पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ताक पर नियम, कानून:पत्नी का इलाज कराने गए दलित के घर पर चलवा दिया बुल्डोजर

छतरपुर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
छतरपुर/लवकुशनगर| लवकुशनगर की बस्ती के बीच हो रहा खनन - Dainik Bhaskar
छतरपुर/लवकुशनगर| लवकुशनगर की बस्ती के बीच हो रहा खनन
  • लवकुशनगर क्षेत्र में डीजी मिनरल्स कंपनी ने हजारों हरे पेड़ों को उजाड़ पर्यावरण को पहुंचाई क्षति

लवकुशनगर के शासकीय डिग्री कॉलेज और एक्सीलेंस स्कूल, गर्ल्स स्कूल के समीप स्थित बस्ती से सटी पहाड़ी पर भोपाल की ग्रेनाइट कंपनी डीजी मिनरल्स द्वारा नियम कानून को ताक में रखकर बेशकीमती पत्थर का खनन किया जा रहा है। कंपनी ने हजारों हरे भरे पेड़ों को नष्ट कर पर्यावरण को अपूर्णनीय क्षति पहुंचाई है। नगर के वार्ड क्रमांक 15 के प्रभूदयाल अहिरवार ने बताया कि वह अपनी बीमार पत्नी का इलाज कराने दिल्ली गया था। इसी दौरान मौका पाकर कंपनी ने बुल्डोजर चला कर उसका घर जमींदोज कर दिया। प्रभूदयाल ने अधिकारियों को शिकायत की लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। यह पहाड़ी बस्ती के बीच स्थित है। इससे सटे हुए 2 डिग्री कॉलेज, दो हायर सेकंडरी स्कूल मौजूद हैं। इसी में हिंगलात देवी मंदिर भी है। साथ ही इसके इर्द गिर्द घनी बस्ती भी है। स्थानीय लोगों के विरोध के बावजूद शासन ने शहर के बीचोबीच स्थित पहाड़ की लीज स्वीकृत कर दी थी।

नगर परिषद ने भी अपनी एनओसी देदी। अब यह खनन स्थानीय लोगों के लिए परेशानी का सबब बन गया है। खनन के चलते व ब्लास्टिंग के दौरान पत्थर एवं पत्थर के टुकड़े उछल कर नीचे गिर रहे हैं। जिससे हमेशा किसी अप्रिय घटना की आशंका बनी रहती है। गौरतलब है कि खसरा क्रमांक 593 जिसका कुल रकबा करीब 42 हेक्टेयर है। इसी रकबा में से पूर्व में शासन ने 11.85 हेक्टेयर पत्थर खनन के लिए लीज भोपाल की कंपनी डीजी मिनरल्स को आवंटित की थी। लेकिन कंपनी संचालक द्वारा इसी पहाड़ से सटे अन्य खसरा नंबर 2206 व 2207 में अवैध तरीके से पत्थर खनन कर सरकार की राजस्व आय में क्षति पहुंचाई जा रही है। पहाड़ी के समीप ही शासकीय डिग्री कॉलेज है। पहाड़ पर रोजाना बड़ी -बड़ी मशीनें चलने, ब्लास्टिंग होने शोरगुल व पहाड़ की डस्ट से परेशान होकर प्राचार्य ने शासन को इसे बंद करने के लिए पत्र लिखा गया था। लेकिन इस पर पत्रों पर कोई गौर नही किया गया। शिकायतकर्ता प्रवीण रिछारिया ने बताया कि कंपनी द्वारा एनजीटी के नियमों का पालन नहीं करने के विरोध में भोपाल स्थित कार्यालय में कई बार मौके की जांच कराने की शिकायत की गई। लेकिन आज तक कोई जांच नहीं हो सकी।

मुक्तिधाम में हो रहा खनन
कंपनी द्वारा नगर परिषद के अाधिपत्य के मुक्तिधाम के अंदर भी अवैध रूप से पत्थर का खनन किया जा रहा है। मुक्तिधाम के अंदर मशीनें लगाकर पत्थर निकाला जा रहा है। यहां मृत्यु के बाद अंतिम संस्कार के लिए लोगों को समस्याओं का सामना करना पड़ता है।
कंपनी पर होगी कार्रवाई
डीजी मिनरल्स ग्रेनाइट कंपनी की बहुत शिकायतें मिल रही हैं। टीम गठित कर जांच कराई जाएगी। कंपनी के खिलाफ अवैध खनन का प्रकरण तैयार किया जाएगा।-पीयूष भट्ट, एसडीएम लवकुशनगर।

खबरें और भी हैं...