• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Rewa
  • First Action Against Usurers In Rewa, Arrested For Demanding Rs 4.80 Lakh Instead Of 1 Lakh

रीवा में सूदखोर पर कार्रवाई:1 लाख रुपए के कर्ज पर 4.80 लाख रुपए मांग रहा था, न देने पर करता था मारपीट

रीवा8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राजधानी भोपाल में पांच लोगों की खुदकुशी के बाद प्रदेश भर में सूदखोरों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। जिसकी पहली सफलता रीवा शहर की पुलिस को मिली है। जानकारी के मुताबिक शनिवार को पहली एफआईआर बिछिया थाने में दर्ज हुई। दावा है कि सराफा कारोबारी से एक लाख रुपए कर्ज के बदले ब्याज सहित 4.80 लाख रुपए साहूकार मांगता था।

लेकिन समय पर राशि न लौटाने पर रास्ता रोक कर सूदखोर द्वारा मारपीट की जाती थी। थक हारकर एसपी द्वारा जारी हेल्पलाइन नंबर में पीड़ित ने शिकायत दर्ज कराई। जहां में शिकायत सही पाई जाने पर आरोपी के​ खिलाफ एफआईआर दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है।

रीवा में सूदखोरों के खिलाफ अभियान:साहूकारों के ऋण और मनमानी ब्याज से है परेशान तो डायल करें 9479997171 नंबर, शिकायतकर्ता का नाम रहेगा गोपनीय

हेल्पलाइन नंबर में शिकायत करते समय पीड़ित शिव कुमार सोनी पुत्र छकोड़ी लाल सोनी ने बताया कि वह सिटी कोतवाली थाना अंतर्गत जोरी का रहने वाला है। चिरहुला में उसकी आभूषणों की दुकान है। उसने पुलिस को बताया कि जनवरी 2019 में राजकुमार सिंह पुत्र बंशबहादुर सिंह (48) निवासी चिरहुला कॉलोनी से बतौर कर्जा एक लाख रुपए लिया था। यह राशि 2 वर्ष में वापस करने की बात तय हुई थी। बतौर जमानत फरियादी से आरोपी साहुकार द्वारा 2 चेक एक-एक लाख रुपए के लिए गए थे।

नहीं दे पाया था पूरी राशि
आरोप लगाते हुए कहा कि कोरोना की वजह से दुकान का काम बंद हो जाने से शिवकुमार एक मुश्त राशि नहीं दे पाया था। लेकिन जब दुकान खुली, तो उसने राजकुमार सिंह को 1 लाख 2 हजार रुपए नगद अलग-अलग किस्तों में वापस कर दिया। लेकिन आरोपी द्वारा ब्याज सहित 4.80 लाख रुपए की मांग की जाने लगी। इधर समय पर पैसा न लौटाने के कारण आए दिन सूदखोर रास्ता रोककर मारपीट करने लगा।

एसपी ने जारी किया था हेल्पलाइन नंबर
रीवा एसपी नवनीत भसीन ने हेल्पलाइन नंबर जारी किया था। साथ ही थाना प्रभारियों को निर्देशित किया था कि ऐसे लोगों को चिन्हित कर कार्रवाई करें। ऐसे में बिछिया थाना प्रभारी जगदीश सिंह ठाकुर द्वारा आरोपी राजकुमार सिंह के विरूद्ध आईपीसी की धारा 385 सहित 3/4 मप्र ऋणियों का संरक्षण अधिनियम 1937 के तहत कार्रवाई की गई है।

खबरें और भी हैं...