पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • Damoh
  • 1000 Cross Corona Patients In 7 Days, 144 New Cases In District, Eight Died, 263 People Lost Their Lives So Far

बेकाबू संक्रमण:7 दिन में 1000 पार कोरोना मरीज, जिले में 144 नए केस, आठ की मौत, अब तक 263 लोगों ने गंवाई जान

दमोह2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दमाेह। काेविड आईसीयू में खाली पड़े पलंग। जिन पर अब मरीजों को भर्ती करना शुरू कर दिया है। - Dainik Bhaskar
दमाेह। काेविड आईसीयू में खाली पड़े पलंग। जिन पर अब मरीजों को भर्ती करना शुरू कर दिया है।
  • 8 मरीज ठीक हुए, पिछले साल 7 मई तक नहीं था एक भी पॉजिटिव, पहला केस 14 मई को मिला था

जिले में शुक्रवार को कोरोना से फिर 8 लोगों की मौत हो गई। काेरोना की दूसरी लहर में अब तक 263 लोग अपनी जान गवां चुके हैं। जिला अस्पताल में 4 लोगाें की माैत हुई, पथरिया के 2 एवं हटा में 1 मरीज की मौत हुई।

शुक्रवार काे 144 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं। अस्पताल में भर्ती दो मरीजों की कोरोना से मौत होने के बाद उनके परिजनों को तलाशने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। दरअसल इन मरीजों के परिजनों के मोबाइल नंबर दर्ज नहीं किए गए थे, जिससे मौत होने के बाद अस्पताल प्रबंधन परिजनों को मोबाइल पर सूचना नहीं दे पा रहे थे। ऐसे में चार में से दो शव अंतिम संस्कार को भेज दिए गए थे, जबकि दो शव इसलिए रोक लिए गए, क्योंकि उनके परिजनों के बारे में कोई सूचना नहीं मिल रही थी। दोपहर 3 बजे तक अस्पताल में हड़कंप की स्थिति बनी हुई थी। परिजनों की तलाश करने में अमला लगा हुआ था।

इधर 7 दिन में 1054 पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं। जबकि पिछले साल कोरोना की पहली लहर में जिले में 7 मई तक एक भी पॉजिटिव केस सामने नहीं आया था। जिले के तेंदूखेड़ा ब्लाक के सर्रा गांव में 14 मई को काेरोना का पहला पॉजिटिव केस आया था। लेकिन इस बार दूसरी लहर में मई के 7 दिनों में पॉजिटिव मरीजों की संख्या एक हजार के पार पहुंच गई है।

मरीजों की संख्या लगातार बढ़ने से शहर में पांच कोविड सहायता केंद्र बनाए गए हैं जहां कोरोना के सामान्य लक्षणों वाले मरीजों को परामर्श इलाज जांच की व्यवस्था कराई जा रही है। वहीं कोविड केयर सेंटरों की संख्या भी बढ़ाई जा रही है जिससे जिला अस्पताल में मरीजों की संख्या कम हो सके।

800 होम क्वारेंटाइन, लेकिन निगरानी नहीं
जिले में करीब 800 मरीज होम क्वारेंटाइन होकर इलाज ले रहे हैं। लेकिन इनकी निगरानी नहीं हो रही है। संक्रमित मरीज अपने घरों के बाहर बाजार में भी घूमते देखे जा रहे हैं। लोगों द्वारा अधिकारियों को बताया जा रहा है। लेकिन ऐसे लोगाें को घरों में रहने के लिए केवल समझाइश दी जा रही है। यदि निगरानी की जाए और सख्ती दिखाई जाए तो अन्य लोग संक्रमित होने से बच सकते हैं। केवल फोन पर ही इनसे संपर्क किए जाने की बात सामने आ रही है।

सबसे ज्यादा पॉजिटिव मरीज शहरी क्षेत्र से आ रहे
शुक्रवार को आए नए मरीजों में दमोह से 27, खमरिया से 1, कुम्हारी से 2, किन्द्रहो से 3, बकेनी से 1, सासा से 1, पिपरिया से 1, बटियागढ से 1, आमचौपरा से 1, देवडोंगरा से 1, पथरिया से 26, बोतराई से 4, बांसाकला से 3, नदंरई से 10, मिरजापुर से 11, सूखा से 2, सगोनी से 1, खिरिया से 1, नरसिंहगढ से 2, समन्ना से 1, पुरापायरा से 1, हटा से 11, तेंदूखेडा से 10, खेजरा से 1, झागरी से 1, डोडंलखेडी से 1, ढिगसर से 1, अभाना से 2, बम्होरी से 2, टीला से 3, नोरू से 1, सतपारा से 2, बेलखेडी से 1, भाटखमरिया से 1, जबेरा से 6, राजाबंदी से 2, पटेरा से 1, तेजगढ से 1, उमरिया से 1, इमलिया से 1, रजपुरा से 1, बोरीकला से 1, जमुनिया से 1, रसीलपुर से 1 शामिल हैं।

आठ मरीज ठीक हुए : शुक्रवार को जिला अस्पताल से 4, बटियागढ़ से 4 मरीज स्वस्थ्य हुए जिन्हें घर रवाना किया गया। इसके अलावा दो दिनों में होम आइसोलेशन वाले 38 मरीज स्वस्थ्य हुए हैं।

कोविड आईसीयू बताया खराब, अब भर्ती हो रहे मरीज
जिला अस्पताल के कोविड आईसीयू में खराबी बताकर एक सप्ताह पहले मरीजों को शिफ्ट किया गया था। लेकिन अब फिर से मरीजों को भर्ती किया जाने लगा है। शुक्रवार को यहां 12 में सिर्फ चार पलंग खाली थे। सिविल सर्जन डॉ. ममता तिमोरी ने बताया कि कोविड आईसीयू चालू है। पहले कुछ गड़बड़ी थी। लेकिन अब मरीजों को भर्ती किया जाने लगा है। पहले प्रबंधन पर आरोप लगा था कि जिनकी सिफारिश आ रही है, उन्हें ही भर्ती किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...