स्वर्णिम विजय पर्व का समापन:लेफ्टिनेंट जनरल बोले- रीवा सैनिक स्कूल के दो पुरा छात्रों ने 1971 के युद्ध में दिया था बलिदान, कैडेट्स को बताई पूर्वी पाकिस्तान के आत्मसमर्पण की कहानी

रीवा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्वर्णिम विजय पर्व में फोटो सेशन - Dainik Bhaskar
स्वर्णिम विजय पर्व में फोटो सेशन
  • हथियारों की प्रदर्शनी रही आकर्षण का केन्द्र

भारत की पाकिस्तान पर जीत की 50वीं वर्षगांठ पर दो दिवसीय स्वर्णिम विजय पर्व रीवा सैनिक स्कूल में धूम धाम से मनाया गया। दूसरे दिन कार्यक्रम की शुरुआत फनी शो, मिलिट्री बैन्ड शो, हथियार प्रदर्शन, नव निर्मित पैरेंट वेटिंग हाल का उद्घाटन भी किया जाएगा। इस दौरान हथियारों की प्रदर्शनी आकर्षण का केन्द्र रही।

बता दें कि दूसरे दिन का कार्यक्रम लेफ्टिनेंट जनरल एस मोहन, सेना मैडल, विशिष्ठ सेवा मैडल जीओसी हेड क्वाटर मध्य भारत एरिया के मुख्य आतिथ्य में संपन्न हुआ। इस अवसर पर विद्यालय का सम्पूर्ण वातावरण व सभी उपस्थितगण देशभक्ति की भावना से ओतप्रोत होकर अत्यंत गौरवान्वित महसूस कर रहे थे।

बास्केट बाल मैच में सैनिक स्कूल विजयी
कार्यक्रम की शुरुआत सुबह 7 बजे से जैक राइफल व सैनिक स्कूल कॅडेट्स के बीच बास्केट बाल मैच हुआ। जिसमे सैनिक स्कूल कैडेट्स विजयी रहे। इसके बाद हथियारों की प्रदर्शनी लगाई गई। सुबह 9 बजे सैनवा मेमोरियल पर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। सुबह 10 बजे मुख्य अतिथि मीडिया से रूबरू हुए। जिसमें उन्होंने विजय वर्ष समारोह विजयी मशाल व 1971 में हुए भारत पाकिस्तान के युद्ध के बारे में सभी को संछेप में अवगत कराया।

प्रदर्शनी में हथियार देखते कैडेट्स
प्रदर्शनी में हथियार देखते कैडेट्स

मानेकशा सभागार में हुआ वार्षिकोत्सव
दोपहर 12 बजे के आसपास मानेकशा सभागार में वार्षिकोत्सव आयोजित किया। सर्वप्रथम स्कूल कैडेट ने मुख्य अतिथि का संछिप्त परिचय देकर उनका स्वागत किया। तत्पश्चात विद्यालय की परंपरा के अनुसार पुरष्कार वितरण व पद अलंकरण समारोह संपन्न हुआ। मुख्य अतिथि ने सभी नए पदाधिकारियों को अपने कर्तव्यों का उचित रूप से निर्वाहन करने के लिए शपथ ग्रहण करवाई। इस अवसर पर न्यूज लेटर सैनवा पल्स वर्ष 4 अंक 6 व स्कूल मैगजीन रिफ्लेक्शन 2021 का विमोचन किया गया।

ब्रिगेडियर ने दी नवनिर्मित गर्ल्स हॉस्टल को दी एलइडी टीवी
समारोह में उपस्थित ब्रिगेडियर एसपी सिंह, पुरा छात्र सैनिक स्कूल रीवा में नवनिर्मित गर्ल्स हॉस्टल व लैब के लिए एलइडी टीवी प्रदान की। मुख्य अतिथि ने अपने उद्बोधन में 1971 में हुए भारत पाकिस्तान के युद्ध के बारे में सभी को संछेप में अवगत कराया। साथ ही कहा कि सैनिक स्कूल रीवा के दो पुरा छात्र लेफ्टिनेंट मोहिंदरपाल सिंह चौधरी के बलिदान व विद्यालय के भूतपूर्व आर्ट मास्टर आरएस बाउनी को उनके द्वारा 1971 में पूर्वी पाकिस्तान के आत्मसमर्पण पर बनाये गए स्कल्पचर के लिए मिले नेशनल अवार्ड के बारे में सभी को जानकारी दी।

रक्षा सेवा में जाने के लिए प्रेरित किया
उन्होनें सभी कैडेट्स को रक्षा सेवा में जाने के लिए प्रेरित किया। साथ ही सभी छात्रों के उज्जवल भविष्य की कामना की। राष्ट्रगान के साथ समारोह का समापन किया गया। इसी श्रंखला में जैक राइफल, जबलपुर द्वारा विभिन्न हथियारों का प्रदर्शन किया गया। जिसको देखकर सभी उपस्थितगण अत्यंत रोमांचित हो उठे। तदुपरान्त नवनिर्मित पैरेंट वेटिंग हाल का मुख्य अतिथि के द्वारा उद्घाटन किया गया।

ये अतिथि रहे उपस्थित
इस अवसर कर्नल राजेश बंदा प्राचार्य सैनिक स्कूल रीवा, स्क्वाड्रन लीडर एएन ठाकुर उप प्राचार्य, एपी एस मुल्लर, प्रसाशनिक अधिकारी डॉ.आरएस पांडेय वरिष्ठ अध्यापक, सम्मानित अतिथिगण अध्यापकगण व कैडेट्स उपस्थित रहे। इसके अतिरिक्त विशिष्ट अतिथि के रूप में ब्रिगेडियर आर शर्मा कमांडेंट, जैक राइफल, जबलपुर व ब्रिगेडियर एसपी सिंह, पुरा छात्र सैनिक स्कूल रीवा उपस्थित रहे।

खबरें और भी हैं...