• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sagar
  • Damoh
  • Damoh Sagar State Highway's 40 Km Road Is Dilapidated, If Complaints Were Made, The Officials Resolved It On Paper

धूल और गड्ढों से जूझ रहे लोग:दमोह-सागर स्टेट हाइवे की 40 किमी सड़क जर्जर, शिकायतें की तो अधिकारियों ने कागजों पर कर दिया निराकरण

दमोहएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एमपीआरडीसी की स्टेट हाइवे 14 दमोह-सागर सड़क बुरी तरह जर्जर हो गई है। 70 किमी में से 40 किमी सड़क राहगीरों के लिए आवागमन में मुसीबत पैदा कर रही है। 8 साल में सड़क पूरी तरह से उखड़ गई है। मगर रिपेयरिंग नहीं कराई गई। इधर जिला मुख्यालय पर तीन गुल्ली से सागर नाका चौकी के बीच में जगह-जगह सड़क पर गड्ढे हो गए हैं।

उड़ती धूल और इन गड्ढों की वजह से रहवासियों को परेशानी जा रही है। दिन भर सड़क पर धूल उड़ती है और गड्ढों के कारण हादसे का डर बना रहता है। स्थानीय निवासी पूरन साहू ने बताया कि उन्होंने इस की शिकायत सीएम हेल्प लाइन से लेकर कमिश्नर तक की है, लेकिन सड़क का काम चालू नहीं हो पाया है। रात के समय में सड़क से जो भी वाहन गुजरता है, उसकी स्पीड अधिक होती है। जिससे एक्सीडेंट हो जाते हैं। उन्होंने बताया कि न तो सड़क किनारे नालियां बनीं हैं और न ही सड़क गुणवत्ता से बनाई गई है। एक बार सड़क बनी तो उसकी रिपेयरिंग नहीं की गई।

ऐसी स्थिति में सालों से लोग मुसीबतें झेल रहे हैं। सीएम हेल्प लाइन पर शिकायत करने के बाद उनकी समस्या का निराकरण नहीं हुआ। बल्कि फर्जी तरीके से नंबर बदलकर दूसरे व्यक्ति से सीएम हेल्प लाइन बंद करा दी गई। मौके पर किसी तरह का सुधार नहीं हुआ। अधिकारी मौके पर कुछ नहीं कर रहे हैं, बल्कि शिकायत का निराकरण कराने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपनाते हैं। श्री साहू ने सीएम हेल्प लाइन नंबर 4755968,4812797 पर शिकायत की और सड़क की दोनों ओर एक-एक डामर कोड कराने की मांग की। तीन गुल्ली के पास रहने वाले मोहन लाल विश्वकर्मा, अभिलाष सोनी, कार्तिक साहू, जयकुमार विश्वकर्मा, पप्पू राठौर ने बताया कि यदि जल्द ही सड़क की मरम्मत नहीं की गई ताे आने वाले समय में सभी मोहल्लेवासी एकजुट होकर आंदोलन करेंगे। क्योंकि शहर के अंदर दो किमी सड़क उखड़ चुकी है और उससे लोगों को बीमारियों का डर बना हुआ है। इस संबंध में एमपीआरडीसी के महाप्रबंधक सुनील कालरा का कहना है कि सड़क की मरम्मत का टेंडर हो गया है। 12 से 14 करोड़ रुपए में रिपेयरिंग होना है। अभी काम प्रारंभ नहीं हुआ है। विभाग ने तय किया है कि सबसे पहले जहां पर ज्यादा जर्जर सड़कें हैं, वहां रिपेयरिंग कराई जाएगी।

कंपनी से छीन ली गई है सड़क
सागर-दमोह मार्ग जिस कंपनी ने अनुबंध करके बनाया था, उसने शर्तें पूरी नहीं कीं तो विभाग ने कंपनी से सड़क का अधिकार छीन लिया। अब एमपीआरडीसी को स्वयं सड़क का मेंटेनेंस कराना था, लेकिन पहले कंपनी ने नहीं कराया, अब विभाग स्वयं मेंटनेंस नहीं करा रहा है। जबकि सागर से लेकर दमोह तक सड़क के दोनों ओर विभाग स्वयं ही टैक्स वसूल रहा है।

खबरें और भी हैं...