पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गौसेवा समिति की पहल:ढाई माह से नहीं आई ऐरण गौशाला के लिए राशि, फिर भी पर्याप्त भूसा-पानी के इंतजाम

बीनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ग्राम ऐरण में संचालित गौशाला के लिए करीब ढाई माह से राशि नहीं आई है। बावजूद पशुओं को खाने-पीने के लिए पर्याप्त भूसा एवं पानी का इंतजाम है। इस गौशाला को गांव की महिलाओं के द्वारा बनाई गई गौसेवा समिति के द्वारा संचालित किया जा रहा है।

समिति के द्वारा पशुओं की देखरेख के लिए चौकीदार रखा गया है, बाकी कार्य महिलाओं के द्वारा ही किए जा रहे हैं। वहीं महिलाओं के द्वारा गायों के गोबर का उपयोग कंडा एवं गो कास्ट बनाने में किया जा रहा है। जिससे गायों से मिलने वाले उत्पादों से महिलाएं आत्म निर्भर भी बन सकें।

जानकारी अनुसार ग्राम ऐरण में करीब 27 लाख की लागत से गौशाला का निर्माण किया गया था, जो दिसंबर माह में शुरु हुई थी। यहां पर 100 गायों को रखने की क्षमता है। हाल ही में गौशाला में 75 पशुओं को रखा गया है। एक गाय के आहार के लिए प्रतिदिन शासन से 20 रुपए के हिसाब से खर्च दिया जाता है।

लेकिन करीब ढाई माह से पैसा नहीं आया है। बावजूद यहां पर भूसा पानी का पर्याप्त इंतजाम है, पशुओं को भरपूर आहार मिल रहा है। क्योंकि इस गौशाला का संचालन गांव की ही 12 महिलाओं का समूह कर रहा है। ये महिलाएं साफ-सफाई से लेकर गायों को भूसा, पानी का इंतजाम समिति की महिलाओं के द्वारा किया जा रहा है। महिलाओं के परिश्रम को देखते हुए गांव के लोगों ने महिला दिवस पर महिलाओं का सम्मान भी किया था।

गौसेवा के साथ आत्म निर्भर
समिति अध्यक्ष गुड्‌डी बाई राजपूत ने बताया कि समिति में सचिव द्रोपती बाई एवं सदस्यों में हरसिद्धि बाई, सविता बाई, शारदा बाई, राधा बाई, गुड्‌डी बाई, सुनीता बाई, रानी, गंगा बाई, नर्मदी बाई एवं सावित्री बाई हैं जो गौशाला में कार्य कर रही हैं। केवल रात के समय चौकीदारी के लिए चौकीदार रखा गया है। उन्होंने बताया कि करीब ढाई माह से भुगतान नहीं आया है। जिस कारण केवल जानवरों के खान पान पर ध्यान दिया जा रहा है।

जिस कारण गो कास्ट आदि उत्पादों का काम कम हो पा रहा है। अभी कंडा एवं गो कास्ट तैयार किए जा रहे हैं। जिनके विक्रय के लिए नगर पालिका से अनुबंध होना बाकी है। उन्होंने बताया कि जल्द ही गो कास्ट, कंडों के अलावा गौमूत्र एवं कंपोस्ट खाद्य तैयार कर विक्रय किया जाएगा। जिससे महिलाएं आत्म निर्भर बनेंगी, साथ ही गौसेवा भी हो रही है।

लोकार्पण में जन सहयोग से जुटाई थी राशि
गौशाला का लोकार्पण करने पहुंचे विधायक महेश राय ने 5 हजार रुपए गौशाला के लिए दिए थे। उसके बाद मंडीबामोरा चौकी प्रभारी, जनपद सीईओ, भाजपा नेता, ग्रामीणों ने भी राशि गौशाला के लिए राशि जुटाई थी। वहीं ग्रामीणों ने गौशाला के लिए भूसा दान किया था कुछ ने आश्वासन दिया था।

इस संबंध में सीईओ आशीष जोशी ने बताया कि गौशाला संचालित कर महिलाएं आत्म निर्भर बन रही हैं। गांव की महिलाएं गायों से निकलने वाले गोबर से कंडा, गौ कास्ट (गोवर में भूसा मिलाकर लंबी-लंबी लकड़ी) बना रही हैं। वहीं आगामी समय में गौशाला से गायों का दूध, गौमूत्र एवं कंपोस्ट खाद्य भी महिलाओं के द्वारा तैयार कर उनका विक्रय कर महिलाएं आत्म निर्भर बनेंगी। वहीं सचिव उमेश कुमार का कहना है कि करीब 2 माह से भुगतान नहीं मिलने के बाद भी पशुओं के लिए भूसा पानी का पर्याप्त इंतजाम है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत होगा। जिससे आपकी विचार शैली में नयापन आएगा। दूसरों की मदद करने से आत्मिक खुशी महसूस होगी। तथा व्यक्तिगत कार्य भी शांतिपूर्ण तरीके से सुलझते जाएंगे। नेगेट...

    और पढ़ें