पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

समीक्षा:दूध उत्पादन समितियों को बनाएं सुदृढ़ और मशरूम की खेती को दें बढ़ावा: कलेक्टर

छतरपुर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कृषि आदान की बैठक में कलेक्टर ने पशु-चिकित्सा सहित अन्य विभाग को दिए निर्देश

जिले में अवर्षा के चलते कृषि विभाग आकस्मिक कार्य योजना बनाए और मशरूम की खेती को बढ़ावा दें। पशु-चिकित्सा व दुग्ध उत्पादन समितियों को सुदृढ़ करें। इसके साथ ही मत्स्य विभाग ऐसे कृषकों, जिनके पास तालाब हैं उन्हें मछली पालन कराने और इच्छुक हितग्राहियों को मनरेगा योजना से मछली पालन के लिए खेत तालाब बनवाएं। कृषि आदान से जुड़े विभागों के कार्यालय प्रमुख मैदानी अमले के कार्यों की सतत समीक्षा करें। यह बात कलेक्टर शीलेंद्र सिंह ने कृषि आदान की समीक्षा बैठक के दौरान कही।

कलेक्टर ने कहा कि पशुपालन विभाग को जिले में दुग्ध उत्पादक समितियां गठित कराने व पशु टीकाकरण के स्थल पर हितग्राही पशुपालकों को जागरूक बनाने के लिए संगोष्ठी के जरिए उन्हें जानकारी दें और उनके लाभ भी बताएं। मैदानी अमला मुर्गी, गाय, भैंस व बकरी पालन की योजना में लाभ कैसे लिया जा सकेगा, इसकी जानकारी दें। सभी मैदानी अमले के कार्यों की समीक्षा कार्यालय प्रमुख करें।

उद्यान विभाग को अपने लक्ष्यों की पूर्ति समय सीमा में करने के निर्देश दिए गए। इसी के तरह कृषि, पशुपालन, मत्स्य एवं उद्यानिकी विभाग के मैदानी अमले को कार्य क्षेत्र के ग्रामों में चौपाल लगाकर विभाग से संबंधित योजनाओं की उन्नत जानकारी देने व लगाई गई चौपाल के फोटोग्राफ्स विभागीय अधिकारियों के माध्यम से उन्हें प्रेषित कराने के निर्देश दिए।

कलेक्टर ने खाद उपलब्धता की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि निर्धारित मूल्य से अधिक कीमत पर बिक्री न हो, साथ ही जरूरत पर किसानों को खाद मिले। खाद विभाग की समीक्षा में निर्देश दिए गए कि माह की 7 तारीख को मनाया जाने वाला अन्न उत्सव में अधिक से अधिक खाद्यान्न का वितरण करें।

जो सेल्समेन अनियमितता करते पाए जाएं उनके विरूद्ध कार्रवाई करें। किसान क्रेडिट कार्ड बनाने में तेजी लाएं। इस समीक्षा बैठक में कृषि, उद्यानिकी, मत्स्य, पशुपालन, अभियांत्रिकी, बीज निगम, मार्कफेड, नागरिक आपूर्ति निगम, सहकारिता, उप पंजीयक सहकारिता, वेयरहाउस, आपूर्ति अधिकारी और बाट माप विभाग के निरीक्षक मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...