पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जल संकट:14 करोड खर्च होने के बावजूद लवकुशनगर के कई वार्डों में नहीं पहुंचता नलों का पानी

छतरपुर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
छतरपुर/लवकुशनगर| चिलचिलाती धूप में साइकिल में डिब्बे टांग पर पानी भरकर लाता वार्डवासी। - Dainik Bhaskar
छतरपुर/लवकुशनगर| चिलचिलाती धूप में साइकिल में डिब्बे टांग पर पानी भरकर लाता वार्डवासी।

जल संकट से जूझ रहे लवकुशनगर वासियों को इस समस्या से स्थाई निजात मिले, इसके लिए 14 करोड़ की शहरी जलावर्धन योजना शुरू की गई थी। इस योजना के तहत छतरपुर रोड पर उर्मिल नदी से पाइप लाइन के माध्यम से पानी नगर में लाया गया है।

इस योजना के तहत नगर वासियों को चौबीस घंटे पानी उपलब्ध कराने का वादा नगर परिषद ने किया था। लेकिन वर्तमान में हालात यह हैं कि नगर के कई वार्ड के लोगों को नलों का पानी मुहैया नहीं हो पा रहा है। नगर के ऐसे अनेक वार्ड और गलियां है, जहां अब भी पानी सप्लाई की पाइप लाइन नहीं पहुंच पाई है। सरकार ने तो पानी की समस्या से निजात के लिए करीब 14 करोड की लगात से शहरी नल जल योजना के तहत घर घर पानी पहुंचाने का बंदोबस्त कर दिया है।

लेकिन धरातल पर पूरी तरह से योजना का क्रियान्वयन नहीं हो पाया है। गर्मी शुरु होते ही नगर में पानी की किल्लत सामने आने लगती है। नगर के वार्ड नंबर 2 गल्ला मंडी रोड के वाशिंदे पानी की परेशानी से जूझ रहे हैं।

गल्लामंडी रोड में गिने चुने हैंडपंप हैं

गल्ला मंडी रोड में अभी तक पाइप लाइन नहीं डाली गई है जिसके कारण स्थानीय निवासियों को हैंडपंप से पानी लाना पड़ता है, हैंडपंप में भी जल स्तर कम होता चला जा रहा है। जिसके कारण हैंडपंपों से भी अब पर्याप्त पानी नहीं निकल पाता है।

वार्ड नंबर 2 गल्लामंडी रोड में गिने चुने हैंडपंप हैं। इनमें पानी भरने वालों की लाइन लगी रहती है। लोगों को पानी के लिए घंटों इंतजार करना पड़ता है। अधिकारियों को इसकी जानकारी कई बार दी गई, इसके बावजूद इस ओर कोई गंभीरता से ध्यान नही दे रहे हैं। अधिकारियों से अनेकों बार मौखिक और लिखित रुप से वार्ड वासियों ने आवेदन भी दिए। लेकिन आवेदन ठंडे बस्ते में डाल दिये गए।

पानी की समस्या लंबे समय से है: वार्ड के बीके गुप्ता बताते हैं कि पानी की बहुत ज्यादा परेशानी होती है। कोरोना काल में डर डर के बाहर जाकर पानी लाने के लिए मजबूर हैं। अधिकारियों से निवेदन है कि पाइप लाइन डलवाई जाए ताकि पानी की समस्या से निजात मिले। नरेंद्र सिंह का कहना है कि पानी की समस्या लंबे समय से है। इसके लिए अनेकों बार मौखिक रुप अधिकारियों से निवेदन किया है। पाइप लाइन डलवा दी जाए लेकिन कोई सुनता ही नही है।

पाइप लाइन न होने से बढ़ी समस्या
नगर के अनेक वार्ड ऐसे अभी भी जहाॅं पर जल नल योजना के तहत पाइप लाइन नहीं डल पाई है। जिसके कारण लोगों को दूर से साइकिलों में डिब्बे टांगकर पानी लाने के लिए मजबूर होना पड़ता है। वार्ड नं. 2 में गल्ला मंडी रोड, वार्ड नं. 1 में सिंह कालौनी एवं अन्य वार्डों में भी पाइप नही बिछाई गई है। जिससे लोगों को नलों का पानी नहीं मिल पाता।
नलों से आ रहा गंदा पानी
जिन वार्डों में जल नल योजना के तहत पाइप लाइन से पानी आ रहा है उसमें भी गंदा और बदबूदार पानी आ रहा है। गंदे और बदबूदार पानी की समस्या के बारे में अधिकारियों को पूर्व में अनेकों बार अवगत कराया गया है लेकिन कुछ दिनों के बाद हालात ज्यो के त्यो हो जाते हैं। नगर वासियो को गंदा और बदबूदार पानी पीने के मजबूर बने हैं।

नगर परिषद लवकुशनगर के अधिकारी

क्यों : शहरी जलावर्धन योजना के तहत अभी तक सभी वार्डों में पाइप लाइन नहीं डाली गई है। अधिकारियों को लोगों की समस्या की जानकारी होने के बावजूद उनके द्वारा इस समस्या के निदान के लिए कोई उपाय नहीं किए गए।

दोनों वार्डो में जल्द पाइप लाइन बिछाई जा रही है। जल्द लोगों को इस समस्या से मुक्ति मिलेगी।-गोकुल प्रसाद प्रजापति, उपयंत्री, नगर परिषद लवकुशनगर।

खबरें और भी हैं...