रीवा में हत्या:पति को बचाने आई महिला को सब्बल से मार डाला, पुलिस को गुमराह करने के लिए खुद के झोपड़े में लगाई आग

रीवाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
महिला को परिजन अस्प्ताल ले गए। चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। - Dainik Bhaskar
महिला को परिजन अस्प्ताल ले गए। चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।

रीवा जिले में दो गुटों के बीच हुई मारपीट में महिला की हत्या कर दी गई। घटना जनेह थाना अंतर्गत जमुनिहा गांव की है। पुलिस के मुताबिक बुधवार रात में आरोपी महिला के पति की पिटाई कर रहा था। बीच-बचाव करने पहुंची महिला को उसने सब्बल मार दी। त्योंथर अस्पताल में चिकित्सकों ने महिला को मृत घोषित कर दिया।

जनेह थाना प्रभारी प्रदीप सिंह ने बताया कि घटना बुधवार रात 8 से 9 बजे के बीच की है। आरोपी बड़ेलाल कोल शराब का नशा कर हरीशचंद्र कोल के घर पहुंचा था। वह बेवजह गाली-गलौज करने लगा। पीड़ित ने जब गाली देने से मना किया तो शराबी मारपीट करने पर उतारू हो गया। घर के बाहर मारपीट का शोर सुनकर पीड़ित की पत्नी सावित्री कोल (38) दौड़ी तो आरोपी ने सब्बल से हमला कर दिया।

महिला के परिजन सोहागी थाना की त्योंथर चौकी पहुंच गए। जहां से जनेह पुलिस को घटना की जानकारी दी गई। घटना की जानकारी मिलते ही जनेह थाना प्रभारी प्रदीप सिंह घटना स्थल पहुंचे, वहीं दूसरी टीम को त्योंथर अस्पताल पहुंच गई। यहां सावित्री ने दम तोड़ दिया।

एक साल से चल रहा विवाद
पुलिस के मुताबिक दोनों पक्षों का एक साल से विवाद चल रहा है। दावा है कि बच्चों के विवाद को बड़ों ने गंभीरता से लिया था। ऐसे में दोनों पक्ष एक दूसरे को दुश्मन समझते थे। वहीं चर्चा है कि ताश खेलने के दौरान हुए विवाद में दोनों पक्ष आमने-सामने आ गए। थाना प्रभारी ने कहा कि पूरे मामले की जांच की जा रही है। अभी त्योंथर अस्पताल में गुरुवार की सुबह 11 बजे से पोस्टमॉर्टम हो रहा है।

आरोपी ने अपने झोपड़े में लगाई आग
शराबी बड़ेलाल कोल ने खुद के बचाव में रात में ही अपने घर के लोगों से मारपीट करते हुए झोपड़े को आग के हवाले कर दिया था, जिससे पुलिस जांच करते समय गुमराह हो जाए। वारदात के बाद से गांव में पुलिस तैनात है। साथ ही आरोपी की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है।

गांव में तनाव के हालात
महिला की मौत के बाद गांव के लोग काफी आक्रोशित है। कानून व्यवस्था को बनाने रखने के लिए एसडीओपी त्योंथर समरजीत सिंह अन्य थानों के बल को बुलाकर मौके पर मौजूद है। पुलिस का प्रयास है कि पीएम के बाद सीधे अंतिम संस्कार कराया जाए।