महिला‎ वार्ड में लापरवाही‎:रात होने से पास‎ में शव रखकर सो गए थे परिजन,‎ सुबह शव मिला गायब‎

छतरपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिला अस्पताल प्रबंधन हमेशा‎ अपनी कमियों को लेकर सुर्खियों में‎ रहता है। पिछले सप्ताह अस्पताल‎ परिसर में एक-एक कर तीन प्रसव‎ होने पर चर्चा में रहा अब महिला‎वार्ड में भर्ती प्रसूता का मृत नवजात‎बच्चा जानवरों द्वारा ले जाकर क्षत‎ विक्षत करने का मामला सामने‎आया है वहीं अस्पताल प्रबंधन‎इस मामले की जानकारी न होने की‎बात कह कर अपना पल्ला झाड़‎रहा है।‎ जानकारी के अनुसार छतरपुर की‎ गोमती पत्नी गौरीशंकर जाटव देर‎रात सुरक्षित प्रसव के लिए जिला‎अस्पताल पहुंची। कुछ समय बाद‎महिला का सुरक्षित प्रसव तो हो‎गया, पर नवजात मृत पैदा हुआ।‎प्रसव के बाद नर्सिंग स्टाफ ने मृत‎नवजात का शव प्रसूता की सास‎छोटी बाई को सौंप दिया। अधिक‎रात होने के कारण परिजनों ने‎निर्णय लिया कि सुबह मुक्तिधाम‎जाकर उसे दफना देंगे। इसके बाद‎महिला वार्ड में भर्ती महिला के बाजू‎ में बच्चे का शव रखकर छोटी बाई‎सो गई। सुबह जब महिला‎ उठी तो‎ शव गायब‎ मिला।‎

परिजनों‎ ने अस्पताल परिसर के वार्ड‎ सहित‎ यहां-वहां शव को तलाश‎किया,‎ पर नहीं मिला। देर शाम‎नवजात‎ का शव क्षत विक्षत हालत‎ में‎ अस्पताल परिसर में मिला। ड्यूटी‎‎पर मौजूद नर्सिंग स्टाफ का कहना‎ है‎कि महिला के सो जाने से‎ जानवर‎शव को उठाकर ले गए‎ और क्षत‎ विक्षत कर दिया।‎‎

परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन पर‎ लगाए‎ लापरवाही के आरोप‎

महिला की सास ने अस्पताल‎‎‎ प्रबंधन पर आरोप लगाते हुए‎‎ बताया कि महिला वार्ड में नर्सिंग‎‎‎ स्टाफ ड्यूटी रहता है। इसके‎ साथ‎ ही जिला अस्पताल प्रबंधन‎‎ द्वारा‎ परिसर और वार्डों की सुरक्षा‎

के‎ लिए गार्ड लगाए गए हैं।‎ इसके‎ बाद‎ भी नवजात बच्चे का शव‎ महिला‎ वार्ड से कैसे गायब‎ हो‎गया।‎ जबकि प्रसूता और उसकी‎ सास‎ छोटी बाई वार्ड में भर्ती‎‎अन्य‎ मरीजों के साथ लेटी हुई‎ थी महिला ने आरोप लगाते हुए‎‎ कहा‎ कि इसका मतलब यह है‎ कि‎ प्रबंधन द्वारा लगाए गए सुरक्षा‎‎ गार्ड‎ अपनी ड्यूटी ठीक से नहीं‎ करते,‎ इसलिए नवजात का शव‎‎ बीच वार्ड‎ से गायब हो गया।‎‎‎

पुलिस को नहीं‎‎ मामले की‎ जानकारी‎

नवजात बच्चे का शव गायब‎ होने‎‎‎ और क्षत विक्षित शव जिला‎‎‎‎ अस्पताल परिसर में मिलने की‎‎‎‎ जानकारी न तो सिटी कोतवाली‎ में‎‎‎ आई है और न ही जिला‎ अस्पताल‎‎‎ चौकी में। हो सकता है‎ कि पीड़ित‎‎‎ पीड़ित पक्ष की‎ गलती हो इसलिए‎‎‎ उन्होंने पुलिस‎ में शिकायत न ही‎‎हो।‎ फिर भी‎ मामले की जानकारी‎‎ करता‎ हूं।‎ -‎‎

खबरें और भी हैं...