बीना में किसानों की उम्मीद पर बारिश ने फेरा पानी:उड़द की फसल हुई खराब, फलियां हुई अंकुरित, अब किसान बीमा और मुआवजा राशि की कर रहे मांग

बीना6 दिन पहले

बारिश से उड़द की फसल पूरी तरीके से बर्बाद हो गई है। तैयार खड़ी फसल की फलियों में अंकुरण हो गया है। इसके पहले बारिश और बाढ़ से कई गांवों के किसानों की फसल भी बर्बाद हो चुकी है। अब किसान बीमा और मुआवजा राशि दिलाने की मांग कर रहे हैं।

खेतों में भरा पानी, फसलों को हुआ नुकसान

पिछले दिनों बीना क्षेत्र में लगातार हुई बारिश का पानी खेतों में भर गया। बारिश से सबसे ज्यादा नुकसान उड़द की फसल को हुआ है, क्योंकि फसल तैयार खड़ी थी, जिसकी कटाई कर थ्रेसिंग करानी थी, लेकिन अब बारिश के कारण खेतों के अंदर भी पहुंचना मुश्किल हो गया है। पानी के कारण फलियों के अंदर दानों में अंकुरित होने लगी है। किसान राजकुमार सिंह ठाकुर ने बताया कि बारिश के पानी से उड़द की फसल खराब हो चुकी है। अंकुरित होने से दाना खराब हो जाएगा। किसानों को इससे बड़ा नुकसान हो सकता है।

बीना में बारिश के आंकड़े ने किसानों को पहुंचाया नुकसान

पिछले दिनों हुई बारिश से किसानों को भारी नुकसान हुआ है। 2 दिनों में चार इंच बारिश का आंकड़ा दर्ज किया गया है। अब तक बीना तहसील में करीब 1512.6 मिमी बारिश हो चुकी है, जो औसत बारिश से 300 मिमी ज्यादा है। वर्ष 2019 के बाद इस वर्ष इतनी अधिक बारिश हुई है।

मुआवजा की मांग कर रहे किसान

बारिश और बाढ़ से बर्बाद हुई फसलों का मुआवजा दिलाने की मांग अब किसान कर रहे हैं। किसान मनोज तिवारी, नत्थू कुशवाहा ने बताया कि उड़द की ही फसल से सबसे ज्यादा फायदा होनी की उम्मीद थी। लेकिन बारिश से फसल खराब हो गई। किसान शत प्रतिशत हुए नुकसान का मुआवजा दिलाने की मांग कर रहे हैं।

फैक्ट फाइल

फसल- रकबा

  • सोयाबीन- 34900
  • उड़द- 9800
  • धान- 6050 हेक्टेयर

खबरें और भी हैं...