रीवा में मनचले द्वारा युवती को आग लगाने का मामला:बर्न यूनिट में भर्ती युवती ने 10 दिन बाद इलाज के दौरान तोड़ा दम, अब जेल में बंद आरोपी के खिलाफ मनगवां पुलिस बढ़ाएगी 302 की धारा

रीवा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
संजय गांधी स्मृति अस्पताल फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
संजय गांधी स्मृति अस्पताल फाइल फोटो।
  • मनगवां थाना क्षेत्र के देवरा गांव का मामला, आरोपी ने घर के बाहर बुलाकर छेड़ा, आपत्ति ली तो केरोसिन डालकर आग लगा दी

रीवा जिले के मनगवां थाना अंतर्गत देवरा गांव में मनचले युवक द्वारा युवती को आग लगाने के 10 दिन बाद इलाज के दौरान दम तोड़ दी है। पुलिस की मानें तो रविवार की दोपहर पीड़िता ने संजय गांधी स्मृति अस्पताल में आखिरी सांस ली थी।

दावा है कि बर्न यूनिट के चिकित्सकों ने 50 प्रतिशत से ज्यादा जले होने के कारण शुरूआत में ही केस को गंभीर बताया था। ऐसे में आग के धाव रिकवर होने की जगह तेजी से फैल रहे थे। जिससे डॉक्टर युवती को नहीं बचा पाए। इधर पुलिस ने पीएम के बाद शव परिजनों को सुपुर्द करते हुए 302 की धारा बढ़ाई है।

ये है मामला
मनगवां थाना प्रभारी कार्यवाहक निरीक्षक केपी त्रिपाठी ने बताया, 1 जून की आधी रात आनंद पटेल (21) पिता नागेश्वर पटेल निवासी देवरा ने गांव की ही युवती को उसी के घर के सामने बुलाया था। जब युवती रात में घर के बाहर आई, तो उसे पीछे वाले घर ले गया। जहां मवेशियों वाले घर में पहले से मिट्टी के तेल से भरी चिमनी जल रही थी। वहां पर आरोपी ने युवती के साथ छेड़खानी करने लगा।

जब युवती ने विरोध किया, तो गुस्से में आकर युवक ने चिमनी को उठाकर उसके ऊपर उड़ेल दिया। वारदात के बाद खुद युवक आग को बुझाने लगा। ऐसे में युवती तो जली ही आरोपी भी आग बुझाने के चक्कर में हाथ जला लिए। फिर युवती के परिजनों को बिना सूचना दिए रात में ही संजय गांधी स्मृति अस्पताल के बर्न यूनिट में भर्ती करा दिया।

मनचले ने युवती को आग के हवाले किया:घर के बाहर बुलाकर छेड़ा; आपत्ति ली तो केरोसिन डालकर आग लगा दी, जिंदगी के लिए जंग लड़ रही युवती

1 जुलाई की रात वारदात, 11 जुलाई को मौत
पुलिस की मानें, तो आरोपी युवक 1 जुलाई की रात ही पीड़िता को रीवा के एसजीएमएच में गंभीर अवस्था में भर्ती करा दिया था। फिर अस्पताल चौकी पुलिस ने पीड़िता के बयान लेकर केस डायरी मनगवां थाने भेजी। जहां पुलिस ने 3 जून को आईपीसी की धारा 307, 354, 201 के तहत मामला दर्ज कर आरोपी युवक आनंद पटेल पिता नागेश्वर पटेल (21) को गिरफ्तार किया। फिर 4 जून को न्यायालय में पेश कर जेल भेज दिया। इधर 10 दिन बाद पीड़िता 11 जुलाई की दोपहर दम तोड़ दिया। इस मामले में मनगवां पुलिस ने अब 302 की धारा बढ़ाएगी।

खबरें और भी हैं...