• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • Bina
  • The laying of overbridge pillars in Bina was left open for 10 months, the pit was dead, 3 minors including 2 brothers died due to drowning

निर्माण में लापरवाही ने ली जानें / बीना में ओवरब्रिज के पिलर लगाने 10 माह से खुला पड़ा था गड्‌ढा, डूबने से 2 भाइयों सहित 3 नाबालिगों की मौत

The laying of overbridge pillars in Bina was left open for 10 months, the pit was dead, 3 minors including 2 brothers died due to drowning
X
The laying of overbridge pillars in Bina was left open for 10 months, the pit was dead, 3 minors including 2 brothers died due to drowning

  • पीडब्ल्यूडी ब्रिज विभाग कर रहा था काम, दो दिन से लापता थे तीनों नाबालिग, सोमवार दोपहर गड्‌ढे में मिले शव

दैनिक भास्कर

Jun 30, 2020, 04:00 AM IST

बीना. पीडब्ल्यूडी ब्रिज विभाग की लापरवाही से शहर में बड़ा हादसा हो गया। दरअसल बीना के शास्त्री वार्ड में 10 माह पहले ओवरब्रिज बनाने के लिए गड्‌ढा खोदा गया था। जिसमें डूबने से 3 नाबालिक बच्चों की मौत हो गई। ये तीनों बच्चे रविवार की शाम करीब 6 बजे से लापता थे। 
शव मिलने की सूचना पर एसडीओपी डीआरएस चौहान,तहसीलदार संजय जैन,थाना प्रभारी कमल सिंह ठाकुर सहित स्टाफ मौके पर पहुंचा और पंचनामा कार्रवाई करने के बाद तीनों शवों को बाहर निकालकर सिविल अस्पताल भेजा गया। जहां कलेक्टर के आदेश पर देर शाम तक तीनों के पीएम अस्पताल में किए गए और शव परिजनों को सौंपे गए। बाद में प्रशासन की मदद से तीनों का अंतिम संस्कार किया गया।
रविवार शाम से लापता थे तीनों नाबालिक
शास्त्री वार्ड स्थित नई सब्जी मंडी टीनशेड में रहने वाले 2 सगे भाई उमेश पिता बब्लू पंथी 12 वर्ष,कान्हा पिता बब्लू पंथी 9 वर्ष निवासी मढ़िया वार्ड एवं मुलू पिता राजू आदिवासी उम्र 16 वर्ष निवासी सागर से तीनों रविवार की शाम से 6 बजे से लापता थे। जिन्हें परिजनों के द्वारा खोजा जा रहा था। जिनका शव दूसरे दिन सोमवार को शाम सब्जी मंडी के पास ही ओवरब्रिज के पिलर के लिए खोदे गए गड्ढे में उतराते हुए मिले हैं। मृतकों के कपड़े गड्ढे के पास से ही अलग अलग स्थानों पर से मिले है। जिससे संभावना जताई जा रही है कि तीनों बालक नहाने के लिए गड्ढे में कूंदे होंगे। जो बाद में संभल नहीं पाए और गड्ढे में ही डूब कर मौत हो गई।

बिना सुरक्षा के खुले पड़े गड्ढ़े ने ले ली 3 जान  
सागर रेलवे ट्रेक पर रेलवे बायपास से गांधी तिराहा बनाए जा रहे ओवरब्रिज का निर्माण कार्य अमर कंट्रेक्शन कंपनी द्वारा कराया जा रहा। ठेकेदार द्वारा ओवरब्रिज के पिलर के लिए सब्जी मंडी में मस्जिद के पास 20x15 एवं करीब 15 फीट गहरा एक गड्ढ़ा करीब 10 माह पहले खोदा गया था। जिसमें न पिलर का निर्माण किया। न उसकी सुरक्षा के इंतजाम किए। खुले पड़े गड्ढ़े में तीनों नाबालिक पहुंचे और नहाते समय डूबने से मौत हो गई। यहां के लोगों का कहना है कि हादसे के पहले भी कई बार अफसरों ने गड्‌ढा खुला होने की बाद कही,लेकिन किसी ने कोई कार्रवाई नहीं की। शहर में कई जगहों पर इसी तरह छोटे-बड़े गड्‌ढे खुले पड़े हैं जिससे और भी हादसे हो सकते हैं। 

कबाड़ा बीन कर चलाते थे परिवार
शव मिलने के बाद परिजनों को रो-रो कर बुरा हाल था। गड्ढे से शव बाहर निकालते ही उमेश,कान्हा की मां ने दुनिया छोड़ चुके बच्चों को गले से लगा लिया और चिल्ला-चिल्ला कर रोने लगी वहीं मुलू का अपाहिज भाई हल्ले आदिवासी गड्ढे के पास ही बैठ कर रोता रहा। जिससे सभी की आंखे नम हो गई। हल्ले ने बताया कि भाई कबाड़े का सामान बीन कर बैंचता था और घर चलाता था।

मामले के जुड़े जिम्मेदारों के तर्क  
 पीडब्ल्यूडी ब्रिज की एसडीओ साधना सिंह को लापरवाही के मामले में नोटिस भेजा जा रहा। वहीं एसडीओपी पुलिस को मामले की जांच कर अमर कंट्रेक्शन कंपनी के सुपर बाइजर चंद्रकांत पटेल के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने को कहा गया है। इसके अलावा तहसीलदार से 6/4 का प्रकरण तैयार करने को कहा गया है। जिससे परिजनों को आर्थिक सहायता मिल सके।  
अमृता गर्ग, एसडीएम
^पिलर के लिए कोई गड्ढा नहीं खोदा गया। जहां घटना हुई है वह तो नाला है। बाद में गड्ढे की सुरक्षा के लिए टीन लगाए गए थे, लेकिन वह चोरी चले गए। लॉकडाउन के चलते न मजदूर मिल रहे हैं और नही मिस्त्री इसलिए काम बंद पड़ा हुआ है।
साधना सिंह, एसडीओ ब्रिज
 थाना प्रभारी जांच एवं ब्यान लेने के बाद लापरवाही करने वालों के खिलाफ एफआईआर की जाएगी।वहीं थाना प्रभारी कमल सिंह ठाकुर का कहना है कि शव मिलने के बाद मर्ग कायम कर लिया गया है,जिसकी जांच की जा रही है। डीआरएस चौहान, एसडीओपी

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना