पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सरकारी अंकड़े सही या जलती चिताएं:प्रशासन ने कोरोना से 59 मौतें स्वीकारीं, नगर पालिका ने 90 का कराया अंतिम संस्कार

छतरपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मृतकों की अस्थियां तक लने नहीं पहुंच रहे परिजन। इनसेट: मुक्तिधाम में अंतिम संस्कार करता नपा कर्मी। - Dainik Bhaskar
मृतकों की अस्थियां तक लने नहीं पहुंच रहे परिजन। इनसेट: मुक्तिधाम में अंतिम संस्कार करता नपा कर्मी।
  • भैंसासुर में 89 का और महोबा रोड के कब्रिस्तान में एक हुआ अंतिम संस्कार

जिले में 8 अप्रैल से 3 मई तक कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या 90 पहुंच गई है। सवाल यह है कि स्वास्थ्य आंकड़े सच मानें या मुक्तिधाम में जलती चिताएं। क्योंकि शहर के एक मुक्ति में दर्ज आंकड़ों के अनुसार 8 अप्रैल 3 मई सोमवार की शाम 5 बजे तक 90 लोगों का कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार किया गया। जबकि एक कब्रिस्तान में अप्रैल में एक व्यक्ति को कोरोना प्रोटाेकॉल के तहत दफनाया गया।

जिले में काेरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ने से जिला अस्पताल से लेकर मुक्तधाम और कब्रिस्तान तक भयावह स्थिति बनी हुई है। अब तो आलम यह है कि घाट पर शव जलाने की जगह तक नहीं बची है। मृतकों की संख्या बढ़ती देख नगर पालिका छतरपुर ने अपने कर्मचारी तैनात किए हैं, ताकि मृतकों के परिजनों को परेशानी न हो।

हमने मुक्तिधाम और कब्रिस्तान के रजिस्टर देखे तो यह चौकाने वाले आंकड़े सामने आए। शहर के सागर रोड स्थित मुक्तिधाम और शहर के अन्य कब्रिस्तानों में छतरपुर नगर पालिका के कुलदीप तिवारी, अश्वनी सिंह और मुकेश श्रीवास के नेतृत्व में परिषद के 16 कर्मचारी की दो शिफ्ट में ड्यूटी लगाकर प्रतिदिन सुबह 8 से शाम 6 बजे तक अंतिम संस्कार कर रहे हैं।

कर्मी बोले- नौकरी नहीं, मानव सेवा कर रहे

शहर में सागर रोड स्थित श्मशान घाट पर नगर पालिका के कुलदीप तिवारी, अश्वनी सिंह और मुकेश श्रीवास के नेतृत्व में विक्रम वाल्मीक, मंगल वाल्मीक, संजू वाल्मीक, पुरुषोत्तम वाल्मीक, राजेश चौहान, दिलीप, संजय, दुर्गा वाल्मीक, विवेक, रज्जन, लखन, लल्लू, कुलदीप, रामस्वरूप और सचिन सुबह 8 से शाम 6 बजे तक दो शिफ्ट में पूरे समय काम कर रहे हैं।

कोरोना पॉजिटिव शव आते ही पीपीई किट पहनकर मृतक के परिजन की मौजूदगी में दाह संस्कार कर रहे हैं। परिषद कर्मचारियों ने बताया कि यह ड्यूटी नहीं, बल्कि मानव सेवा है। निगम में कई कर्मचारी हैं, लेकिन मानव सेवा के लिए ईश्वर ने हमें चुना।

दो दिनों में कम हुआ शवों का आना

नपा कर्मचारी मुकेश श्रीवास ने बताया दो दिन से शवों का आना कुछ कम हुआ है। रोज 12-15 शव आ रहे हैं। प्लेटफार्म पर जगह नहीं होने से मुक्तिधाम के परिसर में शवों का दाह संस्कार किया जा रहा है। सोमवार की शाम तक यहां 3 शवों का अंतिम संस्कार किया गया।

जिनमें एक सामान्य और 2 कोरोना पॉजिटिव थे। सागर रोड के भैंसासुर मुक्तिधाम पर तैनात सुपरवाइजर सचिन वाल्मीक ने बताया इसके पहले रविवार को 4 शव पहुंचे। पिछले दो दिन से शवों की संख्या कम हुई है। जबकि इससे पहले प्रतिदिन 12-14 शवों का अंतिम संस्कार किया जा रहा था।

मुक्ति धाम में हर दिन खत्म हो रहीं लकड़ियां

पिछले 18 साल से श्मशान की चौकीदारी कर रहा हूं। कभी नहीं घबराया, लेकिन अब लोगों को रोते-बिलखते देखता हूं तो मेरा भी मन उदास हो जाता है। पता नहीं ईश्वर कब तक ऐसे दिन दिखवाता रहेगा। जिला अस्पताल से पास भैंसासुर मुक्तिधाम होने के कारण सभी कोरोना पॉजिटिव मरीजों के शव यहीं पर जलाने के लिए लाए जा रहे हैं।

मुक्तिधाम के टीन शेड में जगह नहीं होने से परिसर में शवों के दाह संस्कार करना पड़ रहा है। इसके पहले कभी इतने शव नहीं देखे। नगर पालिका द्वारा लाई जा रही लकड़ियां प्रतिदिन खत्म हो जाती हैं। परिसर में पिछले दिनों हुए अंतिम संस्कार की अस्थियां तक लेने के लिए लोग नहीं आ रहे।
- भुमानी सिंह, चौकीदार भैंसासुर मुक्तिधाम

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - कुछ समय से चल रही किसी दुविधा और बेचैनी से आज राहत मिलेगी। आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियों में कुछ समय व्यतीत करना आपको पॉजिटिव बनाएगा। कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती है इसीलिए किसी भी फोन क...

    और पढ़ें