दमोह में इनकम टैक्स की सबसे बड़ी रेड:शराब कारोबारी राय बंधुओं के 12 ठिकानों से 3 किलो के जेवर और 6.50 करोड़ रुपए जब्त

दमोह22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दमोह| सुबह रेड के समय दस्तावेज और रुपए जब्त करने के लिए खाली पेटियां मंगाई गई। रात को दस्तावेज और नोट पेटी व बैग में भरकर ले गए। - Dainik Bhaskar
दमोह| सुबह रेड के समय दस्तावेज और रुपए जब्त करने के लिए खाली पेटियां मंगाई गई। रात को दस्तावेज और नोट पेटी व बैग में भरकर ले गए।

शहर के राय चौराहा स्थित राय बंधुओं के 12 ठिकानों पर गुरुवार को तड़के 5 बजे जबलपुर से एक साथ 40 चार पहिया वाहनों में पहुंचे 100 से ज्यादा अधिकारियों ने रेड मारी। देर रात तक चली कार्रवाई के दौरान अधिकारियों ने करीब 6.50 करोड़ रुपए कैश जब्त किए। जिसमें तीन करोड़ की राशि संजय राय के पास जबकि ढाई करोड़ से ज्यादा की राशि कमल राय के पास मिली है।

इन्होंने यह राशि बैग के अंदर रखकर पानी की टंकी के अंदर छिपा रखी थी। राशि आयकर विभाग को सरेंडर कर दी गई है। इसके अलावा बड़ी मात्रा में सूदखोरी से जुड़े दस्तावेज भी जब्त किए गए हैं। एक साथ सभी अधिकारियाें की गाड़ियां राय चौराहा पर पहुंची। यहां पर टीमों ने शंकर राय, कमल राय, राजू राय के निवास पर छापा मारा।

इसके बाद एक टीम हटा नाका स्थित संजय राय के निवास पर पहुंची। वहां भी पुलिस तैनात की गई। सर्चिंग के दौरान शंकर राय और उनके बेटे कांग्रेस नेता राजा राय के निवास पर कैश और दस्तावेज अधिक मिलने पर टीम ने नोट गिनने के लिए आसपास के 5 बैंकों से कैश काउंटिंग मशीनें बुलाई।

इनकम टैक्स विभाग की टीम ने राय स्थित राय परिवार के में कार्रवाई करती हुई। कार्रवाई रात 12:30 बजे तक चलती रही।
इनकम टैक्स विभाग की टीम ने राय स्थित राय परिवार के में कार्रवाई करती हुई। कार्रवाई रात 12:30 बजे तक चलती रही।

टीम के अधिकारियों ने बार-बार बैंक अधिकारियों से संपर्क किया और लॉकर से जुड़ी जानकारियां लीं। दोपहर 2.30 बजे अधिकारी बाजार से कैश और दस्तावेज रखने के लिए दो पेटियां खरीदकर लाए। टीम में शामिल अधिकारी ने बताया कि यह कार्रवाई 2 से 3 दिन तक चलेगी। टीम को ऐसे दस्तावेज हाथ लगे हैं, जिनमें सूदखोरी का कारोबार सामने आया है। कार्रवाई के बीच कमल राय ने कई दस्तावेज जलाने का प्रयास किया। काफी दस्तावेज उन्होंने नष्ट किए, फिर भी कुछ दस्तावेज हाथ लगे हैं। इनकी जांच चल रही है।

तीन दिन और चलेगी कार्रवाई, शराब कारोबारी की पत्नी का बीपी हाई , जबलपुर से नागपुर रेफर
दोपहर 12 बजे कंस्ट्रक्शन ठेकेदार राजू राय की पत्नी साधना राय की तबीयत बिगड़ गई। तुरंत उन्हें विभाग की कार से मिशन अस्पताल पहुंचाया गया। जहां पर हालत में सुधार न होने पर जबलपुर रेफर किया गया। उनका बीपी और शुगर लेवल बढ़ना बताया गया है। यहां से उन्हें नागपुर रेफर कर दिया गया है। इससे पहले कुछ दस्तावेज भी जलाए गए। जैसे ही अधिकारियों को बदबू आई, तुरंत टीमें पहुंचीं और दस्तावेज छीन लिए। अधजले दस्तावेज भी जब्त किए गए हैं। दोपहर में विद्या निकुंज में खाली पेटियां ले जाई गईं। जबकि गार्डलाइन स्थित राय निवास से दो बैग गाड़ी में रखवाकर टीम परिवार के एक सदस्य को लेकर रवाना हो गई। यह कार किल्लाई नाका की ओर गई और बैंक में बैग में रखीं चीजों को लेकर पुष्टि कराई गई। कार्रवाई को लीड कर रहीं अपर आयुक्त मुनमुन शर्मा ने बताया कि 3 किलोग्राम सोने-चांदी के जेवर भी मिले हैं। जिन्हें जब्त किया गया है। जांच पड़ताल जारी है।

होटल, लॉज, पेट्रोल पंप और जमीन की खरीद फरोख्त का भी कारोबार
यहां बता दें कि वर्ष 1984-85 में कांग्रेस के सरकार के दौरान नगरपालिका अध्यक्ष रहे शंकर राय का शराब और बस परिवहन का कारोबार है। उनके और उनके भाइयों के नाम पर शहर में कई होटल हैं। कई शहरों में शराब के ठेके संचालित होते हैं। परिवार पेट्रोल पंप का संचालन भी करता है, जो कारोबार वे संचालित कर रहे हैं, रिकाॅर्ड में उनके नाम से नहीं हैं। किसी दूसरे के नाम से कारोबार संचालित होता है। लेकिन उनका सारा लेखा-जोखा राय परिवार के पास होता है। देर रात टीम को कुछ दस्तावेज हाथ लगे तो उनकी पुष्टि के लिए टीमें शहर के अंदर ही पड़ताल करने में जुट गईं। सुबह मामले का खुलासा होने की उम्मीद है।

टीम के लिए रात 8.30 बजे गाड़ी से पहुंचा खाना
पड़ताल में जुटीं टीमों के लिए उनके कार्यस्थल से नहीं हटाया गया। कार्रवाई के बीच ही रात 8.30 बजे गार्डलाइन स्थित निवास पर होटल से पैक खाना की थालियां एक गाड़ी से पहुंची। इधर खुशबू होटल में परिवार के सदस्यों से अधिकारी चर्चा करते रहे। एक गाड़ी से कमल राय को वापस निवास पर लाया गया। बता दें कि कमल राय को दोपहर में एक गाड़ी से कहीं ले जाया गया था जहां से रात करीब 8 बजे वापस लाया गया। चौराहे से निकलने वाला हर कोई कार्रवाई को लेकर चर्चा करता नजर आया।

खबरें और भी हैं...