पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Rewa
  • Electricity System Did Not Improve Even After The Meeting Of The Minister In Charge, The Complaint Of 8 MLAs Remained Incomplete

रीवा में बिजली कटौती को लेकर रार:प्रभारी मंत्री की बैठक के बाद भी नहीं हुआ विद्युत व्यवस्था में सुधार, अधूरी रह गई 8 विधायकों की फरियाद

रीवा12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो।
  • शहर से लेकर गांव तक बिजली का रोना, खरीफ फसल की बुबाई भी प्रभावित

बीते दिनों कलेक्ट्रेट के मोहन सभागार में आयोजित हुई जिला योजना समिति की बैठक के बाद भी विद्युत व्यवस्था में कोई सुधार नहीं हुआ है। आलम है कि प्रभारी मंत्री बिसाहूलाल सिंह के सामने जिले के आठों विधायकों ने बिजली कटौती का रोना रोया था। फिर भी गांव से लेकर शहर तक बिजली कटौती जारी है। एक तरफ जहां किसान खरीफ फसल की बुबाई के लिए विद्युत मांग रहे है। वहीं शहरवा​सी भीषण गर्मी के कारण परेशान है।

किसानों का आरोप है कि पहले तो बारिश अच्छी हुई, लेकिन अब रूक-रूक कर वर्षा होने से धान का रोपा प्रभावित हो रहा है। जबकि रोपा के बीज डालने का यही सही समय है। वहीं जिले के 70 फीसदी किसान तीन फेज बिजली से ही सबमर्सिबल पंप चलाते है। फिर भी विद्युत अधिकारियों की उदासीनता के कारण बिजली व्यवस्था में कोई सुधार नहीं हो रहा है।

विद्युत सप्लाई में सुधार नहीं
बताया गया कि प्रभारी मंत्री की बैठक के समय जो शेड्यूल पहले था वह अब भी चल रहा है। उस दिन विधायकों ने एक मत होकर प्रभारी मंत्री के सामने बिजली कटौती का रोना रोया था। तब विद्युत के अधिकारी जवाब नहीं दे पाए। हालांकि प्रभारी मंत्री ने कहा था कि बिजली का मुददा मुख्यमंत्री के सामने रखा जाएगा। इसके बाद भी कोई फर्क विद्युत मण्डल को नहीं पड़ा। अभी भी बिजली की आंख मिचौली जारी है।

मरम्मत के नाम पर कटौती
आरोप है कि शहर से लेकर गांव तक मरम्मत के नाम पर कटौती लगातार जा रही है। किसान से लेकर आम उपभोक्ता व दुकानदार भी परेशान हैं। इसी तरह शहर के शिल्पी प्लाजा, दीप काम्पलेक्स, मार्तण्ड काम्पलेक्स, फोर्ट रोड, सब्जी मण्डी में दिन में भी ट्रिपिंग का खेल चलता है। विद्युत मण्डल के अधिकारी कहते हैं कि केवल मरम्मत के समय बिजली बंद की जाती है।

खबरें और भी हैं...