पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

प्रशिक्षण:गाेशाला में तैयार हो रही जैविक खाद और औषधियां

छतरपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भास्कर संवाददाता
लवकुशनगर तहसील के सिजई ग्राम में स्थित स्वामी परमानंद गाेधाम गोशाला में बेसहारा गायों व गोवंश को प्रश्रय देकर उनका पालन पोषण किया जा रहा है। वहीं गोशाला में निकलने वाले गोबर से जैविक खाद तैयार की जाती, प्रतिवर्ष यहां करीब 150 किसान बाहर से आकर जैविक खेती करने के तौर तरीके सीखते हैं। 
तहसील मुख्यालय लवकुशनगर से करीब 10 किमी दूर और चंदला रोड पर मुड़ेरी के समीप सिजई गांव में स्थित स्वामी परमानंद गोधाम गोशाला बेसहारा गोवंश के लिए बड़ा सहारा है। सिजई में 50 एकड़ क्षेत्रफल में फैली हुई गोशाला में यहां करीब 250 गायें मौजूद हैं। वहीं समीपस्थ मुड़वारा हार में 50 एकड़ भूमि पर संचालित गोशाला में करीब 400 गाय मौजूद हैं। इन गायों के गोबर से खाद तैयार की जाती है। गोशाला के प्रबंधक स्वामी विमल योगी बताते हैं कि गोशाला में साल में करीब 2 बार प्रशिक्षण शिविर लगाए जाते हैं, जिनमें दूर-दूर से करीब 150 किसान आकर खेती करने के गुण सीखते हैं। खाद बनाने के तरीके सीखते हैं। हम यहां आने वाले किसानों को फसलों में जैविक खाद का उपयोग करने की सलाह देते हैं। किसानों को गोबर खाद वितरित भी की जाती है। 
मशीन से तैयार होते हैं गोबर के गमले
गोशाला के प्रबंधक स्वामी विमल योगी बताते हैं कि अभी तक गोबर के उपले (कंडे) पुराने तरीके से बनाए जाते थे। लेकिन अब एक मशीन मंगाई है, इसमें नए तरीके से कंडों का निर्माण करते हैं। मशीन से गोबर के गमले तैयार किए जाते हैं। इन गमलों में पौधे रोपने के बाद बड़ा होने पर मय गमले में जमीन में स्थापित कर दिया जाता है। जिससे पौधे के मरने के आसार नहीं रहते।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - कुछ समय से चल रही किसी दुविधा और बेचैनी से आज राहत मिलेगी। आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियों में कुछ समय व्यतीत करना आपको पॉजिटिव बनाएगा। कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती है इसीलिए किसी भी फोन क...

    और पढ़ें