पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

MP पुलिस का मानवीय चेहरा:रीवा शहर में रात के समय निर्वस्त्र घूम रही महिला को पुलिस ने दिए 'वस्त्र', थाने ले जाकर भोजन कराया, फिर सुरक्षित वन स्टॉप सेंटर पहुंचाया

रीवा11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • ट्रैफिक सूबेदार की सूचना पर महिला थाना प्रभारी ने दिखाई तत्परता, एसपी करेंगे पुरस्कृत

रीवा शहर में आधी रात सड़क पर घूम रही महिला के प्रति पुलिस का मानवीय चेहरा सामने आया है। निर्वस्त्र महिला को देख रात्रिकालीन गश्त कर रहे ट्रैफिक सूबेदार दिलीप तिवारी ने इसकी जानकारी वरिष्ठ अधिकारियों को दी। सूचना मिलते ही महिला थाना प्रभारी निरीक्षक प्रियंका पाठक ने घर से कपड़े लिए और अपने स्टॉफ के साथ मौके पर पहुंच गईं।

लेकिन तब तक महिला आगे निकल चुकी थी। जिसकी आनन-फानन में तलाश कर कुछ ही देर में उसे ढूंढ़ निकाला। फिर लेडी इंस्पेक्टर ने महिला को कपड़े दिए और उसे तत्काल ही महिला थाना लाया गया। जहां भोजन कराने के बाद उसे वन स्टॉप सेंटर भेजा गया था।

महिला स्टॉफ को बुलवाया
बता दें कि रविवार-सोमवार की दरमियानी रात्रि ट्रैफिक सूबेदार दिलीप तिवारी यातायात पुलिस के अन्य जवानों के साथ रात्रि गश्त कर रहे थे। इसी बीच मानसिक रूप से विछिप्त एक महिला जेपी मोड़ पर दिखी थी। लेकिन उस समय ट्रैफिक सूबेदार के साथ महिला स्टॉफ न होने की वजह से उसे नहीं रोका गया। हालांकि महिला को पडरा की ओर जाते देखा गया। यही वजह थी कि महिला स्टॉफ के आते ही पडरा की ओर तलाश की और वह ट्रांसपोर्ट नगर में मिल गई।

गंभीर घटना होने से पहले ने बचाया
महिला थाना प्रभारी ने बताया कि पुलिस जब इस महिला के पास पहुंची तो पाया कि उसकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। लेकिन निर्वस्त्र होने की वजह से उसके साथ गंभीर घटना हो सकती थी। इसलिए पुलिस उसे महिला थाना ले आई। फिर उसके लिए कपड़े की व्यवस्था कराई गई। लेकिन पता चला की वह भूखी थी, इसलिए भोजन भी मंगाया। इसके बाद मेडिकल परीक्षण उपरांत महिला सशक्तिकरण अधिकारी से बात कर वन स्टॉप सेंटर भेजा गया।

पुरस्कृत होगी 'वस्त्र' देने वाली टीम
रीवा पुलिस ने मानवता की मिसाल पेश की है। ऐसे में एसपी नवनीत भसीन द्वारा 'वस्त्र' देने वाली टीम को पुरस्कृत करने की घोषणा की गई है। महिला थाना प्रभारी निरीक्षक प्रियंका पाठक, ट्रैफिक सूबेदार उप निरीक्षक दिलीप तिवारी, प्रधान आरक्षक गणेश पाठक, आरक्षक जितेन्द्र बाथम, महिला सैनिक सुनीता एवं वन स्टॉप सेंटर स्टॉप की भूमिका को अधिकारियों ने सराहा है। इधर महिला को वन स्टॉफ सेंटर भेजने के बाद पुलिस महिला के परिजनों की तलाश में जुट गई है। जानकारी के अनुसार महिला गढ़ क्षेत्र की रहने वाली है। जिनके परिजनों तक पहुंचने का प्रयास जारी है।

खबरें और भी हैं...