APSU दीक्षांत समारोह:रीवा के APS यूनिवर्सिटी में 6 दिसंबर को नौंवा दीक्षांत समारोह, राज्यपाल 64 छात्रों को गोल्ड मेडल और 80 डिग्रियां देंगे

रीवा8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • भारतीय शिक्षण मंडल के अखिल भारतीय संगठन मंत्री मुकुल कनिटकर होंगे मुख्य वक्ता

अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय में 6 दिसंबर को आयोजित होंने जा रहे नौंवे दीक्षांत समारोह की तैयारियां जोरों से चल रही है। 4 और 5 दिसंबर को विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा फूल-पौधों की कटाई-छंटाई से लेकर परिसर में गले बगीचे की साफ-सफाई का कार्य पूर्ण कर लिया गया।

बताया गया कि भारतीय शिक्षण मण्डल के अखिल भारतीय संगठन मंत्री मुकुल कनिटकर मुख्य वक्ता व मुख्य अतिथि होंगे। जबकि अध्यक्षता राज्यपाल मंगूभाई छगनभाई पटेल करेंगे। वहीं विशिष्ट अतिथि के रूप में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव व कुलपति प्रो. राजकुमार आचार्य होंगे।

25 छात्रों को राज्याल देंगे गोल्ड मेडल
APS यूनिवर्सिटी प्रशासन ने बताया कि दीक्षांत समारोह के लिए 86 छात्रों ने आवेदन किया था। ऐसे में 80 फार्म सेलेक्ट हुए है। जिससे 80 छात्रों को डिग्री दी जाएगी। जबकि पीएचडी, एमफिल और पीजी के 64 छात्रों को स्वर्ण पदक दिया जाएगा। जिसमे 25 गोल्ड मेडल राज्यपाल खुद अपने हाथों से सौंपेगे।

दो दिन से चल रही रिहर्सल
दीक्षांत समारोह में जिन विद्यार्थियों को मेडल दिये जाएंगे। उन्हें प्रशिक्षित करने का निर्णय विश्वविद्यालय प्रबंधन की ओर से लिया गया था। ऐसे में 4 और 5 दिसंबर को दो दिवसीय रिहर्सल कार्यक्रम आयोजित हुआ है। रिहर्सल समिति के संयोजक और सदस्यों की ओर से इन्हें आवश्यक प्रशिक्षण दिया गया है।

देशी परिधान में होंगे डिग्रीधारी
विद्यार्थियों के लिये विश्वविद्यालय की ओर से एक निश्चित परिधान अनिवार्य किया है। यह परिधान पूरी तरह से देशी संस्कृति पर आधारित है। सिर में पगड़ी और कुर्ता-पाजामा परिधान समिति की ओर से चिन्हित किया गया है। दीक्षांत समारोह के लिये जिन विद्यार्थियों का पंजीयन हो चुका है। सत्यापन के बाद उन्हें पात्र पाया गया है ऐसे विद्यार्थियों को गोल्ड मेडल दिया जाना है।

पं.शंभूनाथ शुक्ल सभागार में कार्यक्रम
विश्वविद्यालय प्रशासन ने नौंवे ​दीक्षांत समारोह का आयोजन पं.शंभूनाथ शुक्ल सभागार में आयोजित होगा। सभागार में एक निश्चित स्थान का भी चयन किया गया है। इनके लिये चयनित स्थान में अन्य लोगों का प्रवेश वर्जित किया गया है। गोल्ड मेडल लेते समय उन्हें निश्चित नियमों का पालन करते हुए मंच में प्रवेश करना होगा।