पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

सावन सोमवार:29 साल बाद रक्षाबंधन पर्व पर सर्वार्थ सिद्धि, आयुष्मान दीर्घायु का शुभ संयाेग

दमोह13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

रक्षाबंधन का पर्व सावन के आखिरी सोमवार 3 अगस्त को है। ज्योतिष के अनुसार इस बार रक्षाबंधन का मुहूर्त विशेष है, ऐसा शुभ संयोग 29 साल बाद आया है। ज्योतिष आचार्य पं. रवि शास्त्री के अनुसार रक्षाबंधन का त्योहार सावन माह की पूर्णिमा को मनाया जाता है, इस बार ये त्योहार सावन के आखिरी सोमवार को मनाया जाएगा। अगस्त के पहले सप्ताह में आने वाले राखी के पर्व पर सर्वार्थ सिद्धि और आयुष्मान दीर्घायु का शुभ संयोग बन रहा है, इसीलिए यह विशेष माना जा रहा है। पं. शास्त्री के अनुसार पूर्णिमा तिथि का प्रारंभ रविवार रात 9.28 बजे होगा।
यह तिथि सोमवार रात 9.28 बजे तक रहेगी। श्रावण नक्षत्र का प्रारंभ सुबह 7.18 बजे के बाद होगा। इस दिन भद्राकाल सुबह 9.28 बजे तक रहेगी, इसके बाद श्रावणी उपाकर्म एवं रक्षाबंधन का शास्त्र विधान है। सुबह 7.18 बजे से सर्वार्थ सिद्धि योग प्रारंभ हो जाएगा। इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग में श्रवण नक्षत्र एवं सोमवार के दिन रक्षाबंधन होने से इसका महत्व और बढ़ जाता है। इस दिन रक्षाबंधन मनाए जाने से भाईयों को रक्षाकवच का लाभ प्राप्त होगा।
बहनें राखी बांधते समय थाली में इन 5 चीजों को जरूर शामिल करें
1- राखी- आप अपने भाई की उम्र और पंसद के हिसाब से राखी चुन सकती हैं।
2- रोली- शुभ काम करते समय माथे पर तिलक लगाया जाता है, इसके लिए रोली का इस्तेमाल किया जाता है। तिलक लगाने के पीछे वैज्ञानिक कारण भी है, बीच माथे पर तिलक लगाने से शरीर को शक्ति मिलती है, आत्मविश्वास बढ़ता है।
3- चावल- माथे पर तिलक लगाने के बाद अक्षत यानि चावल लगाना शुभ माना जाता है, इसलिए पूजा की थाली में चावल के दाने भी रख लें, भाई को तिलक लगाने के बाद उस पर चावल लगा दें।
4- दीपक- भाई की लंबी उम्र और खुशहाली के लिए आरती की जाती है, इसलिये दीपक रख लें।
5- मिठाई- भाई का मुंह मीठा करने कोई भी मिठाई रख सकती हैं।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- मेष राशि के लिए ग्रह गोचर बेहतरीन परिस्थितियां तैयार कर रहा है। आप अपने अंदर अद्भुत ऊर्जा व आत्मविश्वास महसूस करेंगे। तथा आपकी कार्य क्षमता में भी इजाफा होगा। युवा वर्ग को भी कोई मन मुताबिक क...

और पढ़ें