पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पन्ना कांग्रेस में बदलाव:'महल' से निकल जनता के बीच आई कांग्रेस, शारदा पाठक को बनाया जिलाध्यक्ष; नगर पालिका अध्यक्ष रह चुकी हैं, कमलनाथ समर्थक हैं

पन्ना11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शारदा पाठक। - Dainik Bhaskar
शारदा पाठक।

एक दशक के लंबे अंतराल के बाद कांग्रेस ने पन्ना का जिलाध्यक्ष आखिरकार बदल ही दिया। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ ने दिग्विजय सिंह समर्थक 'महल' से बाहर का जिलाध्यक्ष देकर पन्ना में कांग्रेस संगठन की मजबूती का संकेत दिया है।

बदलाव की वजह

वर्तमान जिलाध्यक्ष दिव्यारानी सिंह पन्ना राजपरिवार से ताल्लुक रखती हैं, जो अजय सिंह राहुल भैया समर्थक हैं। राजपरिवार की बहू होने के कारण वह समर्थकों और नेताओं से मिलने में ज्यादा रुचि नहीं रखतीं थी। पिछले 10 वर्षों से जिलाध्यक्ष होने के बाद पार्टी में उनके खिलाफ आक्रोश था। वह स्थानीय नेताओं से सामंजस्य बिठाने में असफल साबित हो रहीं थी। जिलाध्यक्ष के खिलाफ आठों ब्लॉक के अध्यक्षों ने मोर्चा खोल रखा था। इसका कारण उनका संगठन के कार्यक्रमों में रुचि न दिखाना था।

शारदा पाठक का करियर

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी ने शारदा पाठक को पन्ना का जिलाध्यक्ष बनाया है। पाठक कमलनाथ समर्थक हैं। 1996 में पार्षद पद से उन्होंने अपने कैरियर की शुरुआत की थी। इसके बाद प्रदेश कार्यसमिति सदस्य और फिर 2010-2015 के कार्यकाल में पन्ना नगर पालिका अध्यक्ष भी रहीं हैं। प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने बीते दिनों बनी नगरीय निकाय चुनावों की समिति में उन्हें भोपाल नगर निगम का सह प्रभारी भी बनाया था।

जिले में हैं 8 ब्लॉक

पन्ना जिले में 8 ब्लॉक हैं- पन्ना, देवेंद्रनगर, गुनौर, रैपुरा, पवई, सेमरिया, अजयगढ़ और धर्मपुर। शारदा पाठक कांग्रेस संगठन को मजबूत करने में कितनी भूमिका अदा कर पाती हैं, देखना दिलचस्प होगा। स्थानीय राजनीतिज्ञ विशेषज्ञों की मानें तो शारदा पाठक ने आज तक ऐसा कोई काम नहीं किया है, जिससे जिले के कांग्रेसी उनके झंडे तले आ जाएं। वह सिर्फ शहरी क्षेत्र की नेता रही हैं और पन्ना एक ग्रामीण इलाका है।

जिले में कांग्रेस की स्थिति

पन्ना जिले में 3 विधानसभा क्षेत्र हैं। लोकसभा खजुराहो है, जहां से भाजपा प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा सांसद हैं। 2 विधानसभा पन्ना और पवई भाजपा के पास हैं। पन्ना विधायक शिवराज सिंह चौहान सरकार के कैबिनेट मंत्री हैं। 1 विधानसभा गुनौर कांग्रेस के पास है, जिसके विधायक शिवदयाल बागरी हैं। पन्ना हमेशा से संघ का गढ़ रहा है। यहां की संसदीय सीट भाजपा के लिए सुरक्षित सीट मानी जाती है। पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती से लेकर विष्णु दत्त शर्मा तक, जो भी प्रत्याशी भाजपा हाईकमान ने बाहर से भेजें, वे सब इस सीट से बंपर वोटों से जीतकर संसद पहुंचे हैं।