पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोना इफेक्ट:इस बार नहीं होगा स्टेडियम में रावण दहन कार्यक्रम, प्रशासन ने आचार संहिता का हवाला देते हुए सहयोग से किया इनकार

छतरपुर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

छतरपुर शहर में 70 वर्षों से स्थानीय स्टेडियम में शहर की अन्नपूर्णा और लाल कड़क्का रामलीला समिति द्वारा रावण दहन का कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। इस बार जिला प्रशासन कोविड-19 नियमों और उप चुनाव के चलते लागू आचार संहिता का हवाला देते हुए सहयोग करन से इनकार कर रहा है। इसलिए इस बार की विजय दशमी पर स्टेडियम परिसर में रावण दहन कार्यक्रम नहीं होगा।

समिति अध्यक्ष दृगेंद्र देव सिंह ने बताया कि दशहरा उत्सव पर हर वर्ष छतरपुर शहर में रामलीला का मंचन श्री अन्नपूर्णा रामलीला समिति द्वारा रामचरित मानस मैदान में और लाल कड़क्का रामलीला समिति द्वारा महल तिहारा के पास किया जाता है। दोनों समितियों द्वारा स्थानीय स्टेडियम में रावण दहन का कार्यक्रम एक-एक वर्ष के अंतराल में किया जाता है। स्टेडियम में आयोजित रावण दहन कार्यक्रम में नगर पालिका प्रशासन द्वारा मंच, लाइट, साउंड सिस्टम, बेरीकेड्स, बैठक सहित अन्य व्यवस्थाएं लगातार की जा रही हैं।

इस वर्ष रावण दहन का कार्यक्रम लाल कड़क्का रामलीला समिति द्वारा किया जाना है। पर समिति द्वारा रामलीला मंचन एवं रावण दहन का कार्यक्रम न करने का निर्णय लिया है। इस संबंध में दोनों समितियों और सामाजिक संगठनों की बैठक रामचरित मानस मैदान में आयोजित की गई। बैठक में लाल कड़क्का रामलीला समिति ने इस कार्यक्रम करने में असहमति जताई।

सामाजिक संगठनों ने अन्नपूर्णा रामलीला समिति को रावण दहन का कार्यक्रम नियमित रूप से करने के लिए कहा। जिस पर समिति ने धर्महित को ध्यान में रखते हुए शहर के इस कार्यक्रम को कोविड-19 की गाइड लाइन व निर्देशों का पालन करते हुए कार्यक्रम करने की सहमति व्यक्त की।

शांति समिति की बैठक में प्रशासन ने किया इनकार

शांति समिति की बैठक के दौरान अन्नपूर्णा रामलीला समिति व सामाजिक संगठनों ने रावण दहन कार्यक्रम में प्रशासन द्वारा स्टेडियम में हर वर्ष की भांति इस बार भी व्यवस्थाएं कराने के लिए कहा। पर प्रशासनिक अधिकारियों ने आचार संहिता का हवाला देते हुए सहयोग करने के साथ व्यवस्थाएं करने से इनकार कर दिया।

जबकि इसके पहले भी कई बार आचार संहिता के दौरान शहर में रावण दहन कार्यक्रम हुए और प्रशासन ने सभी व्यवस्थाएं कराईं। प्रशासन इस धार्मिक कार्यक्रम में सहयोग न कर 70 वर्षों से शहर में चली आ रही परंपरा को तोड़ने का प्रयास कर रहा है। प्रशासन का सहयोग न मिलने से समिति भी इस रावण दहन में असमर्थ है।

अन्य व्यवस्थाएं न देने का पत्र में नहीं उल्लेख

जबकि मप्र शासन गृह विभाग मंत्रालय वल्लभ भवन भोपाल द्वारा 5 अक्टूबर 2020 को जारी पत्र में रामलीला मंचन एवं रावण दहन कार्यक्रम करने के बारे में लिखा गया है। इस पत्र में कहीं भी यह उल्लेख नहीं है कि प्रशासन द्वारा हर वर्ष रावण दहन कार्यक्रम में जो व्यवस्थाएं समिति को दी जाती हैं, वह इस वर्ष नहीं दी जाएं। इसके बाद भी प्रशासन द्वारा व्यवस्थाएं देने से मना किया गया है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज किसी समाज सेवी संस्था अथवा किसी प्रिय मित्र की सहायता में समय व्यतीत होगा। धार्मिक तथा आध्यात्मिक कामों में भी आपकी रुचि रहेगी। युवा वर्ग अपनी मेहनत के अनुरूप शुभ परिणाम हासिल करेंगे। तथा ...

और पढ़ें