह में अधिकतम चार बार कैंटीन से सामग्री लेने की अनुमति होगी। जिसमें फल, किराना, नाश्ता आदि के सामान आसानी से उपलब्ध रहेंगे।

इन समानों की होगी बिक्री
जेल अधीक्षक ने बताया कि नई कैंटीन में बिस्किट, नमकीन, सेव, टोस्ट, मूंगफली के दाने, भुने चने, शक्कर, गुड, पैक अचार सप्ताह में 500 ग्राम खरीदी कर सकेंगे। वहीं मौसमी फल प्रति माह 500 ग्राम खरीदने की छूट बंदियों को रहेगी। इसके साथ ही सलाद, गाजर, मूली, टमाटर, ककड़ी, प्याज, हरी धनिया, हरी मिर्च, नमक, प्रति सप्ताह एक किलो ग्राम खरीदी कर सकेंगे।

खरीद सकते है कास्मेटिक सामान
इसी तरह कास्मेटिक में नहाने-कपड़े धोने का साबुन, दंत मंजन, कंघी, फ्रेश क्रीम, एंटोसेप्टिक क्रीम, टेलकम पाउडर, सिर पर लगाने का तेल, प्रति सप्ताह 50 से 100 ग्राम, महिला बंदी को शैम्पू, प्रति सप्ताह 50 ग्राम, सुहाग सामग्री जैसे बिंदी, चुड़ी, सिंदूर, आवश्यकतानुसार बंदियों को धार्मिक कार्य के लिए पूजन सामग्री नारियल, धूप, अगरबत्ती आदि ले सकते है।

खबरें और भी हैं...