पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मंदिर के कपाट खुले:15 माह बाद खुले जटाशंकर धाम मंदिर के कपाट, श्रद्धालुओं ने की पूजा

छतरपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बिजावर|जटाशंकर धाम मंदिर के कपाट खुलने के बाद दर्शन करते श्रद्धालु। - Dainik Bhaskar
बिजावर|जटाशंकर धाम मंदिर के कपाट खुलने के बाद दर्शन करते श्रद्धालु।
  • कोरोना की पहली लहर शुरू होते 19 मार्च 2020 को बंद हुए थे

प्रसिद्ध तीर्थ एवं पर्यटन स्थल श्री जटाशंकर धाम में मुख्य मंदिर के कपाट गुरुवार को श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए। यहां कोरोना काल की पहली लहर आरंभ होने के समय 19 मार्च 2020 से श्रद्धालुओं का मंदिर में प्रवेश बंद था। पिछले साल लॉकडाउन हटने के बाद लोगों को मंदिर के बाहर से ही दर्शन करवाए जा रहे थे।

वहीं पुजारी द्वारा मंदिर में नियमित पूजा अर्चना की जाती रही। अब करीब 15 माह बीतने के बाद गुरुवार को आम श्रद्धालुओं के लिए मंदिर के कपाट खोल दिए गए। शासन की गाइड लाइन के अनुसार धार्मिक स्थलों को खोले जाने के दिशा निर्देश के तहत एसडीएम राहुल सिलाड़िया ने गुरुवार को ही मंदिर खोले जाने के संबंध में पत्र जारी किया था।

लोक न्यास श्री जटाशंकर धाम ने श्रद्धालुओं को व्यवस्थित तरीके से कोरोना से बचाव की गाइडलाइन का पालन करते हुए दर्शन करवाए जाने की व्यवस्था बनाई। गुरुवार की दोपहर में श्रद्धालुओं के लिए कपाट खोले जाने के पहले मंदिर में विशेष पूजा अर्चना की गई। राजभोग के बाद कपाट आमलोगों के लिए खोल दिए गए। इस दौरान मंदिर के पुजारी सहित न्यास कोषाध्यक्ष राकेश धतरा, अधीक्षक जेपी खरे, पुजारी राम अवतार तिवारी, चौकी प्रभारी केएल दुबे मौजूद रहे। न्यास अध्यक्ष अरविंद अग्रवाल ने भी शिव धाम पहुंचकर व्यवस्थाओं का जायजा लिया।

2 कुंडी फिलहाल बंद रहेंगी लेकिन शादी विवाह हो सकेंगे
इस संबंध में न्यास अध्यक्ष ने बताया कि फिलहाल 3 कुंडी में से केवल एक कुंडी से जल भरकर मंदिर में भगवान श्री को अर्पित किया जा सकेगा। व्यवस्था के लिहाज से 2 कुंडी फिलहाल बंद रहेंगी। स्नान पर पहले की ही तरह रोक है। साथ ही दर्शनार्थियों को मास्क और सोशल डिस्टेंस का भी पालन करना होगा। शिव धाम श्री जटाशंकर में शादी व्याह के लिए एसडीएम से अनुमति लेना जरुरी होगा। इस पर निर्धारित गाइडलाइन के तहत शादी व्याह हो सकेंगे।

खबरें और भी हैं...