पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मनमानी:स्कूल के लिए 14 साल पहले किसान की जमीन ली लेकिन बदले में जमीन अब तक नहीं दी

छतरपुर23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • निजी जमीन के बदले शासकीय जमीन पाने किसान सालों से अधिकारियों के लगा रहे चक्कर

गौरिहार तहसील क्षेत्र के बारीगढ़ कस्बे में स्थित शासकीय उत्कृष्ट स्कूल निर्माण के लिए पिछले दिनों कस्बे के कुछ किसानों की शासन द्वारा जमीनें अधिगृहीत की गई। साथ ही प्रशासन द्वारा उनको दूसरी जमीन देने का आश्वासन दिया गया। पर प्रशासन की लापरवाही के चलते पूरे 14 साल बीत जाने के बाद भी इन किसानों को अन्य स्थानों पर जमीन दिलाते हुए कब्जा नहीं दिया गया। इन पिछले सालों में बारीगढ़ के बेनीप्रसाद चौरसिया और सूरज प्रसाद बनाम मप्र शासन के नाम आज भी यह मामला लंबित है। जबकि इन दोनों की मृत्यु कई साल पहले हो चुकी है। अब उनके बेटे इस जमीन पर कब्जा पाने के लिए शासकीय कार्यालयों के चक्कर लगा रहे हैं। इस संबद्ध में स्कूल प्रबंधन द्वारा भी तहसीलदार को कई बार पत्र लिखकर जमीनों की अदला-बदली करने के संबद्ध में अवगत कराया जा चुका है। आवेदक द्वारा भी जिला प्रशासन को कई बार आवेदन दिए गए।

इन आवेदनों पर लवकुशनगर एसडीएम से जुझारनगर नायब तहसीलदार को प्रकरण निपटाने के निर्देश दिए। इसके बावजूद भी कार्यालय और जुझारनगर नायब तहसीलदार की लापरवाही के चलते जमींन की अदला-बदली प्रकरण का निराकरण नहीं हो सका। इस कारण 14 साल गुजर जाने के बाद भी सरकारी स्कूल निजी भूमि में दर्ज है और किसानों को इसके बदले में अन्य जमीन उपलब्ध नहीं हो पा रही है। आवेदक मनोज कुमार चौरसिया ने दो बार सीएम हेल्पलाईन, दो बार कलेक्टर के यहां लंबित प्रकरण का निराकरण करने की मांग की, पर कार्रवाई वहीं पर अटकी हुई है।

किसानों की जमीन गई, दूसरी मिली नहीं

बारीगढ कस्बे में स्थित हायर सेकंडरी स्कूल निर्माण के लिए शासन को वर्ष 2006-07 में जमीन की जरूरत पड़ी। इसके लिए शासन ने बेनीप्रसाद चौरसिया और सूरज प्रसाद चौरसिया के स्वामित्व की भूमि खसरा नंबर 2054 में से 0.049 हेक्टेयर जमींन अधिग्रहीत की। इसके बदले में शासन ने इन किसानों को जुझारनगर हल्का की खसरा नंबर 2052/1 रकवा 3.165 हेक्टेयर में से 0.049 हेक्टेयर जमीन दी। इसी तरह भूमि खसरा नंबर 2056 के रकवा में से 0.987 हेक्टेयर में से 0.587 हेक्टेयर भूमि शासकीय उत्कृष्ट स्कूल के खसरा नंबर 2057 के रकवा 0.559 हेक्टेयर में से रकवा 0.004 हेतु भूमि की भवन के लिए अधिगृहीत की।

जिसके बदले में शासन द्वारा 2137/2 और 2055 से कुल 0.591 हेक्टेयर भूमि दी गई। शासन ने यह कार्रवाई सिर्फ अपने सरकारी रिकार्ड में ही की है। लेकिन अभी तक मौके पर इन किसानों को 14 साल बाद भी कब्जा नहीं मिल सका। अधिग्रहित जमीन पर स्कूल भवन बनकर तैयार है, जिससे किसानों के स्वामित्व की जमीन भी चली गई और दूसरी मिली भी नहीं।

स्कूल की जमीन पर प्लॉटिंग की शुरू
बारीगढ़ कस्बे के शासकीय उत्कृष्ट स्कूल की जमीन आज भी बारीगढ़ के किसान बेनीप्रसाद आैर सूरज प्रसाद चौरसिया के नाम पर दर्ज है। इस बात का फायदा उठाते हुए मनोज चौरसिया के चचेरे भाइयों ने इस जमीन की प्लॉटिंग शुरू कर दी है। मनोज के एक चचेरे भाई ने पिछले दिनों गांव के लोगों को तीन से अधिक प्लॉट बेंच भी दिए हैं। यदि अब भी राजस्व विभाग ने इस स्कूल की जमीन का नामांतरण नहीं किया तो आने वाले दिनों में शासन और विक्रेताओं के बची विवाद शुरू हो जाएगा।
फरियादी को तहसील भिजवा दें, मैं दिखवाता हूं
^इस मामले की मेरे पास अधिक जानकारी नहीं है, इसलिए फरियादी को कल ही दस्तावेजों सहित गौरिहार तहसील भिजवा दें। इस मामले को प्राथमिकता से दिखवाता हूं और किसान की समस्या हल कराता हूं।
-शैवाल सिंह, प्रभारी तहसीलदार गौरिहार

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप प्रत्येक कार्य को उचित तथा सुचारु रूप से करने में सक्षम रहेंगे। सिर्फ कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा अवश्य बना लें। आपके इन गुणों की वजह से आज आपको कोई विशेष उपलब्धि भी हासिल होगी।...

    और पढ़ें